Editor

Editor

नई दिल्ली। गोवा (Goa) के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर (Manohar Parrikar) का रविवार को निधन हो गया। पैंक्रियाटिक कैंसर से पिछले एक साल से जूझ रहे 63 वर्षीय पर्रीकर ने रविवार शाम को अंतिम सांस ली। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने पर्रीकर के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। केंद्र सरकार ने 18 मार्च को एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया है। उनका अंतिम संस्कार सोमवार शाम को किया जाएगा। पर्रीकर के निधन से पूरे देश में शोक की लहर है।
मनोहर पर्रीकर के अंतिम संस्कार में शामिल होने पहुंचे अमित शाह:-मनोहर पर्रीकर को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी जाएगी। अंतिम संस्कार से जुड़ी सारी तैयारियां तकरीबन पूरी हो चुकी हैं। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह, महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फणनवीस और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ग्राउंड में पहुंच चुके हैं जहां पर मनोहर पर्रीकर का अंतिम संस्कार किया जाना है।
मनोहर पर्रीकर के अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में लोग शामिल:-गोवा के दिवंगत सीएम मनोहर पर्रीकर के पार्थिव शरीर को कला अकेडमी से मीरामार बीच तक ले जाया जा रहा है। उनकी इस अंतिम यात्रा में बड़ी संख्या में उनके चाहने वाले शामिल हैं। बता दें कि शाम 5 बजे गोवा की मीरामार बीच पर मनोहर पर्रीकर का अंतिम संस्कार किया जाएगा।
भावुक हुईं स्मृति ईरानी:-मनोहर पर्रीकर के अंतिम दर्शन के लिए पहुंची केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी यहां भावुक हो गईं। उनकी आंखें नम हो गईं। इस दौरान उन्होंने पर्रीकर के परिवार के सदस्यों से भी मुलाकात की।
कार्यक्रम रद कर पणजी पहुंचे पीएम मोदी:-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने आज के कार्यक्रम रद कर मनोहर पर्रीकर के अंंतिम संस्कार से पहले पणजी पहुंच गए हैं। यहां उन्होंने सीएम मनोहर पर्रीकर के निधन पर श्रद्धांजलि अर्पित की।
अंतिम संस्कार से पहले नए सीएम का ऐलान!;-मनोहर पर्रीकर के निधन के बाद खाली हुई सीएम की कुर्सी पर भाजपा ने अंतिम फैसला कर लिया है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विनय तेंदुलकर ने कहा, 'मुझे लगता है कि 2 बजे तक सब साफ हो जाएगा और 3 बजे के करीब गोवा के नए मुख्यमंत्री शपथ ले लेंगे।'
कांग्रेस ने फिर ठोंका सरकार का दावा:-उधर, कांग्रेस ने एक बार फिर गोवा की राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने का दावा पेश किया। कांग्रेस के चंद्रकांत कावलेकर ने कहा, 'हमने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया है क्योंकि राज्य में सबसे बड़ी पार्टी हम हैं। हमारे पास 14 विधायक हैं और सरकार बनाने का मौका हमें मिलना चाहिए। हमने ये भी बताया है कि हम सदन में बहुमत साबित कर देंगे।'
पीएम मोदी गोवा के रवाना :-मनोहर पर्रीकर की अंतिम यात्रा में गृह मंत्री राजनाथ सिंह शामिल होंगे। इसके अलावा पीएम नरेंद्र मोदी के भी अंतिम संस्कार में पहुंचने की संभावना है। पीएम गोवा के लिए रवाना हो चुके हैं। फिलहाल, पार्थिव शरीर के अंतिम दऱ्शनों के लिए भाजपा मुख्यालय से कला अकादमी ले जाया गया है। यहां काफी लोग मनोहर के अंतिम दर्शनों के लिए उमड़े हैं।
भाजपा हेडक्वार्टर में रखा गया पार्थिव शरीर:-मनोहर पर्रीकर का पार्थिव शरीर पणजी में भाजपा हेडक्वार्टर में रखा गया है। यहां के बाद उनका पार्थिव शरीर कला अकादमी ले जाया जाएगा। सुबह 11 से शाम 4 बजे तक आम जनता मनोहर पर्रीकर को श्रद्धांजलि दे सकेंगे। शाम 5 बजे मनोहर पर्रीकर का अंतिम संस्कार किया जाएगा।
गोवा में सात दिन, देश में एक दिन का राष्ट्रीय शोक:-मनोहर पर्रीकर के निधनस्वरूप गोवा में सात दिन का राजकीय शोक और पूरे देश में एक दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित किया गया है। गोवा में सोमवार को स्‍कूल कॉलेज के अलावा जिला अदालतें और यहां तक की हाईकोर्ट भी बंद रहेगी।
राजकीय सम्मान के साथ होगा अंतिम संस्कार:-गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रीकर का मिरामार बीच पर सैन्य एवं राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। मनोहर के निधन के शोक में भाजपा ने अपने सारे कार्यक्रम रद कर दिए हैं।

बुलंदशहर। Loksabha Election 2019 के तहत चुनाव प्रचार ने रफ्तार पकड़ ली है। सोमवार को 20 राज्यों की 95 सीटों के लिए नामांकन की प्रक्रिया शुरू हो गई। इस बीच नेताओं की जुबानी शुद्धता जवाब देने लगी है। केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री महेश शर्मा भी अब ऐसे नेताओं में शामिल हो गए हैं, जो विपक्षियों के खिलाफ आपत्तिजनक शब्दों बोलते दिखते हैं।केंद्रीय मंत्री ने रविवार का दिन ग्रेटर नोएडा और बुलंदशहर में गुजारा। इस दौरान बुलंदशहर के सिकंदराबाद में महेश शर्मा ने एक जनसंभा को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने जो भाषण दिया, वह मर्यादा लांघता दिखा। उन्होंने मंच से भाषण देते हुए कहा, 'अगर ममता बनर्जी यहां आ करके कथक करे और कर्नाटक के मुख्यमंत्री गीत गाए तो कौन सुन रहा है।' यहां तक तो सब ठीक था। इसके बाद उन्होंने कांग्रेस और राहुल गांधी पर हमला बोला।केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को 'पप्पू' कहकर पुकारा। उन्होंने कहा, 'पप्पू कहता है कि पीएम बनूंगा, अब तो पप्पू की.... भी आ गई। वो प्रियंका क्या पहले हमारे देश की बेटी नहीं थी?' उन्होंने आगे कहा, 'इनसे ऊपर ऊठकर देखना है तो आज हमारा शेर मोदी है।'

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में भाजपा को हराने के लिए गठबंधन बनाने के बाद मायावती के साथ अखिलेश यादव भी बेहद सक्रिय हैं। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी व राष्ट्रीय लोकदल के गठबंधन के प्रत्याशियों के खिलाफ कल कांग्रेस के सात सीट पर अपने प्रत्याशी न उतारने की घोषणा के बाद मायावती ने आज सुबह तीखी प्रतिक्रिया की तो दोपहर में अखिलेश यादव भड़क गए।मायावती के बाद समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कांग्रेस पर तीखा हमला बोला है। अखिलेश यादव ने साफ कहा कि हमारा गठबंधन काफी मजबूत है। हम भाजपा को हराने के लिए काफी हैं। हमको कांग्रेस की किसी भी मदद की जरूरत नहीं है। उन्होंने ट्वीट किया कि उत्तर प्रदेश में एसपी-बीएसपी और आरएलडी का गठबंधन भाजपा को हराने में सक्षम है।कांग्रेस पार्टी किसी तरह का कन्फ्यूजन न पैदा करे। इससे पहले आज सुबह सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के लिए उत्तर प्रदेश में सात सीटें छोडऩे के कांग्रेस के ऐलान पर बसपा सुप्रीमो मायावती बुरी तरह भड़क गईं। यहां तक कि मायावती ने ट्विटर पर ऐलान कर दिया कि कांग्रेस के साथ यूपी तो क्या देश के किसी भी हिस्से में भी गठबंधन नहीं करेंगी।कांग्रेस मुख्यालय में कल कॉन्फ्रेंस में प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा था कि गठबंधन के अमेठी और रायबरेली में प्रत्याशी न उतारने के एवज में कांग्रेस भी सपा-बसपा-रालोद गठबंधन के लिए सात सीटें छोड़ेगी।

प्रयागराज। अपने पुरखों की धरती प्रयागराज से स्टीमर के काफिला के साथ वाराणसी की गंगा यात्रा पर निकलीं प्रियंका गांधी वाड्रा ने सफर के दूसरे पड़ाव सिरसा घाट पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को समर्थन देने की अपील की। कांग्रेस महासचिव तथा पूर्वी उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने सिरसा घाट पर अपनी क्रूज बोट को छोड़ा और गेस्ट हाउस में लोगों को संबोधित किया। प्रियंका गांधी ने कहा कि 45 सालों में इतने कम रोजगार नहीं हुए जितने बीते 5 सालों में हुए। उन्होंने कहा कि देश इस समय संकट में है, इसलिए मुझे घर से बाहर निकलना पड़ा। लोगों से मतदान की अपील करते हुए प्रियंका गांधी ने कहा- वोट देकर देश को और अपने आप को मजबूत बनाएं। पीएम मोदी के चौकीदार कैंपेन पर निशाना साधते हुए प्रियंका गांधी ने कहा कि उनकी (पीएम मोदी) की मर्जी अपने नाम के आगे क्या लगाएं। मुझे तो एक किसान ने कहा कि चौकीदार अमीरों के होते हैं, हम किसान तो अपने खुद चौकीदार होते हैं।सिरसा घाट क्षेत्र में प्रियंका गांधी बोट से उतरकर बाजार में शिवगंगा वाटिका गेस्टहाउस पहुंची। यहां नुक्कड़ सभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि देश संकट में है। देश चार पांच लोगों के हाथ मे गिरवी है। इस चुनाव में आप अपने और बच्चों के भविष्य के लिए चुनाव कीजिये। कांग्रेस की सरकार को याद कीजिये। कांग्रेस को वोट कीजिये। राहुल गांधी के हाथ को मजबूत कीजिये।सिरसा में गंगा घाट पर पहुंचने के बाद 250 मीटर दूर गेस्ट हाउस तक उनके जाने के लिए प्रशासन की तरफ से एंबेसडर कार की व्यवस्था की गई थी। प्रियंका गांधी घाट से गेस्ट हाउस के लिए पैदल ही निकल पड़ी। तेज धूप, धूल और भीड़ के बीच लोगों का अभिवादन करते हुए वह अपने गेस्ट हाउस पहुंची।सिरसा बाजार में जनसंपर्क करने के लिए सुरक्षा व्यवस्था की परवाह न करते हुए प्रियंका गांधी पैदल निकल पड़ीं। एसपीजी की तरफ से फार्च्यूनर गाड़ी की व्यवस्था की गई थी। सिरसा बाजार में पैदल भ्रमण के बाद लौटते समय गंगा घाट पर मीडिया से बातचीत में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा चौकीदार अमीरों का होता है, गरीबों का नहीं।प्रियंका गांधी के साथ सैकड़ों की भीड़ उनके पीछे चल पड़ी है। घरों के सामने खड़ी महिलाओ व लड़कियों को गले लगाते हुए उनसे बात किया। कई बुजुर्ग लोगो से भी हाथ मिलाया।
दुमदुमा घाट पर प्रियंका ने लोगों से पूछा-आप अभी तक बेरोजगार क्यों:-प्रयागराज के दुमदुमा घाट पर पार्टी नेताओ व कार्यकर्ताओं ने उनका स्वागत किया। स्टीमर से उतरकर गांव वालों से मिलीं। प्रियंका गांधी ने नुक्कड़ सभा भी की। उन्होंने सभा को सम्बोधित किया। कहा कि सरकार बदलने के लिए चुनाव हो रहा है। आपका भविष्य बदलने के लिये चुनाव हो रहा है। राहुल गांधी के हाथ को मजबूत कीजिये।इस दौरान उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप भी जड़े और लोगों से पीएम मोदी की तर्ज पर पूछा कि आपके पास रोजगार है क्या। प्रियंका गांधी मनैया घाट से दुमदुमा घाट पहुंची। वह स्थानीय नेताओं से मिली हैं। यहां उन्होंने लोगों को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने पीएम मोदी और भाजपा पर काफी देर तक हमला बोला। प्रियंका गांधी ने यहां पर लोगों से पूछा कि आपके पास रोजगार है क्या? नौजवान और किसान परेशान हैं। बेमतलब के मुद्दों में उलझाया जा रहा है। जनता के लिए राजनीति होनी चाहिए। जनता की आवाज सुनी जानी चाहिए। आवाज उठाने वालों को डराया जाता है। प्रियंका गांधी ने कहा कि 45 वर्ष में सबसे कम रोजगार मिला। छह महीने से मनरेगा का पैसा नहीं मिला है। उन्होंने कहा कि किसानों को फसल का बाजिब दाम मिलना चाहिए। युवाओं को रोजगार चाहिए। महिलाओं को सुरक्षा चाहिए। यह सभी बड़े चुनावी मुद्दे हैं, लेकिन इन मुद्दों से भटकाया जा रहा है।प्रियंका ने कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस सरकार आई तो 10 दिनों में किसानों के कर्ज माफ कर दिए गए। राजस्थान में भी कांग्रेस की सरकार आते ही किसानों को राहत दी गई। उनका कर्ज माफ किया गया।
सिर्फ मत ही नहीं मांगेंगी, मतदान को प्रेरित भी करेंगी:-प्रियंका गांधी वाड्रा गंगा यात्रा के दौरान ग्रामीणों की स्थिति भी देखेंगी। उनके रहन-सहन के साथ ही नदी किनारे की संस्कृति का भी अवलोकन करेंगी। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संगठन मंत्री क्रांति शुक्ला ने बताया कि जल मार्ग से गंगा किनारे के गांवों में जा रहीं प्रियंका गांधी लोगों से सिर्फ पार्टी के लिए मत ही नहीं मांगेंगी, बल्कि ग्रामीणों को मतदान के लिए प्रेरित भी करेंगी। इसके लिए उन्होंने गांवों में पिछले चुनावों में मतदान प्रतिशत की रिपोर्ट भी मंगाई है। गंगा किनारे के गांवों में विकास की तस्वीर के साथ-साथ गंगा की अविरलता और निर्मलता भी देखेंगी।

नई दिल्ली। मुकेश अंबानी की टेलिकॉम कंपनी रिलायंस जियो अब टेलिकॉम तक ही सीमित नहीं रही है। कंपनी जल्द ही अपनी DTH सेवाएं भी पेश करने की योजना में है। ऐसे में कंपनी के इंडस्ट्री में कदम रखने से पहले ही लगता है बाकी कंपनियां अपनी तैयारी शुरू कर रही हैं। जियो ने केबल कंपनियां जैसे की Hathway, Datacom और DEN नेटवर्क का बड़ा हिस्सा तो अपने नाम कर ही लिया है। इस पूरी परिस्तिथि में मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, Bharti Airtel, Dish TV के साथ मर्जर की प्लानिंग कर रही है। जियो के टेलिकॉम इंडस्ट्री में आने के बाद बड़े स्तर पर कई बदलाव हुए हैं। ऐसे में माना जा रहा है की इस बार कंपनियां पहले से ही जियो के प्लान को टक्कर देने के लिए तैयारी कर रहीं हैं।मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इस मर्जर को लेकर अभी बातचीत शुरूआती चरण में ही है। अभी इस मर्जर को लेकर संभावनाएं तलाशी जा रही हैं। अगर ऐसा होता है तो DTH के क्षेत्र में जियो को कड़ी टक्कर मिलेगी। Airtel Digital TV और Dish TV मिलकर काफी बड़ी इकाई बन जाएगी। दोनों के एक होने पर यह दुनिया की सबसे बड़ी टीवी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी बनेगी। दोनों के मिलाकर, 38 मिलियन सब्सक्राइबर्स हो जाएंगे और भारत में DTH बाजार का 61 प्रतिशत हिस्सा इनका होगा।
DTH का यह मर्जर क्या जियो का नतीजा;-हालांकि, Dish और Videocon के मर्जर के बाद कंपनी की वैल्यू 17000 करोड़ रुपये हो गई है। लेकिन इसकी मार्किट वैल्यू घट कर 7200 करोड़ रुपये रह गई है। वहीं दूसरी ओर, Airtel Digital TV का रेवेन्यू बेहतर हुआ है। कंपनी ने 1000 करोड़ रुपये का रेवन्यू और 15 मिलियन सब्सक्राइबर्स जनरेट किए हैं। इससे कंपनी को 230 रुपये का ARPU हासिल हुआ है जो इंडस्ट्री में सबसे उच्चतम में से एक है। इसी के साथ जियो, जो Airtel का टेलिकॉम इंडस्ट्री में सबसे बड़ा प्रतिस्पर्धी, DTH बिजनेस में भी इसे कड़ी टक्कर देने वाला है। इस तरह, Airtel और Dish TV का मर्जर एक सही कदम दिखाई पड़ता है।

नई दिल्ली। बिहार के चर्चित शेल्टर होम केस को लेकर सोमवार को दिल्ली की साकेत कार्ट में सुनवाई हुई। दिल्ली में साकेत स्थित पाक्सो कोर्ट ने आरोप तय करने के लिए 25 मार्च की तारीख तय की है। मामले में मुख्य अभियुक्त ब्रजेश ठाकुर समेत 21 लोगों को चार्जशीट किया गया है।इससे पहले 13 मार्च को कोर्ट ने मामले की सुनवाई की थी। कोर्ट ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद आरोप तय करने के लिए 18 मार्च की तिथि निर्धारित की थी। अभी हाल में पांच आरोपितों ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों से इनकार किया था। उनका कहना था कि उनके खिलाफ सीबीआइ के पास पर्याप्त सुबूत नहीं हैं। मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामले में बतौर आरोपी 21 लोगों का नाम शामिल है।जुलाई महीने में बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में सरकारी सहायता प्राप्त एक शेल्टर होम में 16 बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामले ने सूबे सहित पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। बता दें, पीड़ित बच्चियों ने अपने एक साथी की हत्या कर शव को परिसर में दफनाने का आरोप भी लगाया था। इसी साल मई में टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के सोशल ऑडिट के दौरान मामले का खुलासा हुआ था।सोशल ऑडिट में यह सामने आया था कि वर्ष 2013 से 2018 के बीच शेल्टर होम से 6 लड़कियां गायब हुई हैं। हालांकि, इन लड़कियों के गायब होने का कोई पुलिस रिकॉर्ड नहीं है।
बिहार सरकार को सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी फटकार:-सात फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने लापरवाही को लेकर नीतीश सरकार के साथ सीबीआइ को भी फटकार लगाई थी। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा था कि बच्चों के साथ इस तरह का बर्ताव दुर्भायपूर्ण है। नाराज सुप्रीम कोर्ट ने इस संवेदनशील मामले को बिहार की सीबीआइ कोर्ट से दिल्ली की साकेत कोर्ट में ट्रांसफर कर दिया था।
क्या है पूरा मामला?:-टाटा इंस्‍टरच्‍यूट ऑफ सोशल साइंस (टिस) की सोशल ऑडिट रिपोर्ट में बिहार के विभिन्‍न शेल्‍टर होम में लड़कियों व बच्‍चों के उत्‍पीड़न व उनके साथ यौन हिंसा की बातें उजागर हुईं थीं। पहले तो सरकार ने इसपर ध्‍यान नहीं दिया, लेकिन बाद में कार्रवाई की गई। 31 मई 2018 को बाल संरक्षण इकाई के तत्कालीन सहायक निदेशक दिवेश कुमार शर्मा ने शेल्‍टर होम के पदाधिकारियों पर पॉक्सो व आइपीसी की धाराओं में महिला थाने में मुकदमा दर्ज कराया। इसके बाद 28 जुलाई को सीबीआइ ने मामले की जांच शुरू की।जांच के दौरान सीबीआइ ने मुजफ्फरपुर शेल्‍टर होम के संचालक ब्रजेश ठाकुर, इंदु कुमारी, मीनू देवी, मंजू देवी, चंदा देवी, नेहा कुमारी, हेमा मसीह, किरण कुमारी, रवि कुमार रोशन, विकास कुमार, दिलीप कुमार वर्मा, विजय कुमार तिवारी, गुड्डू कुमार पटेल, किशन राम उर्फ कृष्णा, रोजी रानी, डॉ. अश्विनी उर्फ आसमानी, विक्की, रामानुज ठाकुर, रामाशंकर सिंह व साइस्ता परवीन उर्फ मधु को आरोपित किया। मामले के मास्‍टरमाइंड ब्रजेश ठाकुर को पंजाब के जेल में स्‍थानांतरित कर दिया गया, ताकि वह मुकदमा प्रभावित न कर सके।

नई दिल्ली। देश के पहले लोकपाल पीसी घोष का नाम सामने आने के बाद समाजसेवी अन्ना हजारे की पहली प्रतिक्रिया आई है। लंबे समय से लोकपाल को लेकर लड़ाई लड़ रहे अन्ना हजारे ने अब खुशी जाहिर की है। लोकपाल के रूप में पीसी घोष का नाम सामने आने के बाद समाजसेवी अन्ना हजारे ने इसे देश की जनता की जीत बताया है।अन्ना ने कहा, 'सरकार पर भारी दबाव के चलते लोकपाल का नाम सामने आया है। आंदोलन के नौ साल बाद आज जो कार्रवाई हुई है। ये देश की जनता की जीत है। सुप्रीम कोर्ट की तारीफ करते हुए अन्ना हजारे ने कहा कि इस देश की सर्वोच्च व्यवस्था जो है, वो न्याय व्यवस्था है। सुप्रीम कोर्ट के भारी दबाव के बाद ही सरकार को झुकना पड़ा है। इस कारण सरकार को लोकपाल नियुक्त करना पड़ रहा है।गौरतलब है कि समाज सेवी अन्ना हजारे ने पिछले नौ साल में लोकपाल की नियुक्ति किए जाने को लेकर कई आंदोलन किए हैं। पिछले दिनों अन्ना हजारे ने अपने पैतृक गांव रालेगण सिद्धी में 30 जनवरी से 5 फरवरी तक अनशन किया था। मालूम हो कि सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश पिनाकी चंद्र घोष भारत के पहले लोकपाल हो सकते हैं। लोकपाल की चयन समिति ने लोकपाल अध्यक्ष और आठ सदस्यों के नाम तय कर लिए हैं। माना जा रहा है कि समिति ने लोकपाल अध्यक्ष के लिए जस्टिस पीसी घोष का चयन किया है

दिनों का फेर है साहब, वरना हर होली पर हास्य रस के कवियों का सीजन होता था लेकिन इस बार हास्य के कवि ‘सिजंड’ लकड़ी की तरह पड़े हैं! आलम यह है कि महामूर्ख सम्मेलन तक में वीर रस की कविताएं सुनी जा रही हैं। हास्य के कवियों को कतई उम्मीद नहीं थी कि इस बार होली पर वीर रस के कवि उन्हें खो खो के खेल की तरह ‘खो’ दे देंगे। पूरे देश में वीर रस का ज्वार आया है और इस ज्वार के बरक्स, हास्य कवियों को ज्वर चढ़ आया है। होली के अवसर पर जिस शहर में कवि सम्मेलन हो रहा था, वह शहर कवियों की हूटिंग करने के लिए बदनाम था। होली कवियों का श्राद्ध पक्ष होता है। कवि सम्मेलन के न्योते पर न्योते चले आते हैं। सालभर की कमाई फागुन में हो जाती है। आज के आयोजन का हाल सुना रहा हूं। संचालक जी ने माइक थाम लिया है। वह इस ऐतिहासिक शहर के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में, ऐतिहासिक कवियों का ऐतिहासिक श्रोताओं से उसी तरह परिचय करवा रहे हैं, जैसे किसी दंगल से पूर्व पहलवानों का करवाया जाता है!...और लीजिए कवि सम्मेलन शुरू हो गया। संचालक जी ने सर्वप्रथम गीतकार ‘मरे’ जी को बुलाया। ‘मरे’ जी देखने में भले ही मरे हुए लग रहे थे पर उनका माइक तक चलना, उन्हें जीवित होने का प्रमाण पत्र दे रहा था। गले को साफ करके श्रोताओं को सहमी नजरों से देखते हुए गीत पढ़ा, ‘मैं दर्द पी रहा हूं। मैं दर्द पी रहा हूं....’ इतना सुनते ही श्रोताओं ने फील्डिंग टाइट कर दी और बोले, ‘झूठ बोलते हो। हमने देखा था आप थोड़ी देर पहले मादक द्रव पी रहे थे।’ संचालक जी ने हस्तक्षेप किया, ‘आप विश्व के सर्वश्रेष्ठ श्रोता हैं।’ श्रोता बोले ‘तो विश्व की सर्वश्रेष्ठ कविता आने दो।’ संचालक के आदेश पर ‘मरे’ जी ने दूसरा गीत पढ़ा, ‘मैं जिंदा क्यों हूं। मैं जिंदा क्यों हूं...’

नई दिल्ली। पुलवामा आतंकी हमले (Pulwama Terror Attack) के लिए जिम्मेदार जैश-ए-मुहम्मद (Jaish-E-Mohammed) के सरगना मसूद अजहर को लेकर चीन ने एक बार फिर रुख बदल लिया है। चीन ने अंतरराष्ट्रीय दबाव के बाद रुख नरम करते हुए भारत को आश्वासन दिया है कि जल्द इस मसले को हल कर लिया जाएगा। भारत में चीन के राजदूत लुओ झाओहुई ने रविवार को उम्मीद जताई कि पाकिस्तान में रह रहे मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र द्वारा वैश्विक आतंकी घोषित करने के भारत के प्रयासों से जुड़ा मसला बातचीत के जरिये जल्द हल कर लिया जाएगा।लुओ यहां चीनी दूतावास में रविवार को आयोजित होली मिलन कार्यक्रम के दौरान पत्रकारों से बात कर रहे थे। उनसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद या यूएन सैंक्शन कमेटी में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए लाए गए प्रस्ताव को चीन द्वारा वीटो किए जाने के बारे में सवाल पूछा गया था। इस पर उन्होंने कहा कि हम भारत की चिंताओं को समझते हैं। उम्मीद है कि जल्द ही इस मामले को सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के संयुक्त राष्ट्र में प्रस्ताव को सिर्फ तकनीकी रूप से रोका गया है। इस मुद्दे पर भी बातचीत चल रही है। सतत बातचीत से इस मसले को हल कर लिया जाएगा।राजदूत के इस बयान के बाद अटकलें लगाई जा रही हैं कि चीन मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए यूएन में आए प्रस्ताव का समर्थन करेगा या वह पाकिस्तान पर मसूद को भारत को सौंपने के लिए भी दबाव डाल सकता है। ऐसा इसलिए क्योंकि पिछले दिनों भारत ने खुले शब्दों में पाकिस्तान से कहा था कि वह मसूद अजहर, हाफिज सईद, दाउद इब्राहिम और सैय्यद सलाहुद्दीन जैसे मोस्ट वांटेड आतंकियों को सौंपे। मसूद को लेकर भारत का पाकिस्तान और चीन के साथ लगातार तनाव जारी है। मसूद के रुख पर चीन भी पाकिस्तान की तरह वैश्विक मंच पर अलग-थलग पड़ता दिख रहा है। मालूम हो कि फ्रांस और अमेरिका पहले ही मसूद पर प्रतिबंध लगा चुके हैं। यूरोपियन यूनियन (EU) ने भी मसूद को प्रतिबंधित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।
भावी सहयोग को लेकर आशावान:-चीनी राजदूत ने पिछले साल अप्रैल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के बीच हुए वुहान सम्मेलन का भी जिक्र किया और कहा कि दोनों देशों के बीच सहयोग सही रास्ते पर है। चीन इस सहयोग से संतुष्ट है और भविष्य को लेकर आशावान हैं।
भारत ने कहा आतंकवाद पर समझौता नहीं:-सरकारी सूत्रों ने शनिवार को कहा था कि भारत, मसूद को लेकर जब तक संभव होगा चीन के साथ धैर्य बनाए रखेगा। हालांकि, आतंकियों से कठोरता से निपटने के अपने रुख से कोई समझौता नहीं करेगा। बता दें कि चीन ने मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर बुधवार को चौथी बार आए प्रस्ताव को वीटो किया था। भारत ने इस पर निराशा जाहिर की थी। पुलवामा आतंकी हमले के बाद फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए प्रस्ताव लेकर आए थे, जिस पर चीन ने चौथी बार अड़ंगा लगा दिया है। इससे पहले भी तीन बार चीन यूएनएससी में आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित होने से चुका है।
चीन ने कहा बिना सुबूत कार्रवाई नहीं:-जैश-ए-मुहम्मद सरगना मसूद अजहर को लेकर भले ही चीनी राजदूत नरम रुख दिखा रहे हैं, लेकिन चीन पर भरोसा करना इतना आसान नहीं है। चीन का इस मामले में कहना है कि वह बिना पुख्ता सुबूतों के कार्रवाई के खिलाफ है। चीन के इस रुख पर अमेरिका भी आपत्ति जता चुका है। अमेरिका ने चीन से अनुरोध किया था कि वह मसूद मामले पर समझदारी से काम ले। भारत-पाक के बीच शांति के लिए मसूद का वैश्विक आतंकी घोषित होना आवश्यक है। अमेरिका ने मसूद समेत आतंकवाद पर भारत के सख्त रुख को देखते हुए चीन से ये अनुरोध किया है।
चीन द्वारा मसूद को बचाने की ये हैं 10 वजहें -
1. चीन ने पाकिस्तान में सीपैक पर 55 बिलियन डॉलर (लगभग 3.8 लाख करोड़ रुपये) का निवेश कर रखा है।
2. सीपैक के अलावा भी चीन पाकिस्तान में करीब 46 बिलियन डॉलर (3.2 लाख करोड़ रुपये) की परियोजनाओं पर काम कर रहा है।
3. पाकिस्तान में चल रही विदेशी कंपनियों में सबसे ज्यादा चीन की ही हैं। पाक में चीन की 77 कंपनियां रजिस्टर्ड हैं।
4. भारत, चीन के लिए सबसे बड़ा आर्थिक प्रतिद्वंदी है। इसलिए चीन का प्रयास है कि भारत अपनी घरेलू समस्याओं में उलझा रहे और विदेश नीति या देश के बाहर के मुद्दों पर ज्यादा ध्यान न दे सके।
5. भारत की बढ़ती सैन्य ताकत भी चीन के लिए सिरदर्द बन रही है। चीन नहीं चाहता कि भारत उससे मुकाबला करने के लिए अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाए। इसलिए भी चीन पाकिस्तान को भारत का सबसे बड़ा दुश्मन बनाए रखना चाहता है।
6. मसूद अजहर अगर यूएनएससी में वैश्विक आतंकी घोषित हो जाता है तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की स्थिति काफी मजबूत दिखेगी।
7. चीन ने उईगर मुस्लिमों पर खुले में नमाज न पढ़ने सहित की तरह के प्रतिबंध लगा रखे हैं। इस मुद्दे पर चीन को इस्लामिक सहयोग संगठन के विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इस्लामिक सहयोग संगठन के देशों में से सिर्फ पाकिस्तान ही चीन के इस फैसले का समर्थन कर रहा है।
8. उईगर मुस्लिमों पर प्रतिबंध बरकरार रखने के लिए चीन को जिस तरह से पाकिस्तान की जरूरत है। ठीक उसी तरह आतंकी मसूद अजहर को बचाने के लिए पाकिस्तान को चीन की जरूरत है।
9. अमेरिका से बढ़ती भारत की नजदीकी को भी चीन अपने लिए खतरा मानता है। मसूद मामले में अमेरिका द्वारा चीन पर दवाब बनाना इसका एक उदाहरण माना जा सकता है। ऐसे में चीन मसूद अजहर को हथियार के तौर पर इस्तेमाल कर रहा है।
10. शांति दूत दलाई लामा को लेकर भारत के रुख पर भी चीन को आपत्ति है। वह कई बार दलाई लामा को लेकर आपत्ति जता भी चुका है। दरअसल चीन दलाई लामा को उसी तरह अपना दुश्मन मानता है, जैसे भारत मसूद अजहर को मानता है।

सूरत। सूरत के एक विद्यार्थी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ऊपर अपनी थीसिस जमा की है। इस शोधार्थी का नाम मेहुल चोकसी है। राजनीतिक विज्ञान में मास्‍टर्स (एमए) सूरत के छात्र ने वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय में उच्च अध्ययन करने के उद्देश्य से “नरेंद्र मोदी की केस स्टडी- सरकार में नेतृत्व " विषय पर अपनी रिसर्च थीसिस प्रस्तुत की है।अपने रिसर्च के लिए चोकसी ने कहा कि उन्होंने एक सर्वे तैयार किया और प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व की गुणवत्ता के बारे में सरकारी अधिकारियों, किसानों, छात्रों और राजनीतिक नेताओं सहित 450 लोगों से सवाल पूछे।उन्होंने कहा कि प्रश्नावली में कुल 32 सवाल रखे गए हैं। 450 लोगों द्वारा दिए गए जवाबों के बाद पाया गया कि 25 फीसदी लोगों का मानना है कि मोदी के भाषण सबसे अधिक शानदार हैं, जबकि 48 फीसदी लोग मानते हैं कि प्रधानमंत्री की पोलिटिकल मार्केटिंग बेस्ट है। चोकसी ने वीर नर्मद दक्षिण गुजरात विश्वविद्यालय के कला विभाग के नीलेश जोशी के मार्गदर्शन में अपनी पीएचडी कर रहे हैं।

Page 1 of 372

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें