मुंबई।मुंबई में सेवानिवृत्त नौसेना अधिकारी मदन शर्मा पर हुए हमले पर शिवसेना नेता संजय राउत ने रविवार को कहा कि महाराष्ट्र एक बड़ा राज्य है। ऐसा कुछ भी किसी के साथ भी हो सकता है। क्या आप जानते हैं कि यूपी में कितने पूर्व सैनिकों पर हमले हुए हैं? लेकिन, रक्षा मंत्री ने उन्हें फोन नहीं किया। हमारी सरकार का मानना है कि किसी भी निर्दोष व्यक्ति पर हमला नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आप जिस तरह से बात करते हो, कीचड़ उछालते हो और उसके बाद अगर लोगों के मन में गुस्सा पैदा होता है फिर आप उसे सरकार से क्यों जोड़ रहे हो। अगर किसी ने हमला किया है तो हमें पूछ कर तो नहीं किया है न। इतना बड़ा महाराष्ट्र है ये किसी के भी साथ हो सकता है। राउत ने कहा कि महाराष्ट्र में कानून का हमेशा सम्मान किया जाता है। आरोपितों को तुरंत गिरफ्तार किया गया, चाहे वे जिस भी पार्टी से जुड़े हों।गौरतलब है कि शुक्रवार को एक कार्टून फॉरवर्ड करने के कारण सेवानिवृत नौसैनिक अधिकारी पर शिवसैनिकों द्वारा किए गए हमले का मामला तूल पकड़ रहा है। देश के रक्षामंत्री ने न सिर्फ उक्त बुजुर्ग नौसैनिक से बात की, बल्कि भाजपा नेताओं ने इस घटना के विरोध में धरना भी दिया। देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को स्वयं ट्वीट कर यह जानकारी दी कि उन्होंने मुंबई के उस सेवानिवृत्त नौसैनिक अधिकारी मदन शर्मा से बातचीत की, जो शुक्रवार को कुछ लोगों की गुंडागर्दी का शिकार हुए थे। राजनाथ सिंह ने लिखा है कि पूर्व सैनिकों पर इस प्रकार के हमले बिल्कुल अस्वीकार्य एवं खेदजनक हैं। हम उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं। अस्पताल से शनिवार को ही डिस्चार्ज हो चुके मदन शर्मा ने बताया कि रक्षामंत्री ने मेरे साथ हुए हादसे की निंदा की और दुख जताया।रक्षामंत्री ने हरसंभव मदद की बात भी कही और कहा है कि आप चिंता न करें। मदन शर्मा ने अपने साथ हुई ज्यादती की जानकारी देते हुए बताया कि उन लोगों ने मुझे बात करने के लिए बुलाया था, लेकिन बिना बात किए ही पीटना शुरू कर दिया। मैंने उन लोगों से कहा भी कि मैं डिफेंस से हूं और बुजुर्ग नागरिक हूं। लेकिन उन्होंने मेरी एके नहीं सुनी। देश में ऐसे लोगों का होना कतई ठीक नहीं है। शर्मा ने कहा कि पहले तो उन्होंने मुझे मारा। फिर मुझे गिरफ्तार करने के लिए पुलिस भेज दी। ये लोग मुझे जेल में ले जाकर मार डालते। लेकिन स्थानीय विधायक अतुल भातखलकर और रानी द्विवेदी ने बचा लिया। ये लोग न होते तो मैं आपके सामने नहीं होता।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें