बाराबंकी। कोरोना संक्रमण काल में अनलॉक 5.0 में तमाम बचाव के बाद स्कूल खोलने का सरकार का फैसला खतरे की घंटी ही है। बाराबंकी में स्कूल पहुंची दो छात्राओं के कोरोना पॉजिटिव होने के बाद खलबली मच गई है। इनको होम आइसोलेट किया गया है।प्रदेश में इंटर और हाईस्कूल के साथ ही उच्च शिक्षा के विद्यालय खुल गए हैं। बाराबंकी में इस दौरान आज पहले दिन सिर्फ नाममात्र के ही छात्र और छात्राएं नजर आईं। इससे साफ है कि कोरोना वायरस का खौफ बना हुआ है। कुछ बच्चे अपने घर से अभिभावकों का सहमतिपत्र लेकर साथ आए थे। स्कूलों में बच्चों को सैनिटाइज और स्क्रीन और कोरोना टेस्ट के बाद ही प्रवेश दिया जा रहा था।राजकीय बालिका इंटर कॉलेज में 50 बालिकाओं की कोरोना टेस्ट की गई, जिसमें दो बालिकाएं संक्रमित पाई गई हैं। इनमें पहले लक्षण नहीं थे तो इन बालिकाओं को घर वापस भेजकर अभिभावकों से कहा गया है कि संक्रमित बालिकाओं को एक अलग कमरे में क्वारंटाइन कराया जाए। घर के लोग दूरी बनाए रखे, जिनके संपर्क में यह बालिकाएं आई हैं, उनका भी टेस्ट कराया जाए। विद्यालय में जिसका भी टेस्ट हो रहा है, उसकी तत्काल रिपोर्ट दी जा रही थी। बाराबंकी जिले के सभी माध्यमिक विद्यालयों में कोरोना टेस्ट नहीं हो रहा है। ऐसे में स्कूली छात्र- छात्राओं में अभी भी संक्रमण का बड़ा खतरा बना है।  

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें