खेल

खेल (4438)

नई दिल्ली। 18 साल के पृथ्वी शॉ को इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट सीरीज के शेष दो मैचों के लिए भारतीय टीम में स्थान दिया गया है। सचिन तेंदुलकर ने स्वयं भी काफी कम उम्र में ही सफलता हासिल कर ली थी और उन्हें पृथ्वी की विलक्षण प्रतिभा को पहचाने में भी अधिक समय नहीं लगा।तेंदुलकर ने पृथ्वी की प्रतिभा को आठ साल की उम्र में ही पहचान लिया था। पृथ्वी को पहली बार खेलते हुए देखने के बाद सचिन ने अपने मित्र से कहा था कि तुम जिसे देख रहे हो, यह भविष्य का भारतीय खिलाड़ी है। उन्होंने पृथ्वी से कहा था कि कोई कोच उसकी नैसर्गिक तकनीक को नहीं बदले। तेंदुलकर अपने ऐप '100 एमबी' पर कहा, 'मैंने उसे कहा था कि भविष्य में उसके कोच उसे जितने की निर्देश दें, वह अपनी ग्रिप या स्टांस नहीं बदले। अगर कोई तुम्हें ऐसा करने के लिए कहे तो उसे कहना कि वह मेरे से बात करे। कोचिंग देना अच्छा होता है, लेकिन किसी खिलाड़ी में अत्यधिक बदलाव करना ठीक नहीं। 'इस पूर्व महान बल्लेबाज ने कहा, 'यह बेहद महत्वपूर्ण है कि जब आप ऐसे विशेष खिलाड़ी को देखें तो कुछ बदलाव नहीं करें। यह भगवान का तोहफा है।'पृथ्वी को इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम दो टेस्ट के लिए भारतीय टीम में शामिल किया गया है और तेंदुलकर को खुशी है कि उन्होंने पहली बार आठ साल की उम्र में उसे बल्लेबाजी करते देखकर उसके अंदर की प्रतिभा को भांप लिया था। तेंदुलकर ने कहा, 'लगभग 10 साल पहले मेरे एक मित्र ने मुझे युवा पृथ्वी को खेलते हुए देखने को कहा। उसने मुझे कहा कि मैं उसके खेल का आकलन करूं और उसे कुछ सलाह दूं।मैंने उसके साथ सत्र में हिस्सा लिया और खेल में सुधार के लिए कुछ चीजें बताईं।' पृथ्वी को पहली बार खेलते हुए देखने के बाद तेंदुलकर ने अपने मित्र से कहा था, 'तुम देख रहे हो? यह भविष्य का भारतीय खिलाड़ी है।'' इस साल 18 साल के पृथ्वी की अगुआई में भारत ने अंडर-19 विश्व कप जीता। उन्होंने 14 प्रथम श्रेणी मैचों में सात शतक की मदद से 56.72 की औसत के साथ 1418 रन बनाए हैं।

 

 

विराट कोहली सिर्फ एक अच्छे क्रिकेटर या टीम इंडिया के कप्तान ही नहीं बल्कि एक अच्छे इंसान भी हैं। बुधवार को इंग्लैंड के खिलाफ खेले टेस्ट मैट में टीम इंडिया को मिली 203 रनों की बड़ी जीत को कोहली ने केरल बाढ़ पीड़ितों को समर्पित की है। ये जीत जितनी शानदार थी उतनी ही कहीं ज्यादा खास भी थी। क्योंकि पूरे 32 साल बाद कहीं जाकर टीम इंडिया ने इंग्लैंड की धरती पर रनों के एक बड़े अंतर से जीत से हासिल की है। ये एक खुशी से भरा हुआ भावनात्मक पल भी था।इस जीत के बाद क्रिकेटर विराट कोहली ने जहां जीत का श्रेय अपनी पत्नी अनुष्का शर्मा को दिया तो वहीं, टीम इंडिया की ये जीत केरल बाढ़ पीड़ितों के लिए समर्पित की है। उन्होंने कहा, ‘यह जीत हम केरल के बाढ़ पीड़ितों को समर्पित करते हैं। हम अपनी और टीम इंडिया की तरफ से ये छोटा सा योगदान दे सकते हैं।’इस मैच में टीम इंडिया ने एक बड़े अंतर से सिर्फ जीत ही दर्ज नहीं की बल्कि कप्तान कोहली ने मैच में शानदार 103 रनों की भी भागीदारी की थी। इसके बाद कोहली को मैन ऑफ द मैच भी चुना गया था। टीम इंडिया की शानदार जीत के बारे में बताते हुए विराट ने कहा, ‘ये जीत हमारे लिए बेहद जरुरी थी क्योंकि ये हमें इस सीरीज में बनाए रखने के लिए चाहिए थी। सभी विभागों में शानदार प्रदर्शन करने का मतलब हमारे पूरे ड्रेसिंग रूम की जीत हुई है। यह टेस्ट हमारे लिए अच्छा था। जबकि पिछले 5 टेस्ट में हमारा प्रदर्शन सिर्फ लॉर्ड्स टेस्ट में खराब रहा था।’इतना ही नहीं, विराट इस शानदार जीत का श्रेय अपनी पत्नी अनुष्का शर्मा को भी देना नहीं भूले। अनुष्का टेस्ट मैच के लिए विराट के ही साथ गईं हुईं थी और वो रेड ड्रेस में स्टेडियम में बैठ विराट और टीम इंडिया की हौसलाअफजाई कर रही थीं। विराट ने कहा, ‘मैं यह जीत और अवॉर्ड पत्नी पत्नी को समर्पित करता हूं, जिन्होंने मुझे लगातार समर्थन दिया।’ विराट ने बताया कि अनुष्का हमेशा उन्हें प्रोत्साहित करती रहती हैं।

नॉटिंघम। कभी क्रिकेट की गलियों में तत्कालीन भारतीय कप्तान नवाब पटौदी और उस समय की सुपर स्टार शर्मिला टैगोर के किस्से सुनाई देते थे तो अब भारतीय कप्तान विराट कोहली और उनकी पत्नी अनुष्का शर्मा के चर्चे हैं। एक एडवरटाइजमेंट शूट में मिलने के बाद शादी के मुकाम तक पहुंचा यह रिश्ता समय के साथ बेहद मजबूत हो गया है।शुरू में दोनों ने इस रिश्ते को सार्वजनिक तौर पर मानने से इन्कार किया लेकिन जब पहली बार बॉलीवुड हीरोइन अनुष्का 2015 में ऑस्ट्रेलिया दौरे में कोहली के साथ नजर आईं तो यह प्रेम सबके सामने आ गया। बीच में कुछ खटपट की खबरें भी आईं और जब सोशल मीडिया पर प्रशंसकों ने विराट के खराब प्रदर्शन के लिए अनुष्का को जिम्मेदार ठहराया तो विराट अपनी गर्लफ्रेंड के साथ डटकर खड़े हुए। दोनों ने पिछले साल नवंबर में इटली में जाकर शादी की।विराट और अनुष्का दोनों ही भारत के बड़े सितारे हैं और उनके पास बहुत काम है। यही कारण है कि शादी के बाद अनुष्का ज्यादा से ज्यादा समय विराट के साथ बिताना चाहती हैं और इसीलिए वह इस साल की शुरुआत में दक्षिण अफ्रीकी दौरे और अभी इंग्लैंड दौरे पर भी टीम के साथ हैं। टीम इंडिया चाहे भारत में खेल रही हो या विदेश में वह हमेशा समय निकालकर वहां पहुंचती हैं। कोहली को भी इससे मजबूती मिलती है।विराट ने नॉटिंघम टेस्ट जीतने के बाद कहा कि मैं अपनी पारी विशेष तौर पर अपनी पत्नी को समर्पित करना चाहता हूं। वह मुझे बहुत प्रेरित करती हैं और आगे बढ़ाती रहती हैं। वह इकलौती हैं जो मुझे सकारात्मक रखती हैं।

नई दिल्ली। भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जा रही टेस्ट सीरीज़ के आखिरी दो मैचों के लिए भारतीय टीम का चयन हो गया है। इस टीम में दो नए खिलाड़ियों का चयन किया गया है और दो खिलाड़ियों को बाहर का रास्ता दिखाया गया है। आखिरी दो मुकाबलों के लिए पृथ्वी शॉ और हनुमा विहारी को भारतीय टीम में शामिल किया गया है। इन दोनों खिलाड़ियों को चुने जाने की पीछे क्या कारण है आइए आपको बताते हैं-
आखिरी 2 टेस्ट मैच के लिए चुनी गई टीम इंडिया:-इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टीम मौजूदा समय में 5 टेस्ट मैचों की सीरीज खेल रही है जहां 3 टेस्ट मैचों में 1-2 से भारतीय टीम पीछे चल रही है। चयनकर्ताओं ने चौथे और पांचवें टेस्ट के लिए टीम का एलान किया तो सभी हैरान रह गए। इस हैरानी की वजह थीे टीम में पृथ्वी शॉ और हनुमा विहारी का चयन। पहले आपको टीम बता देते हैं कि आखिरी दो टेस्ट के लिए किन-किन खिलाड़ियों को मौका दिया गया है।
इस प्रकार है टीम इंडिया:-विराट कोहली (कप्तान), शिखर धवन, केएल राहुल, ऋषभ पंत, पृथ्वी शॉ, हनुमा विहारी, चेतेश्वर पुजारा, अजिंक्य राहाणे, आर अश्विन, रविन्द्र जडेजा, हार्दिक पांड्या, जसप्रीत बुमराह, इशांत शर्मा, मोहम्मद शमी, उमेश यादव, शार्दुल ठाकुर, करुण नॉयर, दिनेश कार्तिक (विकेट कीपर)।
इस वजह से हुआ दो युवा खिलाड़ियों का चयन;-इंग्लैंड के खिलाफ जैसे ही आखिरी दो टेस्ट मैच के लिए भारतीय टीम का एलान हुआ। सभी को हैरान हुई की मुरली विजय और कुलदीप यादव को बाहर कर पृथ्वी शॉ और हनुमा विहारी को मौका क्यों दिया गया है?
इस वजह से मिला शॉ को मौका:-पृथ्वी शॉ को हाल के समय में जितने भी मौके मिले हैं उन्होंने उन्हें खूब है, फिर चाहे वो फर्स्ट क्लास मैच हो या फिर आइपीएल उन्होंने हर जगह खुद को साबित किया है। भारत को अंडर19 विश्व कप अपनी कप्तानी में दिलाने वाले पृथ्वी कुछ दिन पहले इंडिया ए की तरफ से इंग्लैंड दौरे पर भी गए थे जहां उन्होंने कमाल की बल्लेबाजी की थी और शतक भी जड़े थे। फर्स्ट क्लास क्रिकेट की बत करें तो पृथ्वी ने 14 मुकाबलों में सात शतक ठोके हैं, जिनमें से कुछ सेंचुरी तो उन्होंने इंग्लैंड की धरती पर जड़ी हैं। आइपीएल में भी इुस खिलाड़ी ने जिस तरह खुद को साबित किया था। उसे देखकर क्रिकेट के दिग्गज़ों ने कह दिया था कि ये खिलाड़ी अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिए तैयार है। वहीं इंडिया ए के कोच राहुल द्रविड़ का भी मानना है कि अब ये खिलाड़ी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में धूम मचाने के लिए पूरी तरह से तैयार है। एक तो इस खिलाड़ी का प्रदर्शन दूसरा राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज का इस खिलाड़ी पर विश्वास दिखाना। ये दोनों ही चीज़े पृथ्वी शॉ के पक्ष में और उन्हें इंग्लैंड में खेले जाने वाले आखिरी दो टेस्ट के लिए टीम में शामिल कर लिया गया।
विराट के बैकअप के तौर पर चुने गए हनुमा विहारी:-आंध्र प्रदेश के 24 वर्षीय खिलाड़ी हनुमा विहारी का घरेलू सीजन शानदार रहा। उन्होंने इस सीज़न में 1056 रन बनाए। इतना ही नहीं उन्होंने द. अफ्रीक ए के खिलाफ 148 रन की बेहतरीन पारी भी खेली। घरेलू स्तर पर उनका प्रदर्शन लाजबाव रहा है और उन्होंने 63 फर्स्ट क्लास मैचों में 59.79 की औसत से 5142 रन बनाए हैं। विहारी स्पिन गेंदबाजी भी करते हैं। इंग्लैंड में इंडिया ए के लिए खेलते हुए हनुमा विहारी ने पृथ्वी शॉ के साथ जमकर रन बनाए। विहारी का प्रदर्शन को उनक चयन की वजह है ही, लेकिन इसके साथ ही साथ एक और वजह है जो विहारी को इस टीम में मौका मिला है। उन्हें कप्तान विराट कोहली के कवर के रूप में चुना है, दरअसल विराट कोहली को नॉटिंघम टेस्ट पहले पीठ में तकलीफ थी और उनके इस टेस्ट में खेलने पर भी सस्पेंनस बना हुआ था। इसी वजह से चयनकर्ताओं ने विहारी को उनके बैकअप के तौर पर रखा है।

ब्रेडी (आयरलैंड)। अफगानिस्तान के 20 वर्षीय युवा बल्लेबाज हजरातुल्लाह जेजई (82) के लगातार दूसरे तूफानी अर्धशतक के बाद राशिद खान (17/4) और मुजीब उर रहमान (17/3) की बदौलत अफगानिस्तान ने दूसरे टी-20 मैच में आयरलैंड को 81 रन से हराकर तीन मैचों की टी-20 सीरीज में 2-0 की अजेय बढ़त हासिल कर ली। अफगानिस्तान की यह सातवीं टी-20 जीत है। सीरीज का तीसरा मैच इसी मैदान पर शुक्रवार को खेला जाएगा।
79 रन पर ढेर हुई आयरलैंड:-अफगानिस्तान ने यहां ब्रेडी क्रिकेट क्लब मैदान में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट पर 160 रन का मजबूत स्कोर बनाया और फिर आयरलैंड को 15 ओवर में 79 रन पर ढेर कर दिया। आयरलैंड के लिए विलियम पोटरफील्ड ने 23 गेंदों पर सर्वाधिक 33 और कप्तान तथा विकेटकीपर गैरी विल्सन ने 22 रन का योगदान दिया। मेजबान टीम के बाकी बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा भी नहीं छू सके।अफगानिस्तान की ओर से राशिद और मुजीब के अलावा फरीद अहमद, आफताब आलम और मोहम्मद नबी ने एक-एक विकेट लिया।
जेजई ने ठोका लगातार दूसरा अर्धशतक;-इससे पहले, अफगानिस्तान ने हजरातुल्लाह जेजई (82) के लगातार दूसरे तूफानी अर्धशतक के दम पर आठ विकेट पर 160 रन का मजबूत स्कोर बनाया। जेजई ने 54 गेंदों पर छह चौके और सात छक्के उड़ाए। उनका यह दूसरा अर्धशतक है। जेजई ने इस सीरीज के पहले मैच में भी अर्धशतक जमाया था। पहले मैच में जेजई ने 33 गेंदों पर 74 रन की पारी खेली थी और उनका बेहतरीन प्रदर्शन इस मैच में भी जारी रहा। खास बात ये है कि ये जेजई का तीसरा ही अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच है और वो इन तीन मैचों में दो अर्धशतक जड़ चुके हैं।जेजई के कप्तान असगर स्टॉनिकजई ने 37, नजीबुल्लाह जादरान ने 20 और मोहम्मद नबी ने 12 रन बनाए।आयरलैंड के लिए पीटर चेज ने 35 रन पर तीन विकेट, बोएड रेंकिंन ने 14 रन पर दो विकेट जबकि सिमी सिंह, जुशुआ लिटल और जॉर्ज डॉकरैल ने एक-एक विकेट लिए।

नई दिल्ली। इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड ने साउथैंम्प्टन में होने वाले चौथे टेस्ट मैच के लिए 14 सदस्यीय इंग्लिश टीम का एलान कर दिया है। नॉटिंघम में मिली 203 रन से मिली हार के बाद इस टीम में जेम्स विंस की वापसी हुई है। 14 सदस्यों वाली इस टीम में मोइन अली का नाम भी शामिल है।
चौथे टेस्ट के लिए चुनी गई इंग्लिश टीम:-जो रूट, एलिस्टर कुक, कीटन जेनिंग्स, ऑली पोप, जॉनी बेयरस्टो, जोस बटलर, मोइन अली, जेम्स विंस, बेन स्टोक्स, क्रिस वोक्स, स्टुअर्ट ब्रॉड, सैम कुर्रन, जेम्स एंडरसन, आदिल राशिद जेम्स विंस को इस टीम में एक खास वजह से चुना गया है। उन्हें चोटिल जॉनी बेयरस्टो की जगह कवर के तौर पर टीम में शामिल किया गया है। बेयरस्टो को नॉटिंघम टेस्ट मैच में विकेटकीपिंग करते हुए चोट लग गई थी। इसके बाद जब वो इंग्लैंड की दूसरी पारी में बल्लेबाज़ी करने आए थे तो बुमराह ने उन्हें पहली ही गेंद पर बोल्ड कर दिया था। उनके चोट की वजह से इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने जेम्स विंस को कवर के तौर पर शामिल किया है। उन्हें प्लेइंग इलेवन में तभी मौका दिया जाएगा, अगर जॉनी बेयरस्टो चौथे टेस्ट के लिए फिट नहीं होंगे।
चौथे टेस्ट में खेलेंगे अली?:-मोइन अली को नॉटिंघम टेस्ट में मौका नहीं दिया गया था तो फिर वो काउंटी क्रिकेट खेलने चले गए थे। वहां उन्होंने दोहरा शतक जमाते हुए 219 रन की पारी खेली थी। इसके बाद दूसरी पारी में इस खिलाड़ी ने 6 विकेट भी चटकाए थे। मोइन अली ने काउंटी में अपने ऑलराउंड प्रदर्शन से एक बार फिर खुद को साबित किया है अब देखना दिलचस्प होगा कि चौथे टेस्ट में उन्हें अंतिम 11 में जगह मिलती है या नहीं।

 

 

नॉटिंघम। टीम इंडिया ने नॉटिंघम टेस्ट में 203 रन से जीत हासिल की। ये इंग्लैंड की धरती पर कप्तान कोहली की पहली जीत रही। खास बात ये रही कि इस मैच में शानदार प्रदर्शन करने के लिए कप्तान कोहली को मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ज से नवाज़ा गया। जीत के बाद कप्तान कोहली ने टीम इंडिया की इस जीत को केरल के बाढ़ पीडि़तों को समर्पित किया।कोहली ने केरल…
नई दिल्ली। नॉटिंघम टेस्ट में भारत ने 203 रन की बड़ी जीत दर्ज़ की। कोहली को इस मैच में बेहतरीन प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द मैच के अवॉर्ड से नवाज़ा गया। भारतीय कप्तान ने इस टेस्ट की पहली पारी में 97 रन बनाए थे, तो दूसरी पारी में उन्होंने 103 रन की पारी खेली थी। इंग्लैंड की धरती पर बतौर कप्तान विराट की ये पहली जीत रही। इस जीत…
नई दिल्ली। भारत ने इंग्लैंड को तीसरे टेस्ट में 203 रन से हराकर 5 टेस्ट मैचों की टेस्ट सीरीज का स्कोर 2-1 कर लिया। इस मैच से पहले भारतीय टीम लगातार 2 टेस्ट हारी, जिसके बाद हर तरफ उनकी आलोचना हो रही थी। सीरीज में 2-0 से पिछड़ने के बाद हर किसी ने कप्तान कोहली और कोच रवि शास्त्री को हार का दोषी माना, हालांकि विराट लगातार रनों की बारिश…
नई दिल्ली। भारत ने इंग्लैंड के खिलाफ नॉटिंघम में खेले गए तीसरे टेस्ट में मेजबान टीम को 203 रन से हराकर सीरीज का स्कोर 2-1 कर लिया। बल्लेबाजी में भारत के हीरो कोहली, पुजारा और रहाणे रहे तो गेंदबाजी में बुमराह और हार्दिक पांड्या टीम इंडिया के सुपर स्टार बन कर उभरे। इस मैच में भारतीय ओपनर केएल राहुल बल्ले से तो ज्यादा कमाल नहीं कर पाए लेकिन फील्डिंग में…
Page 10 of 317

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें