नई दिल्ली। भारत ने शनिवार को ताइवान में रेल दुर्घटना के पीड़ितों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने ट्वीट किया, 'ताइवान में हुए रेल हादसे में इतने लोगों की जान जाने से हमें गहरा दुख पहुंचा है। परिवारों के प्रति हमारी गहरी संवेदना। घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ के लिए हमारी प्रार्थनाएं।'अधिकारियों ने बताया था कि शुक्रवार को पूर्वी ताइवान में एक सुरंग में 490 लोगों को ले जा रही एक पैसेंजर ट्रेन पटरी से उतर गई, जिसमें कम से कम 50 लोग मारे गए और दर्जनों घायल हो गए।दुर्घटना हुलिएन काउंटी में के दकिंगसुई टनल में हुई। ताइवान में पिछले चार दशक में यह सबसे भयंकर ट्रेन हादसा था। दुर्घटना के तत्काल बाद राहत कार्य शुरू कर दिया गया था। ताइवान में किंगमिंग फेस्टिवल पर चार दिन का अवकाश था। इस त्योहार पर परिवार के लोग अपने बुजुर्गो को याद करते हैं। अवकाश का पहला दिन था।रेलवे के अनुसार ट्रेन टारोको से शुलिन जा रही थी। रास्ते में टनल में ट्रेन के सामने अचानक एक बड़ा ट्रक आ गया और टक्कर होते ही ट्रेन पटरी से उतरकर पलट गई। यहां पर काम चल रहा था और काम करने वालों ने बिना हैंडब्रेक ढलान पर ट्रक खड़ा कर दिया था। यही ट्रक ट्रेन से टकराया। ताइवान की राष्ट्रपति साई इंग वेन ने घटना में मरने वालों के प्रति शोक व्यक्त किया है। साथ ही उन्होंने राहत कार्य का भी जायजा लिया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">