खेल

खेल (671)

नई दिल्ली। भारतीय टीम के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने विश्व कप में भारत- पाक मैच को लेकर बड़ा बयान दिया है। गंभीर ने कहा कि भारत को पाकिस्तान से भारत-पाक मैच पर BCCI को फैसला लेना होगा। हालांकि, भारत को मैच नहीं खेलना चाहिए। एक मैच न खेलने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा।पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) के बाद भारत के हरभजन सिंह और सौरव गांगुली जैसे प्रमुख खिलाड़ियों ने इस बीसीसीआइ से इस मैच का बहिष्कार करने का आग्रह किया है। इसे लेकर बीसीसीआइ ने पाकिस्तान को विश्व कप से बाहर कराने के लिए आइसीसी को पत्र लिखा था। इसके बाद आइसीसी ने कहा कि उसकी इन मामलों कोई भूमिका नहीं है और इस मांग को ठुकरा दिया।हालांकि, बीसीसीआई के पत्र में पाकिस्तान का कोई विशेष संदर्भ नहीं था, जिसमें भारत द्वारा आतंकवादियों को शरण देने का आरोप लगाया गया है। इस बैठक में सचिव अमिताभ चौधरी ने बीसीसीआइ का प्रतिनिधित्व किया।

नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) के 12वें संस्करण में होने वाले सभी मैचों की तारीखों की घोषणा आज हो सकती है। इससे पहले आइपीएल 2019 (IPL 2019) के दो सप्ताह के कार्यक्रम यानी 17 मैच का शेड्यूल जारी कर दिया गया था। लोकसभा चुनाव के मद्देनजर इस साल आइपीएल का आयोजन समय से पहले हो रहा है। इस साल सीजन का पहला मैच 23 मार्च से खेला जाएगा। पहला मुकाबला चेन्नई में मौजूदा चैंपियन चेन्नई सुपर किंग्स व रॉयल चैलेंजर बैंगलोर के बीच खेला जाएगा।बता दें कि इससे पहले BCCI के एक अधिकारी ने बताया था कि आइपीएल के 12वें संस्करण में होने वाले सभी मैचों की तारीख की घोषणा सोमवार को COA की बैठक के बाद की जा सकती है। अधिकारी ने कहा था कि आइपीएल COO और उनकी टीम काफी मेहनत कर रही है और यह उनके ही प्रयास का नतीजा है कि इस साल BCCI टूर्नामेंट के पूरे सीजन का आयोजन भारत में कराने में सफल हो रही है। BCCI ने इससे पहले कहा था कि केंद्र और राज्य की एजेंसियों से बातचीत के बाद हमने फैसला किया है कि आइपीएल का 12वां सीजन पूरी तरह से भारत में ही खेला जाएगा। चुनाव को ध्यान में रखकर ही पूरे शेड्यूल का ऐलान होगा और पूरा आइपीएल सीजन इस बार भारत में ही खेला जाएगा। इससे पहले ये कयास लगाए जा रहे थे कि इस बार आइपीएल का आयोजन दुबई, दक्षिण अफ्रीका या फिर इंग्लैंड में किया जा सकता है। इससे पहले भी आम चुनाव के वक्त आइपीएल का आयोजन दक्षिण अफ्रीका व अबूधाबी में किया जा चुका है।

चेन्नई। दिग्गज भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी के फैंस उनके साथ फोटो खिंचवाने के लिए हमेशा उत्साहित रहते हैं। इसके लिए वे कई बार कुछ सुरक्षा दायरे को भी तोड़ देते हैं। कुछ ऐसा दी नजारा एक बार फिर रविवार को देखने को मिला। दरअसल, चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) की टीम आइपीएल 2019 की तैयारी में लगी हुई है। इस दौरान धौनी समेत टीम के अन्य खिलाड़ी चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडिमय में प्रैक्टिस कर रहे थे, तभी एक फैन मैदान में आ गया और धौनी से हाथ मिलाने की कोशिश करने लगा। फैन के मैदान में आने और धौनी से मिलने के इस पूरा वाकये का वीडियो सीएसके ने अपने ट्विटर हैंडिल पर शेयर किया है। फैन जैसे ही धौनी के करीब आने का प्रयास करता है वह मुस्कुराकर दौड़ने लगते हैं। कुछ देर तक मैदान पर दोनों भागते हैं और फिर सिक्योरिटी के लोग आ जाते हैं। इसके बाद धौनी खुद फैन के पास जाते हैं और उससे हाथ मिलाते हैं। धौनी पूरे वीडियो मस्ती करते दिखाई दे रहे हैं। बता दें कि आइपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स अपना पहला मैच रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के बीच 23 मार्च को खेलेगी। यह आइपीएल के 12वें सीजन का पहला मैच होगा

 

देहरादून। आयरलैंड और अफगानिस्तान के बीच देहरादून में खेले गए टेस्ट मैच में कई रिकॉर्डस बने। इस दौरान आयरलैंड के 11 वें नंबर के बल्लेबाज टिम मुर्ताघ ने भी एक अनोखा रिकॉर्ड अपने नाम किया। मुर्ताघ इस क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए एक टेस्ट के दोनों पारियों में 25 से ज्यादा रन बनाने वाले विश्व के पहले बल्लेबाज बनगए।मुर्ताघ ने पहली पारी में आयरलैंड के लिए नाबाद 54 रन बनाए थे। दूसरी पारी में उन्होंने 27 रनों की पारी खेली थी। टेस्ट क्रिकेट के 142 साल के इतिहास में यह पहली बार हुआ। गौरतलब है कि सोमवार को मैच के तीसरे दिन आफगान टीम ने 7 विकेट से मैच जीत लिया। इससे पहले आयरलैंड पहली पारी में सिर्फ 172 रन बनाकर आउट हो गई। इसके जवाब में अफगानिस्तान ने पहली पारी में 314 रन बनाए। दूसरी पारी में आयरलैंड ने 288 रन बनाए। अफगानिस्तान ने जीत के लिए मिले 147 रनों के लक्ष्य को मुकाबले के चौथे दिन 3 विकेट खोकर ही हासिल कर लिया। रहमत शाह को दोनों पारियों में दमदार बल्लेबाजी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। लक्ष्य का पीछा करते हुए अफगानिस्तान ने अपने तीसरे दिन के स्कोर एक विकेट पर 29 रनों से आगे खेलना शुरू किया। बता दें कि अफगानिस्तान ने पिछले साल भारत के खिलाफ अपना पहला टेस्ट खेला था, जहां वह एक पारी और 262 रनों से हार गया था। दूसरी ओर, आयरलैंड ने पाकिस्तान के खिलाफ अपना पहला टेस्ट खेला था जिसमें वह पांच विकेट से हार गया था। यह दोनों टीमों का दूसरा मैच था।

नई दिल्ली। आइपीएल और वर्ल्ड कप से ठीक पहले टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम में कुछ दिन बिताने वाले हनुमा विहारी का एक बड़ा बयान सामने आया है। वर्ल्ड कप में नंबर चार के लिए बल्लेबाज तलाश रही भारतीय टीम को हनुमा विहारी मजबूती दे सकते हैं। यही नहीं उन्होंने कहा कि वह किसी भी नंबर पर बल्लेबाजी कर सकते हैं। आइपीएल की तैयारियों के बीच हनुमा विहारी ने एक इंटरव्यू में कहा कि वो नंबर चार पर अच्छी टेक्निक के साथ बल्लेबाजी कर सकते हैं।हनुमा विहारी इस बार आइपीएल टीम दिल्ली केपिटल्स के लिए खेलेंगे। उन्होंने कहा 'मैं सोचता हूं कि मैं नंबर चार के लिए फिट हूं। मेरे पास टेक्निक है। नंबर चार के लिए वो बल्लेबाज बेहतर होता है जो किसी भी परिस्थिति में रन बना सके। मैं ऐसा कर सकता हूं क्योंकि मेरे पास वो टेक्निक है।'हनुमा विहारी ने ये भी स्वीकार किया है कि वर्ल्ड कप का टिकट कटाने से पहले उन्हें आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करना होगा। इसके बाद ही टीम मैनेजमेंट उन्हें भारतीय टीम में शामिल करने के बारे में सोचेगा। हनुमा विहारी कहते हैं कि इंडिया ए का हिस्सा रहते हुए उन्होंने वनडे क्रिकेट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया था। इतना ही नहीं, हनुमा विहारी अपने आप को एक फिनिशर के रूप में भी देखते हैं।गौरतलब है कि भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच हाल ही में खेली गई वनडे सीरीज विराट एंड कंपनी के लिए कई सवाल छोड़कर गई थी। कहा तो ये जा रहा था कि वर्ल्ड कप के लिए भारतीय टीम को नंबर चार का कोई बल्लेबाज मिल जाएगा, क्योंकि अभी तक बस प्रयोग हो रहे थे, लेकिन ऑस्ट्रेलिया के सामने अंबाती रायुडू, रिषभ पंत और विजय शंकर फेल हो गए। यहां तक कि धौनी के अलावा कोई मैच फिनिशर भी नहीं दिखा।वहीं, अगर बात हनुमा विहारी की करें तो वे बल्ले के साथ-साथ बीच के ओवरों में कुछ ओवर गेंदबाजी भी करा सकते हैं। टीम इंडिया के लिए अब तक चार टेस्ट मैच खेल चुके हनुमा विहारी ने एक अर्धशतक के साथ 167 रन बनाए हैं और 5 विकेट भी झटके हैं। वहीं, अगर लिस्ट ए क्रिकेट की बात करें तो हनुमा विहारी ने 67 मैचों में 46.60 के शानदार औसत से 4 शतक और 17 अर्धशतकों के साथ 2703 रन बनाए हैं। इसके अलावा उन्होंने 17 विकेट भी झटके हैं, जो दर्शाता है कि वो नंबर चार की रेस में आगे निकल सकते हैं। हालांकि, ये अब उनकी 23 मार्च से शुरू होने वाले आइपीएल की परफॉर्मेंस पर निर्भर करेगा।
मैं कभी-कभी ही गेंदबाजी कर सकता हूं:-हनुमा विहारी ने यह भी कहा कि वह टीम में ऑलराउंडर खिलाड़ी के रूप में खेलते हैं, लेकिन उनका कहना है कि मुख्य रूप से वह एक बल्लेबाज हैं और कभी-कभी ही गेंदबाजी करते हैं। उन्होंने कहा 'ईमानदारी से कहूं तो मुझे लगता है कि मुख्य रूप से मैं एक बल्लेबाज हूं, जो थोड़ी बहुत गेंदबाजी भी कर सकता है। मेरी गेंदबाजी थोड़ी अच्छी हो जाती है, इसलिए मैं इसमें सुधार करने का प्रयास करता हूं।'

 

नई दिल्ली। भारतीय टेस्ट टीम के प्रमुख तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को लेकर बड़ा बयान दिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि धौनी ने अपनी कप्तानी केे दौरान उन्हें टीम से बाहर होने से कई बार बचाया। धौनी न होते तो वह टीम से बाहर हो गए होतेेे। इशांत ने कहा 'माही भाई ने मुझे कई बार टीम से बाहर होने से बचाया। उन्होंने मुझे बहुत सपोर्ट किया। हां, अब टीम का वरिष्ठ सदस्य होने के नाते विराट मेरे पास आता है और कहता है कि 'मुझे पता है कि आप थके हुए हैं, लेकिन सीनियर होने के नाते आपको टीम के लिए यह करना होगा।'इस तेज गेंदबाज ने कहा 'पहले मैं केवल अच्छी गेंदबाजी करने की कोशिश करता थी, लेकिन अब मैं विकेट लेने की कोशिश करता हूं। केवल विकेट लेने से ही बदलाव आ सकता है।' 2013 चैंपियंस ट्रॉफी के दौरान सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी के बावजूद इशांत को वनडे और टी-20 से बाहर कर दिया गया। कहा जाता है कि वह इस फॉरमेट के लायक नहीं है। इसे लेकर उन्होंने कहा कि आज के समय में अवधारणा की भूमिका बहुत बड़ी हो गई है। सीमित ओवरों की टीम में जगह न मिलने पर इशांत ने कहा कि उन्होंने इसे लेकर किसी से लेकर बात नहीं की। इशांत ने कहा 'सच कहूं तो मैंने किसी से भी इस बारे में बात नहीं की है, मैं मानता हूं यह मेरी कमी है। इस तेज गेंदबाज ने कहा कि उन्हें काउंटी में खेलने से गेंदबाजी में काफी सुधार आया। इशांत ने कहा 'मुझे लगता है कि काउंटी क्रिकेट ने मेरी बहुत मदद की। यह बहुत थका देने वाला था। महज 16 दिनों में मैंने चार मैच खेले और 300 ओवर गेंदबाजी की। इससे मुझे बहुत कुछ हासिल हुआ। टेस्ट क्रिकेट में एक ही कंपनी के गेंद इस्तेमाल करने के फैसले को इशांत ने सही बताया। उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि यह अच्छी बात है, क्योंकि ड्यूक की गेंद में गेंदबाजों के लिए कुछ है। कूकाबुरा में गेंदबाजों के लिए ज्यादा कुछ नहीं है और मुझे लगता है कि इसी एक कारण से टेस्ट क्रिकेट में कमी आई है।''अगर बल्लेबाज हर समय हावी रहते हैं तो इससे कोई फायदा नहीं होता है। मुझे लगता है कि ड्यूक बॉल के साथ समस्या यह है कि निर्माता उतनी गेंदें नहीं बना सकते, क्योंकि यह हाथ से बनाई जाती है। कूकाबुरा से आप ज्यादा कुछ नहीं कर सकते, लेकिन ड्यूक से आप कभी भी बल्लेबाज को परेशान कर सकते हैं।

बेंगलुरु। भारत और आइपीएल की टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलूर (आरसीबी) के कप्तान विराट कोहली का कहना है कि आगामी विश्व कप को ध्यान में रखते हुए भारतीय खिलाड़ी लीग के इस 12वें सत्र को एक मौके की तरह लेंगे और सभी इसे एक जिम्मेदारी की तरह समझेंगे।कोच गैरी किर्सटेन, आशीष नेहरा और चेयरमैन संजीव चूड़ीवाला के साथ आरसीबी के मोबाइल एप के लांचिंग कार्यक्रम के बाद 30 वर्षीय विराट ने…
नई दिल्ली। इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का नया सीजन धमाल मचाने को तैयार है। यह आइपीएल का 12 वां सीजन है। इन 12 सालों में कई खिलाड़ी उभरे जो भारतीय टीम का हिस्सा बनें। जसप्रीत बुमराह, रविन्द्र जडेजा, हार्दिक पांड्या और युजवेंद्र चहल जैसे तमाम ऐसे खिलाड़ी हैं जो आइपीएल में उभरे और आज क्रिकेट की दुनियां में अपना नाम कमा रहे हैं। कुछ ऐसे भी खिलाड़ी हैं जो आइपीएल…
नई दिल्ली। अगर भारतीय क्रिकेट की बात करें तो इस समय एक ही चर्चा है कि इस साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप में खेलने जाने वाली टीम इंडिया के 15 खिलाड़ी कौन होंगे। इसके अलावा भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खत्म हुई पांच वनडे की सीरीज ने रिषभ पंत की तकनीक और सोचने की क्षमता पर सवाल उठाए हैं। पूर्व भारतीय बल्लेबाज और कमेंटेटर संजय मांजरेकर ने भी…
नई दिल्ली। बीसीसीआइ ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए परिवारों की मदद के लिए सेना राहत कोष और राष्ट्रीय रक्षा कोष को 20 करोड़ रुपये दान देने का फैसला किया है। इस हमले में कम से कम 40 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए थे।बीसीसीआइ के अधिकारी भारतीय सैन्य बलों (सेना, वायु सेना और नौसेना) के वरिष्ठ अधिकारियों को 23 मार्च को चेन्नई में आइपीएल के शुरूआती मैच के दिन…
Page 1 of 48

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें