नई दिल्ली। प्राइवेट नौकरी करने वालों के लिए पीएफ का पैसा बहुत महत्वपूर्ण होता है ,क्योंकि आपके बुढ़ापे में यहीं पैसा अपकी जरूरतों को पूरा करेगा। PF आपका रिटायमेंट फंड होता है। बता दें कि पीएफ के पैसे पर फिलहाल, सालाना 8.65 फीसदी ब्याज दर मिलता है। पिछले वित्त वर्ष का ब्याज इस साल थोड़ा देरी से आया है। दीवाली से पहले सभी पीएफ अकाउंट होल्डर्स का पैसा उनके खाते में आ जाएगा। कई लोगों का ब्याज तो आना भी शुरू हो गया है।अगर आप लंबे समय तक अपने पीएफ अकाउंट में पैसा जमा रखते हैं तो आपके पास अच्छी खासा अमाउंट जमा हो जाता है। लेकिन, क्या आप जानते है कि आप अपने इस पैसे को डबल भी कर सकते हैं। चलिए तो हम आपको बतातें है कि किस तरह से आप ऐसा कर सकता हैं।EPF एक्ट 1952 के अनुसार, जिस भी व्यक्ति का पीएफ उकाउंट है उसकी सैलरी का 12 फीसदी हिस्सा पीएफ के तौर पर जमा होता है। ऐसे ही कंपनी भी 12 फिसदी हिस्सा इसमें जमा करती है। इसमें से 8.33 फीसदी हिस्सा कर्मचारी के पीएफ अकाउंट में जाता है और बाकी 3.67 फीसदी पेंशन के तौर पर जमा हो जाता है।
कैसे बढ़ाए अपने पीएफ का पैसा:-आप अपने पीएफ के पैसे में जो 12 फीसदी का कंट्रीब्यूशन कर रहे हैं उसे बढ़ाने से आपके पीएफ का पैसा दोगुना हो जाएगा। आप 12 फीसदी की जगह इसे बढ़ाकर 25 से 30 फीसदी तक कर सकते हैं। ऐसा करने के लिए आपको वॉलेंट्री पीएफ ऑप्शन का इस्तेमाल करना होगा। इस ऑप्शन के इस्तेमाल से आप अपनी बेसिक सैलरी का 100 फीसदी तक पीएफ कंट्रीब्यूशन बढ़ा सकते हैं। हालांकि, ये जरूरी नहीं है कि कंपनी भी इसमें अपना कंट्रीब्यूशन बढ़ाए। ऐसा करने से आपको रिटायरमेंट के बाद पीएफ का ज्यादा पैसा मिलेगा। पीएफ का पैसा ज्यादा बढ़ाने के लिए जरूरी है कि आप इसमें गैप ना आने दें। मतलब जब भी आप अपनी नौकरी बदलें तो इस अपने पीएम का पैसा निकाले नहीं बल्कि, उसे ट्रांसफर करे। क्योंकि, अगर आपने पीएफ का पैसा निकाल लिया तो आपको जिस भी कंपनी में आप जाएंगे वो आपका नया पीएफ अकाउंट खोलेंगे। ऐसे में आपके नए अकाउंट में नए तौर पर कंट्रीब्यूशन शुरू होगा। पैसा ट्रांसफर करने से पुराने अकाउंट में कंट्रीब्यूशन में ही आगे का कंट्रीब्यूशन जारी रहेगा। इससे फायदा ये होगा की आपका पीएफ फंड बना रहेगा।
विद्रडॉइल से बचें;-ईपीएफओ के नियमों के मुताबिक, आप बच्चों की शादी, पढ़ाई, मेडिकल जरूरतों और घर खरीदने के लिए अपना पीएफ का पैसा निकाल सकते हैं। लेकिन ऐसा करने से आपका ही नुकसान है कोशिश करें की आप पैसा ना निकालें। आप इन जरूरतों को पूरा करने क लिए कोई और विकल्प तलाश सकते हैं। जैसे की होम लोन, एजुकेशन लोन या पर्सनल लोन लेकर भी अपनी इन जरूरतों को पूरा कर सकते हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें