नई दिल्ली। खेल चाहे कोई भी है हर खिलाड़ी का कोई ना कोई लकी चार्म होता ही है या फिर ऐसा कह लें कि कुछ चीजें ऐसी होती है जिससे खिलाड़ियों को ऐसा लगता है कि वो उसे करके ज्यादा अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं। कई क्रिकेटर्स भी ऐसे हुई हैं जिनका इन सब बातों पर विश्वास था और वो कुछ ना कुछ ऐसा करते ही थे या फिर अब भी ऐसा ही है। टीम इंडिया व आइपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के कप्तान विराट कोहली के साथ भी कुछ ऐसा ही है।विराट कोहली ने इंस्टाग्राम चैट के दौरान मैनचेस्टर सिटी के बॉस पेप गार्डियोला से बात करते हुए बताया कि, क्रिकेट में उनका भी एक अंधविश्वास है कि उन्हें सफेद जूतों में खेलना बहुत पसंद है खास तौर पर जब मैं बल्लेबाजी कर रहा होता हूं तो सफेद जूते ही पहनता हूं। उन्होंने कहा कि ऐसा करना मेेरे लिए अंधविश्वास से कहीं ज्यादा है। यानी विराट का ये मानना है कि सफेद जूतों में वो ज्यादा अच्छी बल्लेबाजी करते हैं। 31 साल के विराट ने कहा कि जब मैं बल्लेबाजी कर रहा होता हूं तो ये मेरा जोन और मेरा समय होता है कि मैं खुद के साथ रहूं और प्रदर्शन करूं। वहीं विराट ने भी पेप से पूछा था कि आपने भी अपने खेलने के दिनों में जूते का रंग बदला था। इसके जवाब में गार्डियोला ने कहा कि, जब मैं खेलता था तब मेरे सारे जूते काले थे। मुझे ऐसा लगा कि काले जूते को कैरी करना या खोजना जरा मुश्किल है तब मैंने लाल जूते पहनने शुरू किए। इसके बाद मेरी मां और मैनेजर ने मुझे सलाह दी कि मुझे फिर से काले जूते ही पहनने चाहिए। पेप ने बताया कि कोविड 19 की वजह से इन दिनों फुटबॉल मुकाबले भी बिना फैंस के खेले जा रहे हैं और ऐसा लगता है कि हम जैसे कोई फ्रेंडली मैच खेल रहे हैं। बिना फैंस के ये पहले जैसा नहीं है हमें उनकी मैदान पर जरूरत है और जब सब कुछ ठीक हो जाए तब वो मैदान पर वापसी करें इससे अच्छा और क्या हो सकता है। हम अपने प्रशंसकों को मिस कर रहे हैं। वहीं आपको बता दें कि विराट कोहली इस वक्त यूएई में आइपीएल 2020 में खेल रहे हैं। 13वें सीजन में वो आरसीबी को लीड कर रहे हैं। 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें