नई दिल्‍ली। बांबे हाई कोर्ट के जस्‍टिस अकील कुरैशी की नियुक्‍ति त्रिपुरा के चीफ जस्‍टिस पर जब तक नहीं हो जाती तब तक गुजरात हाई कोर्ट के अधिवक्‍ताओं के आग्रह पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने याचिका को लंबित रखने पर सहमति जताई है।चीफ जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस एस ए बोबडे व जस्टिस एस अब्दुल नजीर ने रिकॉर्ड किया कि जजों की नियुक्‍ति, पोस्‍टिंग व तबादले का फैसला लेने में न्‍यायपालिका का स्‍वतंत्र अधिकार है और इनमें मेरा हस्‍तक्षेप संस्था के लिए सही नहीं।जस्टिस कुरैशी 2018 में बांबे हाईकोर्ट में स्थानांतरित किए जाने से पहले गुजरात हाई कोर्ट के कार्यकारी मुख्य जस्‍टिस के तौर पर काम कर रहे थे। उन्हें 2004 में गुजरात हाईकोर्ट का जस्‍टिस नियुक्त किया गया था।जस्टिस कुरैशी ने 1983 में कानून की पढ़ाई पूरी करने के बाद अपनी वकालत शुरू की। 2004 में गुजरात हाईकोर्ट का अतिरिक्त न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें