नई दिल्‍ली। पिछले सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वैक्सीन की बर्बादी पर चिंता जताते हुए इस पर रोक लगाने का आह्वान किया था। हालांकि, किसी भी बड़े टीकाकरण अभियान में वैक्सीन की बर्बादी आम समस्या है। इसे ध्यान में रखते हुए ही वैक्सीन की खरीद की जाती है। लेकिन, किसी भी अभियान में वैक्सीन की बर्बादी सीमित मात्र में ही होनी चाहिए। आइए, जानते हैं कि वैक्सीन की बर्बादी की गणना कैसे होती है, ऐसा क्यों होता है और किस प्रकार बर्बादी को रोका जा सकता है..

बर्बादी का मतलब:-किसी भी बड़े टीकाकरण अभियान में वैक्सीन की बर्बादी अपेक्षित होती है। हालांकि, जब वैक्सीन की बर्बादी ज्यादा होती है तब मांग प्रभावित होती है और देश पर गैरजरूरी खरीद का दबाव बढ़ता है।

कैसे हो जाती है खराब

  • संदिग्ध मिलावट
  • शीशी में पानी घुसना
  • शीत श्रृंखला टूट जाना
  • समाप्ति तिथि पार होने पर
  • ताप के संपर्क में आने की स्थिति में
  • शीशी खुलने के बाद समय सीमा में खुराक का उपयोग नहीं होने पर
  • शीशी में उपलब्ध खुराक का शतप्रतिशत उपयोग न होना

विभिन्न चरण, जिनमें खराब हो जाते हैं टीके

  • आपूर्ति श्रृंखला की करीब से निगरानी होनी चाहिए
  • वैक्सीन की खुराक पंजीकृत लाभार्थियों के बराबर होनी चाहिए
  • कोल्ड चेन प्वाइंट्स, जिला वैक्सीन भंडारण केंद्र, वैक्सीन सेशन साइट
  • पहले बन चुकी खुराक की खपत प्राथमिकता के आधार पर करनी चाहिए

ऐसे लगाई जा सकती है रोक

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">