हैदराबाद। भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद सिराज ने भारत वापस लौटने के बाद बड़ा खुलासा किया। उन्होंने कहा कि, ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट फैन द्वारा नस्लीय टिप्पणी किए जाने के बाद वो मानसिक तौर पर और मजबूत हो गए थे। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी टेस्ट मैच के दौरान भारतीय तेज गेंदबाज मो. सिराज व जसप्रीत बुमराह पर नस्लीय टिप्पणी की गई थी। इसके बाद अजिंक्य रहाणे की टीम इंडिया को मैदान पर मौजूद अंपायर ने सलाह दी थी कि, वो मैच को छोड़कर मैदान से बाहर जा सकते हैं, लेकिन भारतीय टीम ने ऐसा करने का फैसला नहीं किया था। सिराज ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि, ऑस्ट्रेलियन क्रिकेट फैंस ने मुझे गालियां देनी शुरू कर दी थी, लेकिन इस घटना ने मुझे मानसिक तौर पर और मजबूत बना दिया। इसकी वजह से मैं बिल्कुल भी विचलित नहीं हुआ और जो मेरा काम था वही किया। हालांकि मैंने इस घटना के बारे में कप्तान रहाणे को बताया। इसके बाद अंपायर ने कहा कि, आप मैदान छोड़ सकते हैं, लेकिन अज्जू भाई (अजिंक्य रहाणे) ने कहा कि, हम मैदान से बाहर नहीं जाएंगे क्योंकि हम क्रिकेट का सम्मान करते हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ क्रिकेट सीरीज शुरू होने से ठीक पहले सिराज के पिता का निधन हो गया था, लेकिन वो टीम के साथ बने रहे। हालांकि उनके पिता उन्हें टेस्ट मैच खेलते हुए नहीं देख पाए जो उनका सपना था। मो. सिराज ने इस टेस्ट सीरीज में भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लिया था और उन्होंने गाबा में एक पारी में पांच विकेट भी चटकाए। सिराज ने कहा कि, ये मेरे लिए काफी दुख भरी घड़ी थी। मैंने अपने पिता को खो दिया था और मैं इससे काफी डिस्टर्ब भी हुआ था। सिराज ने बताया कि, मैंने अपने परिवार से बात की और उन्होंने कहा कि आप अपने पिता का सपना पूरा करो। मेरे परिवार, मेरी होने वाली पत्नी और पूरी भारतीय टीम ने इस दुख की घड़ी में मेरा पूरा साथ दिया। मैंने इस टेस्ट सीरीज में लिए हर विकेट को अपने पिता को समर्पित किया। सिराज ने मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था। भारत ने इस टेस्ट सीरीज को 2-1 से जीता। 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें