नई दिल्ली। भारतीय टीम शुक्रवार को बांग्लादेश के खिलाफ अपने पहले पिंक बॉल टेस्ट मैच में खेलने उतरी। दुनिया की सबसे बेहतरीन गेंदबाजी अटैक रखने वाली टीम इंडिया ने पहले ही सेशन में बांग्लादेश के छह विकेट झटक लिए। लंच के ठीक पहले मोहम्मद शमी ने एक खतरनाक बाउंसर मारी जिसपर घायल होकर लिटन दास को वापस लौटना पड़ा।बांग्लादेश के लिए कोलकाता टेस्ट मैच की शुरुआत बेहद खराब रही और पहले सेशन में ही टीम ने छह विकेट गंवा दिए। लंच से ठीक पहले मोहम्मद की एक तेज रफ्तार बाउंसर ने बांग्लादेश के विकेटकीपर बल्लेबाज लिटन दास घायल हो गए।
शमी की बाउंसर पर घायल लिटन दास:-लंच से मोहम्मद शमी 21वां ओवर करने आए थे और चौथी गेंद पर उन्होंने तेज बाउंसर मारा। गेंद सीधा लिटन दास के हेलमेट पर जा लगी। बाउंसर लगने के बाद लिटन थोड़े असहज लगे लेकिन उन्होंने खुद को संभालते हुए अगली गेंद पर चौका लगाया। शमी की बाउंसर पर लगी चोट का असर लिटन को अगले ओवर में समझ आया और उन्होंने अंपायर को इसके बारे में बताया। लंच के पहले इशांत के ओवर को चौथी गेंद के बाद रोका गया और लिटन रिटायर हर्ट होकर वापस लौटे।
लिटन की जगह मेहदी हसन:-चोट लगने के बाद लिटन दास 24 रन बनाकर रिटायर हर्ट हुए और लंच के बाद विकेट गिरने के बाद वह बल्लेबाजी करने नहीं आए। उनकी जगह प्लेइंग इलेवन से बाहर रखे गए मेहदी हसन को पहली पारी में बल्लेबाजी के लिए भेजा गया।कोलकाता के इडेन गार्डन्स पर खेले जा रहे डे नाइट टेस्ट में बांग्लादेश के कप्तान मोमिनुल हक ने टॉस जीता। टॉस जीतकर बांग्लादेश ने पहले बल्लेबाजी करने का फैसला लिया। इशांत शर्मा ने बांग्लादेश के पहला झटका दिया। ओपनर इमरूल कायेस उन्होंने महज 4 रन के स्कोर पर आउट किया। इसके बाद तीन लगातार बल्लेबाज बिना खाता खोले वापस लौटे। कप्तान मोमिनुल हक, मोहम्मद मिथुन और मुशफिकुर रहीम शून्य पर आउट हुए।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें