खेल

खेल (4438)

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच पांचवां टेस्ट मैच ओवल के मैदान पर खेला जा रहा है। मैच से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली और जो रूट मैदान पर टॉस के लिए उतरे। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाज़ी का फैसला किया। इसी के साथ जो रूट ने एक ऐसा काम कर दिया जो पिछले 20 सालों से दुनिया का कोई भी कप्तान नहीं कर सका था।
रूट ने तोड़ा 20 साल पुराना रिकॉर्ड:-मौजूदा टेस्ट सीरीज़ में ये पांचवां मौका रहा जब इंग्लिश कप्तान ने टॉस जीता। जी हां, इस सीरीज़ के सभी मुकाबलों में टॉस जो रूट के पक्ष में ही गिरा और भारतीय कप्तान विराट कोहली मूक दर्शक बनकर खड़े रहे। कोहली ने इस सीरीज़ में एक भी टॉस नहीं जीता। ये भी कहा जा सकता है कि टॉस के मामले में कोहली थोड़े अनलकी रहे। पांचवें टेस्ट मैच में टॉस जीतकर जो रूट ने 20 साल पुराना रिकॉर्ड तोड़ दिया।कोहली से पहले उनसे पहले लाला अमरनाथ (बनाम वेस्टइंडीज, 1948/49) और कपिल देव (बनाम वेस्टइंडीज, 1982/83) पांच मैचों की श्रृंखला के सभी मैचों में टॉस हार गये थे। अमरनाथ के विरोधी कप्तान जॉन गोडार्ड और कपिल के क्लाइव लायड थे जबकि अभी जो रूट सभी टॉस जीतने में सफल रहे।
रूट ने की इनके रिकॉर्ड की बराबरी:-एक टेस्ट सीरीज़ के सभी पांच मैचों में टॉस जीतने का रिकॉर्ड इससे पहले ऑस्ट्रेलिया के कप्तान मार्क टेलर के नाम था। उन्होंने 1998-1999 में इंग्लैंड के खिलाफ ही एशेज सीरीज़ के सभी पांच मैचों में टॉस जीता था। मंसूर अली खां पटौदी भारत के एकमात्र कप्तान हैं जिन्होंने श्रृंखला के सभी पांच मैचों में टॉस जीते। इंग्लैंड के खिलाफ 1963-64 में हर मैच में सिक्के ने उनका साथ दिया था।
कोहली के पास भी है रिकॉर्ड बनाने का मौका:-भले ही टॉस जीतने के मामले में कोहली इंग्लिश कप्तान से पीछे हों, लेकिन इस सीरीज़ में रन बनाने के मामले में वो सबसे आगे हैं। कोहली ने इस सीरीज़ में अभी तक सबसे ज्यादा रन बनाए हैं। विराट ने इंग्लैंड के खिलाफ चार टेस्ट मैचों में अब तक 544 रन बनाए हैं और वो ग्राहम गूच के एक रिकॉर्ड को तोड़ने के करीब हैं। इंग्लैंड में किसी भी टेस्ट सीरीज में एक कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड ग्राहम गूच के नाम पर है। अगर विराट पांचवें टेस्ट मैच में 209 रन बना देते हैं तो वो इंग्लैंड की धरती पर कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन जाएंगे।ग्राहम गूच ने साल 1990 में भारत के खिलाफ तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 125 की औसत से 752 रन बनाए और इसमें तीन शतक भी शामिल थे। इन तीन शतकों में उनके करियर का बेस्ट स्कोर 333 भी शामिल था। पिछले 28 वर्ष से ये रिकॉर्ड वैसा ही है और इसे कोई भी नहीं तोड़ पाया है। 29 वर्ष के विराट ग्राहम गूच के रिकॉर्ड को तोड़ने से सिर्फ एक टेस्ट मैच ही दूर हैं। अगर विराट ऐसा कर पाते हैं तो वो 28 वर्ष पुराने रिकॉर्ड को तोड़ एक नया विश्व रिकॉर्ड बना देंगे।
कोहली जड़ चुके हैं दो शतक:-विराट इस वक्त इंग्लैंड के खिलाफ खेले जा रहे पांच टेस्ट मैचों की सीरीज में दो शतक और तीन अर्धशतक लगा चुके हैं साथ ही वो इंग्लैंड की धरती पर भारतीय कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बन चुके हैं। विराट ने पूर्व भारतीय कप्तान अजहर का रिकॉर्ड तोड़ा है। इससे पहले अजहर ने भारतीय कप्तान के तौर पर इंग्लैंड में सबसे ज्यादा 429 रन बनाए थे। विराट ने नॉटिंघम टेस्ट मैच के दौरान अजहर का ये रिकॉर्ड तोड़ दिया था। विराट फिलहाल कप्तान के तौर पर इंग्लैंड में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में छठे नंबर पर मौजूद हैं। आइए एक नजर डालते हैं इस आंकड़े पर।
- ग्राहम गूच (752 रन) - वर्ष 1990 तीन टेस्ट मैचों की सीरीज
- डेविड गॉवर (732 रन) - वर्ष 1985 छह टेस्ट मैचों की सीरीज
- सर गैरी सोबर्स (722 रन) - वर्ष 1966 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज
- ग्रीम स्मिथ (714 रन) - वर्ष 2003 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज
- एलन बॉर्डर (597 रन) - वर्ष 1985 छह टेस्ट मैचों की सीरीज
- पीटर मे (582 रन) - वर्ष 1955 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज
- एलन मेलविले (596 रन) - वर्ष 1947 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज
- विराट कोहली (544 रन) - वर्ष 2018 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज (अभी विराट एक टेस्ट मैच इस सीरीज का और खेलेंगे।
- सर डॉन ब्रैडमैन (508 रन) - वर्ष 1948 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज
- स्टेनले जैक्सन - (492 रन) - वर्ष 1905 पांच टेस्ट मैचों की सीरीज

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच 5वें टेस्ट के लिए इंग्लैंड ने अपनी 13 सदस्यीय टीम का एलान कर दिया है। 3-1 की बढ़त लेकर पहले ही सीरीज पर कब्जा जमाने वाली इंग्लैंड की टीम में क्रिस वोक्स की वापसी हो गई है। दूसरे टेस्ट में शतक लगातर भारत की हार में अहम भूमिका निभाने वाले वोक्स पिछले मैच में चोट की वजह से बाहर हो गए थे। विंस को टीम से बाहर कर दिया गया है, उनके स्थान पर ऑली पोप की वापसी हुई है।5वें टेस्ट के लिए इंग्लैंड की टीम: एलिस्टर कुक, कीटन जेनिंग्स, जो रूट, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर, बेन स्टोक्स, सैम कुर्रन, ऑली पोप, जेम्स एंडरसन, स्टुअर्ट ब्रॉड, क्रिस वोक्स, आदिल राशिद, मोइन अलीभारत और इंग्लैंड के बीच 5वां टेस्ट मैच 7 सितंबर से ओवल में खेला जाएगा। ये ना केवल सीरीज का आखिरी मैच है बल्कि इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एलिस्टर कुक भी आखिरी बार इंग्लैंड की जर्सी में दिखेंगे। इंग्लैंड ये सीरीज पहले ही जीत चुका है लेकिन वह अपने देश के सबसे कामयाब टेस्ट बल्लेबाज को जीत से विदाई देना चाहेगी, वहीं भारतीय टीम आखिरी टेस्ट जीत कुछ सम्मान बचाने की कोशिश करेगी।

लंदन। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने चौथा टेस्ट हारने के बाद कहा कि हमने इंग्लैंड के सामने अच्छी प्रतिद्वंद्विता दिखाई। सिर्फ स्कोर बोर्ड और आंकड़ों को नहीं देखना चाहिए। विराट ने इंग्लिश कप्तान जो रूट का हवाला दिया। रूट ने भी कहा कि नतीजा 3-1 दिख रहा है लेकिन सीरीज काफी कांटे की रही। विराट और मुख्य कोच रवि शास्त्री शुरुआत से यही लाइन पकड़े हुए हैं कि अगर लॉ‌र्ड्स टेस्ट को छोड़ दिया जाए तो हमने इस सीरीज ही नहीं दक्षिण अफ्रीका में भी काफी कांटे का प्रदर्शन किया। विराट और शास्त्री के इसी रवैये के कारण टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीकी दौरे से कोई सीख नहीं ले पाई और लचर बल्लेबाजी वाली इंग्लिश टीम से उसे पराजय का सामना करना पड़ा। अगर उसने अपने रवैये में कोई सुधार नहीं किया तो उसे इस साल के आखिर में होने वाले ऑस्ट्रेलिया दौरे में भी झटके मिल सकते हैं जबकि स्टीव स्मिथ और डेविड वार्नर के बिना उतरने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम को कमजोर माना जा रहा है।

आंकड़े ही याद रहते हैं : इस साल की शुरुआत में भारत को दक्षिण अफ्रीका में तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में 1-2 से पराजय का सामना करना पड़ा और तब भी विराट व शास्त्री ने कुछ ऐसे ही बयान दिए थे। उन्हें यह समझना होगा कि जब इतिहास खंगाला जाएगा तो उसमें पता चलेगा कि विराट को छोड़कर सभी भारतीय बल्लेबाज 2018 टेस्ट सीरीज में दक्षिण अफ्रीका में फेल हुए थे और टीम इंडिया एक बार फिर वहां हारकर आई थी। इतिहास में यही लिखा जाएगा कि विराट की कप्तानी में भी टीम इंडिया दक्षिण अफ्रीका में कोई टेस्ट सीरीज ना जीतने का दंश मिटा नहीं पाई। विराट ने इन दोनों ही देशों में हारने के बाद कहा कि सब घर में जीत रहे हैं और हम घर में बाकी टीमों से बहुत आगे हैं।
द्रविड़ से मदद न लेने का खेल : जब सौरव गांगुली वाली क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी ने भारत-ए व अंडर-19 टीम के कोच राहुल द्रविड़ को टीम इंडिया का बल्लेबाजी सलाहकार नियुक्त किया था तो शास्त्री ने ही कहा था कि विदेशी दौरों पर उनकी सलाह ली जाएगी। निश्चित तौर पर अगर द्रविड़ की सलाह ली गई होती तो दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में यह दिन नहीं देखने होते। दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड में हुए सात टेस्ट मैचों की 14 पारियों में सिर्फ विराट और चेतेश्वर पुजारा ही भारतीय टीम से शतक लगा पाए। यही नहीं दक्षिण अफ्रीका में भारत के चौथे सर्वश्रेष्ठ स्कोरर गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार थे।
4-1 से बचना होगा : अभी इंग्लैंड दौरा खत्म नहीं हुआ है। पांच मैचों की सीरीज का स्कोर 1-3 है और शुक्रवार से ओवल स्टेडियम में पांचवां टेस्ट खेला जाएगा। भारतीय टीम ने गलतियों से सीखना बंद कर दिया है। उसे आलोचना भी पसंद नहीं है। प्रशंसक यही चाहते हैं कि टीम इंडिया कम से कम आखिरी मुकाबला जीतकर सीरीज का अंत 2-3 से करे क्योंकि अगर इंग्लैंड यह मैच जीता तो स्कोर 4-1 होगा जिसे पचाना आसान नहीं होगा। महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी में भारतीय टीम 2011 में यहां 0-4 से और 2014 में 1-3 से हारी थी। 4-1 का रिजल्ट उसी की याद दिलाएगा।
भारत का एशिया से बाहर टेस्ट मैचों में प्रदर्शन
बनाम, मैच, जीत, हार, ड्रॉ,
ऑस्ट्रेलिया, 44, 5, 28, 11
इंग्लैंड, 61, 7, 33, 21
न्यूजीलैंड, 23, 5, 8, 10
दक्षिण अफ्रीका, 20, 3, 10, 7
वेस्टइंडीज, 49, 7, 16, 26
जिंबाब्वे, 6, 3, 2, 1

नई दिल्ली। भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली अपने करियर की शुरुआत में कितने आक्रामक थे ये तो सभी जानते हैं। जब वह इंटरनेशनल क्रिकेट में नए नए आए थे तो गुस्सा उनकी नाक पर बैठा होता था लेकिन अब समय बदला और अनुभव के साथ विराट ना केवल शांत हुए बल्कि परिपक्वत भी हुए है। कप्तानी के दौरान वह ना केवल खुद शांत रहते है बल्कि खिलाड़ियों को भी शांत रहने की सलाह देते हैं।आपको याद होगा कि साल 2011-12 में विराट ऑस्ट्रेलिया दौरे पर गए थे और एक मैच में उन्होंने बीच मैच में बाउंड्री पर खड़े होने के दौरान क्रिकेट फैंस को मिडिल फिंगर दिखाई थी। इसके बाद उनकी ये हरकत ने खूब सुर्खियां बटोरी थी। हाल में उन्होंने इस घटना के बारे में जिक्र करते हुए बताया कि कैसे इस घटना के बाद उन्हें रेफरी से कहना पड़ा कि प्लीज मुझ पर बैन मत लगाओ। कोहली ने बताया कि उस समय मैच रेफरी रंजन मदुगल ने मुझे मुझे बुलाया और पूछा कि मैच के दौरान क्या हुआ था। मैंने कहा कुछ नहीं, कुछ लोग मुझ पर अखबार फेंक रहे थे। कोहली ने ये भी माना कि रेफरी बहुत अच्छे थे और उन्होंने समझा कि युवा खिलाड़ियों से ये गलतियां हो जाती है। इसके बाद उन्होंने मुझे माफ कर दिया था।विराट ने अपने पुराने दिनों को याद करते हुए कहा कि मैं जब भी अपने पुराने दिनों को याद करता हूं तो मुझे हंसी आ जाती है। लेकिन सच ये है कि मैंने अपने काम का तरीका आज तक नहीं बदला। मैं जैसा हूं, उससे खुश हूं। विराट ने ये भी माना कि अब अगर टीम का खिलाड़ी को गलत हरकत करता है तो मैं उसे रोकता हूं, मैं नहीं चाहता जो गलतियां मैंने अपने समय में की है वह भी उसे दोहराय। मैं उन पर पांबदी नहीं लगाता, बस सुनिश्चित करता हूं कि वह कुछ गलती ना करे।

नई दिल्ली। साउथैंप्टन टेस्ट मैच में हार के बाद भारतीय टीम पांच टेस्ट मैचों की सीरीज 3-1 से गवां चुकी है। भारतीय टीम की इस हार के बाद पूर्व कप्तान कपिल देव ने कप्तान विराट कोहली का बचाव किया है। कपिल ने कहा कि ये हार सामूहिक है और अकेले विराट कोहली मैच नहीं जीता सकते हैं। विराट ने इस सीरीज में 500 से ज्यादा रन बनाए और उन्हें टीम के अन्य बल्लेबाजों से ज्यादा साथ नहीं मिल सका।कपिल देव ने कहा कि क्रिकेट ऐसा खेल हैं जहां सिर्फ एक या दो खिलाड़ी आपको जीत नहीं दिला सकते। इंग्लैंड के कप्तान जो रूट ने इस टेस्ट सीरीज में ज्यादा रन नहीं बनाए फिर भी उनकी टीम ने टेस्ट टेस्ट सीरीज जीत ली। रूट की पूरी टीम ने अच्छा खेल दिखाया और वो दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम को हराने में सफल रहे। इस टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने ज्यादा अच्छी क्रिकेट खेली। कपिल देव ने कहा कि भारतीय बल्लेबाज लगातार अपने विकेट खोते रहे और इसकी वजह से ही उन्हें हार मिली। कुछेक बल्लेबाजों के छोड़कर ज्यादातर बल्लेबाज क्रीज पर टिक ही नहीं पाए। उन्होंने कहा कि टीम इंडिया इस हार के बावजूद इंग्लैंड की टीम से ज्यादा बेहतर है। बस उन्होंने हमसे अच्छा खेला तो वो जीत गए।आपको बता दें कि टेस्ट सीरीज में हार के बाद सुनील गावस्कर ने विराट की कप्तानी पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि विराट की कप्तानी में पहले जैसी बात नहीं रही और वो विदेशी धरती पर सीरीज नहीं जीत पा रहे हैं। उन्होंने श्रीलंका और वेस्टइंडीज के खिलाफ सीरीज जीतने की बात को अभ्यास मैच की तरह बताया था। भारत इस टेस्ट सीरीज में पहले ही 1-3 से पीछे है और सीरीज गवां चुका है। दोनों देशों के बीच आखिरी टेस्ट मैच लंदन में खेला जाएगा। इस मैच को जीतकर भारत अपनी जीत के अंतर को कम करने की कोशिश करेगा। वहीं इस मैच में भारतीय टीम किस तरह का बदलाव करती है ये देखने वाली बात होगी। कयास ये लगाया जा रहा है कि टीम मैनेजमेंट कुछ बड़े फैसले कर सकती है।

नई दिल्ली। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज हसन अली एशिया कप से पहले लाहौर में आयोजित यो-यो टेस्ट में अपनी टीम की तरफ से सर्वश्रेष्ठ अंक हासिल करने वाले खिलाड़ी बने यानी वो टीम के सबसे फिट खिलाड़ी साबित हुए। अली ने इस टेस्ट में 20 अंक हासिल किया और विराट कोहली को यो-यो टेस्ट के स्कोर के मामले में पीछे छोड़ दिया। विराट कोहली का यो-यो टेस्ट में बेस्ट स्कोर 19.1 से 19.3 तक रहा है।पाकिस्तान के स्पिनर इमाद वसीम यो-यो टेस्ट में फेल हो गए। वो सिर्फ 17.2 अंक ही बटोर पाए और पासिंग अंक से 0.2 यूनिट पीछे रह गए। वो एक बार फिर से मंगलवार को यो-यो टेस्ट देंगे। वहीं हसन अली ने स्कोर के मामले में अपनी टीम के कप्तान सरफराज अहमद और सीनियर क्रिकेटर शोएब मलिक को भी पीछे छोड़ दिया। इन दोनों ने 18.4 और 17.8 अंक हासिल किए। भारतीय टीम में भी जगह बनाने के लिए यो-यो टेस्ट अनिवार्य कर दिया गया है और पिछले समय में युवराज सिंह व अंबाती रायडू इस टेस्ट में फेल हो गए थे। जिसकी वजह से उन्हें टीम इंडिया में जगह नहीं दी गई थी। भारत ने यो-यो टेस्ट पास करने के लिए अपना न्यूनतम अंक 16.1 रखा है जबकि इंग्लैंड और न्यूजीलैंड का न्यूनतम स्कोर 19 है। वहीं पाकिस्तान और श्रीलंका का न्यूनतम स्कोर 17.4 है। शुरुआत में मनीष पांडे 19.2 अंक हासिल कर टीम इंडिया के सबसे फिटेस्ट क्रिकेटर बने थे जबकि मयंक डागर ने 19.3 अंक हासिल किए थे। भारतीय हॉकी टीम के पूर्व कप्तान सरदार सिंह ने भी इस टेस्ट में 21.4 अंक हासिल करके विराट को पीछे छोड़ा था। 32 वर्ष के सरदार ने अपनी फिटनेस साबित करके एशियन गेम्स 2018 की हॉकी टीम में जगह बनाई थी। वहीं हसन अली की बात करें तो उन्होंने पाकिस्तान के लिए अपना पहला मैच वर्ष 2016 में खेला था। वो वर्ष 2017 चैंपियंस ट्रॉफी में प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट बने थे।

 

नई दिल्ली। इंग्लैंड के पूर्व कप्तान और भारत के खिलाड़ी 5वें टेस्ट के बाद इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहने वाले एलिस्टर कुक ने अपनी ऑस टाइम फेवरेट टीम चुनी है। हालांकि हैरानी की बात ये है कि इस टीम में कोई भी भारतीय खिलाड़ी नहीं है।अब इस टीम को देखकर तो हैरानी होगी ही क्योंकि इस टीम में ना तो सचिन तेंदुलकर है और ना ही राहुल द्रविड़, यहां तक…
नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच टेस्ट सीरीज में भारत 3-1 से पीछे है हालांकि चौथा मैच 60 रन से गंवाकर वह सीरीज गंवा चुकी है लेकिन उसके खिलाड़ियों के लिए राहत की खबर आइसीसी ने दे है। ताजा टेस्ट रैंकिंग में भारत के तेज गेंदबाजों को काफी फायदा हुआ है। तमाम पारिवारिक विवादों पीछे छोड़ इस टेस्ट सीरीज में शानदार प्रदर्शन कर शमी ने टॉप 20 में वापसी…
नई दिल्ली। भारत के खिलाफ मौजूदा टेस्ट सीरीज में लगातार खराब प्रदर्शन के बाद इंग्लैंड के ओपनर बल्लेबाज एलिएस्टर कुक ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के हर प्रारूप से संन्यास की घोषणा कर दी। हालांकि कुक भारत के खिलाफ पांचवें टेस्ट मैच में खेलेंगे जो 7 सितंबर से लंदन में खेला जाएगा।एलिएस्टर कुक ने भारत के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय टेस्ट करियर की शुरुआत एक मार्च 2006 को किया था। नागपुर में खेले…
नई दिल्ली। चौथा टेस्ट मैच शुरू होने से पहले किसी ने ये सोचा भी नहीं था कि इस मैच में दोनों टीमों के ऑफ स्पिनर्स के बीच इतना जबरदस्त मुकाबला देखने को मिलेगा। लेकिन इस मैच में ऐसा हुआ और खेल के चौथे दिन मोइन अली ने अपने प्रदर्शन से ना सिर्फ टीम को जीत दिलाई बल्कि भारत के सीनियर दिग्गज स्पिनर आर अश्विन को काफी पीछे छोड़ दिया। इस…
Page 6 of 317

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें