मुंबई। महाराष्ट्र के पीएमसी बैंक में हुए घोटाले के कारण कई लोगों का रुपये फंस गए हैं। लोग परेशान हैं,और मांग कर रहे हैं कि घोटाले के आरोपी को सजा दी जाए। टीवी अभिनेत्री नूपुर अलंकार का पैसा भी इस बैंक में जमा था। बैंक में हुए घोटाले के कारण उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। उनकी मां और ससुर की तबीयत बहुत खराब है। उनके इलाज के लिए भी वो पैसा नहीं निकाल पा रही है।नूपुर अलंकार ने बताया कि मेरी मां की तबीयत खराब हैं उन्हें ऑक्सीजन लगी हुई है। मेरी ससुर की हाल ही में सर्जरी हुई है। हम लोग एटीएम और बैंक से पैसा नहीं निकाल पा रहे है, क्योंकि हमारे खाते फ्रीज कर दिए गए हैं और एटीएम कार्ड काम नहीं कर रहे हैं। मुझे लोगों से उधार लेना पड़ रहे हैं। मुझे अपने गहने तक बेचने पड़े। उन्होंने आगे कहा कि अगर ये विवाद खत्म नहीं होता है तो मुझे अपने घर का सामान भी बेचना पड़ सकता है।
बुरे दौर से गुजर रहीं नूपुर अलंकार:-नूपुर ने आगे कहा कि उन्हें अपने साथी अभिनेता से 3,000 हजार रुपये उधार लेने पड़े। वहीं, एक साथी ने उन्हें 500 रुपये ट्रांसफर किए। इतना ही नहीं, मुझे अपने दोस्तों से 50,000 रुपये उधार लेने पड़े है। दूसरे बैंकों में भी मेरा खाता है, लेकिन हाल ही में मैंने अपना सारा पैसा इस बैंक में ट्रांसफर कर दिया था। मुझे बिल्कुल अंदाजा नहीं था कि मेरा और मेरे परिवार का पैसा इस तरह से फंस जाएगा।
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने की जमाकर्ताओं से मुलाकात:-वहीं, आज (गुरुवार) वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने मुंबई में पंजाब और महाराष्ट्र सहकारी (पीएमसी) बैंक के जमाकर्ताओं से मुलाकात की।गौरतलब है कि पुलिस जांच के मुताबिक, बैंक में लगभग 4300 करोड़ से ज्यादा का घोटाला हुआ है। बैंक ने घाटे में चल रही कंपनी HDIL को ये पैसा लोन के तौर पर दिया था। इस घोटाले के बाद आरबीआई ने खाताधारकों के पैसे निकालने की एक सीमा तय कर दी है। इसी वजह से लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा रहा है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें