सिडनी। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग इस समय अपनी राष्ट्रीय टीम के साथ हैं। बतौर असिस्टेंट कोच रिकी पोंटिंग कंगारू टीम के साथ जुड़े हुए हैं। पोंटिंग को स्टीव स्मिथ को थ्रो डाउन देना पड़ रहा है, क्योंकि ऑस्ट्रेलियाई टीम के पास भारत की तरह कोई थ्रोडाउन विशेषज्ञ नहीं हैं। ऐसे में रिकी पोंटिंग अपने खिलाड़ियों को थ्रो डाउन कराकर भारत के खिलाफ होने वाली वनडे सीरीज के लिए तैयार कर रहे हैं।जो खिलाड़ी यूएई में आइपीएल खेलकर लौटे हैं, जिनमें स्टीव स्मिथ, डेविड वार्नर, पैट कमिंस, ग्लेन मैक्सवेल, जोश हेजलवुड और मार्कस स्टोइनिस जैसे खिलाड़ी शामिल हैं, उनको रिकी पोंटिंग सिडनी के ओलंपिक पार्क में अलग से ट्रेनिंग दे रहे हैं, जबकि ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कोच जस्टिन लैंगर उन खिलाड़ियों के साथ काम कर रहे हैं जो आइपीएल में नहीं खेल थे। रिकी पोंटिंग भी आइपीएल का हिस्सा थे, क्योंकि वे बतौर कोच दिल्ली कैपिटल्स के साथ जुड़े हुए थे।लैंगर ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "हमें यहीं एक दूसरे की मदद करने की जरूरत है। मैं 10 साल पहले बल्लेबाजी कोच था, उसके दो-तीन साल तक रहा। यह काफी मुश्किल काम है। दुख की बात यह है कि हमारे पास ग्रैम हिक(थ्रो डाउन स्पेशलिस्ट) नहीं हैं। पहले हमारे पास मिशेल डी वेनटुओ थे (दोनों बल्लेबाजों की मदद के लिए थे)। यह (बल्लेबाजों की मदद करना) बड़ी जिम्मेदारी है। मैं पोंटिंग को जानता हूं, वह 10 दिन से स्मिथ को थ्रो डाउन कर रहे हैं, उनके हाथ दर्द करने लगे हैं।"ऑस्ट्रेलियाई टीम के मुख्य कोच लैंगर ने आगे कहा, "मैं कुछ महीनों से पोंटिंग से मजाक करता हूं और पूछता हूं कि स्मिथ थ्रो डाउन करना कैसा है? हमारे खिलाड़ी गेंद को मारना पसंद करते हैं। यह हमारे काम का हिस्सा है। हमें अपने खिलाड़ियों को अच्छे से अच्छे से तैयार करना है। हमें यह करना है चाहे थ्रो डाउन विशेषज्ञ के तौर हो या किसी और तरीके से। हम काफी मेहनत कर रहे हैं। वार्नर, स्मिथ, मैक्सवेल यह सभी पैट कमिंस, जोश हेजलवुड, डेनियल सैम्स, एंड्रयू टाय की गेंदों का सामना कर रहे हैं।"

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें