Editor

Editor

टीवी सीरियल 'अस्तित्व के एहसास की' (Shakti -Astitva Ke Ehsaas Ki) के जरिए धमाल मचाने वाली रुबीना दिलाइक (Rubina Dilaik) फिर से सुर्खियों में है। रुबीना की ब्राइडल अवतार वाली तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल होती हुई नजर आ रही है।सीरियल शक्ति-अस्तित्व के एहसास की के करेंट ट्रैक में रुबीना दुल्हन के रुप में नजर आ रही है।शूटिंग से समय निकालकर रुबीना ने जमकर फोटोशूट करवाया।रुबीना की ये कैंडिड तस्वीर वाकई में काफी खूबसूरत है।रुबीना को इस अंदाज में देखकर हर किसी की निगाहें थम सी गई।रुबीना ने मेकअप करवाते-करवाते भी कई सारी सेल्फी खींच डाली।रुबीना ने सारे गहने खुद से ही पहने।टीवी की किन्नर बहू ने वैनिटी वैन में घुसने से पहले भी खूब तस्वीरें क्लिक करवाई।

संजीवनी 2 (Sanjivani 2) को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। इस सीरियल की शूटिंग कुछ हफ्ते पहले ही शुरु हुई थी। जहां लोग गुरदीप कोहली (Gurdeep Kohli) और मोहनीश बहल (Mohnish Bahl) को फिर से डॉक्टर के रुप में देखने के लिए बेताब है वहीं लोग सुरभि चंदना (Surbhi Chandna) के कमबैक के इंतजार में है। कुछ घंटे पहले ही निर्माताओं ने इस फिल्म के टीजर को लॉन्च कर दिया है।सामने आए इस टीजर को देखने के बाद आपकी पुरानी यादें ताजा हो जाने वाली है। टीजर की शुरुआत गुरदीप और मोहनीश से होती है, जोकि एक ऑपरेशन थिएटर से बाहर निकलते हुए नजर आ रहे है। दोनों एक दूसरे को मुस्कुराते हुए बाहर आते है और बाहर आते ही उन्हें सुरभि के साथ-साथ नमित खन्ना ज्वॉइन करते है। टीजर के बैकग्राउंड में संजीवनी की पुरानी वाली टोन बजती हुई सुनाई दे रही है, जिसे सुनने के बाद आप वाकई में पुराने दिनों में खो से जाएंगे।निर्माताओं ने इस टीजर को सोशल मीडिया पर साझा किया है और इसे साझा करते हुए उन्होंने कैप्शन में लिखा है, 'संजीवनी के हमारे डॉक्टर्स आपके दिलों में अपनी जगह बनाने आ रहे है। जल्द आ रहा है स्टार प्लस पर...।'
कहां है शायंतनी घोष?:-संजीवनी 2 में गुरदीप, मोहनीश, सुरभि और नमित के अलावा शायंतनी घोष (Sayantani Ghosh) भी नजर आने वाली है। ऐसे में कई लोग सोशल मीडिया पर पूछ रहे है कि आखिर टीजर में शायंतनी की झलक क्यों नहीं दिखाई गई?
सालों पहले लॉन्च हुआ था पहला पार्ट:-इस सीरियल के पहले पार्ट को साल 2007 में लॉन्च किया गया था। स्टार प्लस पर आने वाला ये सीरियल पूरे चार साल तक ऑनएयर हुआ और हर किसी ने इस सीरियल को बड़े ही चाव से देखा। इस सीरियल में मोहनीश और गुरदीप के साथ साथ रुपाली गांगुली, मिहीर मिश्रा डॉक्टर्स की भूमिका में नजर आए थे। कुछ साल बाद ही इस सीरियल का सीक्वल आया और इसमें करण सिंह ग्रोवर, सुक्रिती कंडपाल, करन वाही और शिल्पा आनंद जैसे कलाकार दिखे।

टीवी सीरियल कसौटी जिंदगी के (Kasautii Zindagii Kay) में इन दिनों हाई वोल्टेज ड्रामा चल रहा है। एक ओर अनुराग (Parth Samthaan) प्रेरणा (Erica Fernandes) से शादी की तैयारियों में बिजी हैं तो वहीं, दूसरी ओर प्रेरणा मिस्टर बजाज (Karan Singh Grover) की दुल्हनिया बनने जा रही हैं। लेकिन ऐसे में एरिका को मिस्टर बजाज की रियल लाइफ पत्नी बिपाशा बसु की मदद लेनी पड़ी।दरअसल, बिपाशा बसु बंगाली बाला हैं। उनकी ओर करण सिंह ग्रोवर की शादी भी बंगाली रीति रिवाज से ही संपन्न हुई थी। ऐसे में मेकर्स ने बंगाली दुल्हन के लिए बिपाशा बसु से कॉन्टेक्ट किया।इस टीवी शो में करण सिंह ग्रोवर की ऑन स्क्रीन पत्नी के किरदार में एरिका फर्नांडिज नजर आने वाली है। ऐसे में बिपाशा ने बंगाली रस्मों-रिवाज के मुताबिक दुल्हन के जोड़े के लिए लाल और सफेद रंग का खास ध्यान रखा।लेकिन बिपाशा बसु ट्रेडिशनल होने के साथ-साथ मॉर्डन भी हैं। इसीलिए उन्होंने एरिका के ब्राइडल लुक में इस बात का खास ध्यान रखा कि उनका लुक बेहद खास रहे।एरिका दुल्हन के इस गेटअप में बेहद खूबसूरत नजर आ रही है। लगता है कि एक्ट्रेस अपने ब्राइडल लुक से बेहद खुश है।एरिका ने अपने ब्राइडल लुक की कई सारी पिक्चर्स इंस्टाग्राम पर शेयर की है। लगता है कि मिस्टर बजाज की दुल्हनिया बनने के लिए वो काफी एक्साइटेड हैं।दुल्हन के गेटअप में सजी एरिका मिस्टर बजाज के संग सात फेरे लेने से पहले जमकर मस्ती भी करती नजर आ रही है।अब एरिका मिस शर्मा से मिसेज बजाज के रोल में दिखने ही वाली है। ऐसे में आने वाले एपिसोड्स में उनके हाथों में रची मेहंदी टीवी सीरियल में क्या धमाल मचाती है, ये देखने वाली बात होगी।

अनन्या पांडे (Ananya Panday), कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) और भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) पिछले कुछ समय से अपनी आगामी रिलीज होने वाली फिल्म 'पति पत्नी और वो' (Pati Patni Aur Woh) को लेकर सुर्खियों में बने हुए हैं। पिछले दिनों इन तीनों ने मिलकर इस फिल्म की शूटिंग करना शुरू की थी। इसके बाद अब अनन्या पांडे (Ananya Panday), कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) और भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) इस फिल्म की शूटिंग के लिए लखनऊ शहर में पहुंचे हैं। 'पति पत्नी और वो' (Pati Patni Aur Woh) की शूटिंग शुरू करने से पहले अनन्या पांडे और कार्तिक आर्यन ने सोशल मीडिया पर कुछ तस्वीरें शेयर की हैं।एक्ट्रेस ने लखनऊ के फेमस कबाब को लेकर ये पोस्ट किया है साथ ही अनन्या पांडे ने सोशल मीडिया पर शेयर की तस्वीर के साथ कैप्शन में लिखा- 'kebabs > kebab mein haddi #PatiPatniAurWohMood #FirstDay #WishMeLuck'सोशल मीडिया पर अनन्या पांडे और कार्तिक आर्यन ने शेयर की तस्वीर तेजी से वायरल हो रही हैं। कुछ घंटो पहले शेयर इन तस्वीरों को अब तक लाखों लाइक मिल चुके है। वैसे आपको बता दें, फिल्म में कार्तिक आर्यन का किरदार चिंटू त्यागी का होगा। फिल्म की शूटिंग शुरू करने से पहले उन्होंने ने अपने लुक की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर दर्शकों के लिए शेयर की थी। इस फोटो में कार्तिक आर्यन सिंपल पैंट शर्ट के साथ मूछों में दिखाई दिए थे।मिली जानकरी के अनुसार, भूमि पेडनेकर फिल्म में बॉलीवुड एक्टर कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) की पत्नी की भूमिका में दिखाई देंगी। तो वहीँ अनन्या पांडे (Ananya Panday) का किरदार उबकी प्रेमिका का होगा। अनन्या पांडे (Ananya Panday), कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) और भूमि पेडनेकर (Bhumi Pednekar) की ये फिल्म साल 1978 में रिलीज हुई फिल्म 'पत्नी और वो' की रीमेक है। इस फिल्म का निर्देशन मुदस्सर अजीज कर रहे हैं।

नई दिल्ली। टीम इंडिया के पूर्व दिग्गज सलामी बल्लेबाज और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर के नाम वर्ल्ड कप का एक ऐसा महारिकॉर्ड दर्ज है जो अभी तक टूट नहीं पाया है। यहां तक कि इंग्लैंड और वेल्स में खेले जा रहे वर्ल्ड कप 2019 में जो भी खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के उस महारिकॉर्ड के पास पहुंचा है उसकी टीम वर्ल्ड कप से बाहर हो गई है। दरअसल, साल 2003 के वर्ल्ड कप में सचिन तेंदुलकर ने 673 रन बनाए थे जो कि एक वर्ल्ड कप में किसी एक बल्लेबाज द्वारा बनाए गए सबसे ज्यादा रन हैं। इस तरह ये वर्ल्ड कप का महारिकॉर्ड है जो अभी तक अटूट है। लेकिन, साल 2019 में सचिन तेंदुलकर के इस महारिकॉर्ड के आसपास तीन खिलाड़ी पहुंचे हैं लेकिन उनकी टीम वर्ल्ड कप 2019 से बाहर हो गई है। जी हां, हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा, ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज डेविड वार्नर और बांग्लादेश के ऑलराउंडर शाकिब अल हसन का नाम है, जिन्होंने वर्ल्ड कप के 12वें सीजन में 600-600 से ज्यादा रन बनाए और इनकी टीम वर्ल्ड कप से बाहर हो गई है।वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल खत्म होने तक रोहित शर्मा 648 रन, डेविड वार्नर 647 रन और शाकिब अल हनस ने 606 रन बनाए। ये तीन खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के एक वर्ल्ड कप में बनाए गए सबसे ज्यादा रन के पास पहुंचे हैं लेकिन टीम नॉकआउट हो गई है।इनके अलावा दो और बल्लेबाज हैं जो इस रिकॉर्ड के करीब हैं जो फाइनल खेलेगें। इनमें एक इंग्लैंड के जो रूट और दूसरे कीवी कप्तान केन विलियमसन हैं, जो अब तक क्रमशः 549 और 548 रन बना चुके हैं। इन दोनों को सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ने के लिए रूट को 125 और विलिमयसन को 126 रन बनाने हैं।

नई दिल्ली। टीम इंडिया वर्ल्ड कप 2019 से बाहर हो चुकी है और वो रविवार को स्वदेश लौटेगी। टीम की इस हार के बाद टीम में कई बदलाव हो सकते हैं साथ ही साथ बीसीसीआई में भी बड़े बदलाव होंगे। आने वाले कुछ वक्त में टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ से लेकर सेलेक्शन कमेटी में भी बदलाव देखने को मिल सकते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के कोचिंग स्टाफ व सेलेक्शन कमेटी का अनुबंध खत्म होने वाला है ऐसे में भारतीय क्रिकेट बोर्ड नए सिरे से चयन कर सकती है। वहीं दूसरी तरफ 22 अक्टूबर को बीसीसीआई के चुनाव होंगे। चुनाव के बाद सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित सीओए का कार्यकाल भी समाप्त हो जाएगा। वहीं बीसीसीआई के चुनाव के बाद 23 सितंबर तक बोर्ड के सभी राज्य संघों के चुनाव होने हैं ऐसे में कई परिवर्तन देखने को मिल सकते हैं।भारतीय क्रिकेट टीम के कोच रवि शास्त्री का अनुबंध विश्व कप ही था, लेकिन इसके बढ़ाकर वेस्टइंडीज दौरे तक कर दिया गया। उसके बाद वो टीम को मुख्य कोच बने रहेंगे या नहीं इस पर भी सवाल है। माना तो ये जा रहा है कि उनका अनुबंध नहीं बढ़ाया जाएगा। वो कोच पद के लिए फिर से आवेदन कर सकते हैं। टीम इंडिया का कोच चुनने का फैसला सीएसी करती है जिसमें पिछली बार सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली व वीवीएस लक्ष्मण शामिल थे। इनमें से गांगुली व लक्ष्मण अब सीएसी का हिस्सा नहीं हैं। दोनों ने हितों के टकराव मामले पर खुद को सीएसी से अलग कर लिया था।विश्व कप में भरत अरुण की देखरेख में भारतीय बल्लेबाजों जबकि आर श्रीधर की देखरेख में भारतीय फील्डरों ने अच्छा प्रदर्शन किया था। वहीं बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ पर सवाल उठ रहे हैं। खास तौर पर सेमीफाइनल में हार के बाद यही कहा जा रहा है कि वो अपनी जिम्मेदारी सही तरीके से नहीं निभा पाए। टीम में नंबर चार की समस्या बनी रही और इसे संजय बांगड़ नहीं सुलझा पाए। माना जा रहा है कि बांगड़ की छुट्टी हो सकती है।भारतीय क्रिकेट टीम की चयन समिति का कार्यकाल अक्टूबर में होने वाली बोर्ड की आम सभा तक ही है। यानी ये तय है कि इसमें भी बदलाव होंगे। अगले वर्ष टीम इंडिया को ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी 20 विश्व कप में हिस्सा लेना है ऐसे में काफी कुछ बदलाव देखने को मिल सकते हैं।

नई दिल्ली।ICC cricket world cup 2019 लगभग खत्म होने को है। इस विश्व कप में टीम इंडिया का सफर सेमीफाइनल में ही खत्म हो गया था। अब टीम इंडिया के पूर्व गेंदबाज आशीष नेहरा ने इस विश्व कप के लिए अपनी फेवरेट टीम का चयन किया है जिसमें उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी को टीम का कप्तान बनाया है। नेहरा ने अपनी टीम में ओपनर के तौर पर रोहित शर्मा व डेविड वार्नर को चुना है। ये दोनों अब तक विश्व कप में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में पहले और दूसरे स्थान पर मौजूद हैं। वहीं बाएं हाथ और दाएं हाथ की बल्लेबाजी भी इसके पीछे अहम वजह है। वहीं तीसरे नंबर के लिए नेहरा ने विराट कोहली को अपनी टीम में चुना है। इस टीम में चौथे नंबर पर बल्लेबाजी के लिए केन विलियमसन को शामिल किया गया है वहीं पांचवें नंबर पर बेहदरीन ऑल राउंडर शाकिब अल हसन शामिल किए गए हैं। टीम में विकेटकीपर-बल्लेबाज के तौर पर धोनी हैं जबकि अन्य ऑलराउंडर के तौर पर टीम में बेन स्टोक्स का नाम शामिल है। नेहरा की टीम में तीन तेज गेंदबाज हैं जिनमें जोफ्रा आर्चर, जसप्रीत बुमराह व मिचेल स्टार्क शामिल हैं। युजवेंद्र चहल को टीम में बतौर स्पिनर जगह दी गई है। नेहरा की टीम में भारत के पांच खिलाड़ी जबकि इंग्लैंड व ऑस्ट्रेलिया के दो-दो और न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के एक-एक खिलाड़ी शामिल किया गया है।
विश्व कप के लिए आशीष नेहरा की फेवरेट प्लेइंग इलेवन:-रोहित शर्मा, डेविड वॉर्नर, विराट कोहली, केन विलियमसन, शाकिब अल हसन, महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान), बेन स्टोक्स, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह, जोफ्रा आर्चर, मिचेल स्टार्क।

नई दिल्ली। फेसबुक के यूजर्स की गोपनीय सूचनाओं को भंग किए जाने को लेकर फेडरल ट्रेड कमीशन(FCI) ने FACEBOOK पर 5 अरब डॉलर (34 हजार करोड़ रुपये) का जुर्माना लगाया है। एक अमेरिकी अखबार ने यह जानकारी दी है। अखबार ने कहा कि संघीय व्यापार आयोग(FCI) ने 3-2 वोटों के साथ इस जुर्माने को मंजूरी दी है। उपभोक्ता संरक्षण एजेंसी के दो डेमोक्रेटिक सदस्यों ने इसके लिए असंतोष जताया था। रिपोर्ट के अनुसार गोपनीयता के उल्लंघन के मामले पर लगाया गया यह अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना होगा हालांकि अंतिम रूप देने से पहले अभी इसके लिए न्याय विभाग से स्वीकृति मिलने की आवश्यकता है।
सोशल मीडिया के हैं फायदे भी:-इस साल की शुरूआत में फेसबुक ने भी 'उपयोगकर्ता डेटा व्यवहार' पर कानूनी निबटारे के लिए 3 बिलियन डॉलर से 5 बिलियन डॉलर का भुगतान करने की उम्मीद जताई थी। एफटीसी ने पिछले साल घोषणा की थी कि उसने कैम्ब्रिज एनालिटिका द्वारा करोड़ों यूजर्स का निजी डेटा चुराने का मामला सामने के बाद फेसबुक के साथ 2011 के गोपनीयता समझौते में अपनी जांच को फिर से शुरू कर दिया है, राजनीतिक सलाहकार कंपनी कैम्ब्रिज एनालिटिका ने 2016 में डोनाल्ड ट्रंप के चुनाव अभियान के लिए काम किया था।
इतना भी बुरा नहीं है फेसबुक, दूर करता है डिप्रेशन और टेंशन:-दुनिया के सबसे बड़े सोशल मीडिया नेटवर्क फेसबुक को अमेरिका और दुनिया भर के तमाम देशों में यूजर्स की निजता के उल्लंघन के मामले में पूछताछ और जांच का सामना करना पड़ रहा है। फेसबुक से यह भी पूछा गया है कि क्या उसने पहले किए गए समझौते का उल्लंघन करते हुए बिजनेस पार्टनर्स के साथ अनुचित तरीके से यूजर्स का डाटा शेयर तो नहीं किया। कुछ फेसबुक आलोचकों का तर्क है कि कंपनी पर डेटा व्यवहार की निगरानी सहित सख्त प्रतिबंध लगाने चाहिए, या फेसबुक के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जुकरबर्ग को दंड के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होना चाहिए। वहीं उपभोक्ता समूह पब्लिक नॉलेज के शार्लोट श्लेमन ने एक बयान में कहा, "मुझे उम्मीद है कि फेसबुक की व्यावसायिक कार्यप्रणालियों पर अतिरिक्त शर्तें लागू होंगी। समूह की प्रतिस्पर्धा नीति के वकील चार्लोट स्लेमियन ने कहा, क्या फेसबुक को अपने व्यवसाय मॉडल या प्रथाओं में कोई बदलाव करना चाहिए। अपने आप से, फेसबुक के व्यवहार को बदलने के लिए यह जुर्माना पर्याप्त नहीं होगा।" फेसबुक ने समझौते पर एएफपी क्वेरी का तुरंत जवाब नहीं दिया। एफटीसी ने पिछले साल घोषणा की कि उसने फेसबुक के साथ 2011 के गोपनीयता समझौते में अपनी जांच को फिर से खोल दिया, जिसमें बताया गया कि दसियों करोड़ उपयोगकर्ताओं के निजी डेटा को राजनीतिक कंसल्टेंसी कैम्ब्रिज एनालिटिका द्वारा चोरी कर लिया गया था, जो 2016 में डोनाल्ड ट्रम्प अभियान पर काम कर रहा था।
दो अरब से अधिक इस्तेमाल करने वाले;-फेसबुक का इस्तेमाल दुनिया भर में दो अरब से अधिकलोग कर रहे हैं, इस वजह से ये सोशल नेटवर्किंग कंपनी की ग्रोथ इतनी अधिक है। इतने अधिक यूजर्स के साथ ये टॉप कंपनी है। जिस कंपनी के जितने अधिक यूजर्स हो उनको यूजर्स का डेटा उतना अधिक संभालकर रखना चाहिए मगर यहां ऐसा नहीं किया गया जिसकी वजह से फेसबुक पर इतनी बड़ी पेनाल्टी लगाई गई है। जुर्माना की घोषणा के बाद फेसबुक का स्टॉक मूल्य 1.8 प्रतिशत बढ़ गया, लगभग USD 205 पर बंद हुआ, जो कि सभी वर्ष में सबसे अधिक है।कुछ फेसबुक आलोचकों ने तर्क दिया है कि कंपनी को अपने डेटा प्रथाओं की निगरानी सहित सख्त प्रतिबंधों का सामना करना चाहिए, या मुख्य कार्यकारी मार्क जुकरबर्ग को दंड के लिए व्यक्तिगत रूप से उत्तरदायी होना चाहिए। फेसबुक के प्रमुख निक क्लेग ने सरकारों से कंपनियों को काम छोड़ने के बजाय सामाजिक नेटवर्क को नियमित करने के लिए और अधिक करने का आह्वान किया। क्लेग ने बीबीसी के साथ 24 जून को दिए एक साक्षात्कार में कहा यह निजी कंपनियों के लिए नहीं है, यह लोकतांत्रिक दुनिया में लोकतांत्रिक राजनेताओं के लिए है। लेकिन बड़े पैमाने पर सामाजिक नेटवर्क को खत्म करने के लिए कॉल बढ़ रही हैं। मई में, फेसबुक के सह-संस्थापकों में से एक ने सोशल मीडिया के बेमॉथ को तोड़ने के लिए कहा, यह चेतावनी देते हुए कि ज़करबर्ग बहुत शक्तिशाली हो गए थे। यह फेसबुक को तोड़ने का समय है। द न्यू यॉर्क टाइम्स के लिए एक संपादकीय में क्रिस ह्यूजेस ने कहा, सोशल नेटवर्क को फेसबुक की इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप सेवाओं से अलग करना आवश्यक हो गया था।

नई दिल्ली।क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले लॉर्ड्स पर 12वें वर्ल्ड कप का फाइनल मैच मेजबान इंग्लैंड व न्यूजीलैंड के बीच खेला जाएगा। विश्व कप इतिहास में ये पहला मौका है जब दोनों टीमों के बीच फाइनल मुकाबला होगा। वहीं लॉर्ड्स के मैदान पर ये पांचवां मौका है जब वर्ल्ड कप का फाइनल मैच खेला जाएगा।
कहां-कहां खेला गया है विश्व कप का फाइनल मैच:-12वां विश्व कप अपनी समाप्ती की तरफ है और इस बार फाइनल मैच लॉर्ड्स पर होगा। 1975 में जब विश्व कप की शुरुआत हुई थी तब पहले सीजन में फाइनल मैच इसी मैदान पर खेला गया था। उसके बाद ये लेकर अब तक पांचवीं बार ये मैदान फाइनल मैच का गवाह बनेगा। लॉर्ड्स के अलावा विश्व कप फाइनल मैच कोलकाता, मेलबर्न, लाहौर, लॉर्ड्स, जोहानसबर्ग, ब्रिजटाउन, मुंबई व मेलबर्न में खेले जा चुके हैं। आइए एक नजर जालते हैं कि विश्व कप फाइनल कहां-कहां खेला गया था।
-1975 - Lord's
-1979 - Lord's
-1983 - Lord's
-1987 - Kolkata
-1992 - Melbourne
-1996 - Lahore
-1999 - Lord's
-2003 - Johannesburg
-2007 - Bridgetown
-2011 - Mumbai
-2015 - Melbourne
-2019 - Lord's*
किस-किस के बीच अब तक फाइनल में हुई भिड़ंत;-वर्ल्ड कप के फाइनल में पहले सीजन में फाइनल मैच वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया था और इंडीज की टीम ने खिताब जीता था। वहीं दूसरी बार इंग्लैंड की टीम का सामना फाइनल में इंडीज के साथ हुआ था और ये टीम विश्व कप खिताब जीतने से चूक गई थी। तीसरे विश्व कप में टीम इंडिया ने फाइनल में वेस्टइंडीज को हराकर पहली बार खिताब जीता था। वहीं पिछले विश्व कप में न्यूजीलैंड व ऑस्ट्रेलिया फाइनल तक पहुंचे थे जहां कंगारू टीम की जीत हुई थी।
Worldcup Finals
-1975 - AUS vs WI
-1979 - ENG vs WI
-1983 - IND vs WI
-1987 - AUS vs ENG
-1992 - PAK vs ENG
-1996 - AUS vs SL
-1999 - AUS vs PAK
-2003 - AUS vs IND
-2007 - AUS vs SL
-2011 - SL vs IND
-2015 - NZ vs AUS
-2019 - NZ vs ENG*

लंदन। जिब्राल्टर की पुलिस ने कहा कि ईरानी तेल टैंकर ग्रेस-1 के चालक दल के सभी चार सदस्यों को जमानत पर रिहा कर दिया गया है। इन पर कोई आरोप तय नहीं किया गया है। जमानत पर छूटे चालक दल के सभी सदस्य भारतीय बताए जा रहे हैं।ब्रिटिश नौसेना ने गत चार जुलाई को जिब्राल्टर द्वीप के पास इस तेल टैंकर को पकड़ा था। यह टैंकर तभी से ब्रिटेन के अधिकार वाले क्षेत्र जिब्राल्टर के तट पर खड़ा है। 330 मीटर लंबे इस तेल टैंकर को यूरोपीय यूनियन (ईयू) के प्रतिबंधों का उल्लंघन कर कच्चा तेल सीरिया ले जाने के संदेह में पकड़ा गया था।शिन्हुआ न्यूज एजेंसी के अनुसार, जिब्राल्टर की पुलिस ने शुक्रवार को एक बयान में कहा, 'गिरफ्तार किए गए ग्रेस-1 के चालक दल के सभी सदस्यों को बिना किसी आरोप के जमानत पर छोड़ दिया गया है। जांच चल रही है और ग्रेस-1 अभी कब्जे में है।' इसके पहले गुरुवार को जिब्राल्टर पुलिस ने ईरानी तेल टैंकर के भारतीय कैप्टन और एक मुख्य अधिकारी को गिरफ्तार किया था। इसके अगले दिन उनके दो अन्य साथियों को भी पकड़ लिया गया था।
ईरान और ब्रिटेन में बढ़ा तनाव:-तेल टैंकर पकड़े जाने के कारण ईरान और ब्रिटेन के बीच तनाव काफी बढ़ गया है। ईरानी विदेश मंत्रालय ने ब्रिटेन के राजदूत रॉब मैकेयर को तलब कर इस घटना पर विरोध दर्ज कराया था और तेल टैंकर छोड़ने की मांग की थी। साथ ही यह आरोप भी लगाया था कि अमेरिका के कहने पर तेल टैंकर को पकड़ा गया। इसके बाद ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने कहा था कि ब्रिटेन को तेल टैंकर पकड़ने का परिणाम भुगतना होगा।ब्रिटेन ने बीते गुरुवार को आरोप लगाया कि होर्मुज जलडमरूमध्य (स्ट्रेट) के पास ईरान के तीन पोतों ने उसके एक तेल टैंकर का रास्ता रोकने का प्रयास किया था। हालांकि ईरान ने इससे इन्कार किया था।

Page 8 of 706

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें