नई दिल्ली। बिहार के पूर्णिया में जिस हरे साग को लाफा के नाम से जाना जाता है, भले ही देश के अलग-अलग हिस्सों में उसे दूसरे नामों से पुकारा जाता हो, लेकिन उसकी पौष्टिकता वही होगी जो लाफा साग की है। कोसी और सीमांचल क्षेत्रों (बिहार) में मुख्यत: पाया जाने वाला यह साग पोषक तत्वों का खजाना है। हमारे आसपास सहज रूप से मौजूद पोषण के इस खजाने का इस्तेमाल करने की जगह विटामिंस की गोलियों पर बढ़ती निर्भरता हमारी बदलती सोच को दर्शाती है। पुराने जमाने में लोग इस साग को खाकर खुद को स्वस्थ रखते थे।
मौजूद प्रमुख पोषक तत्व:-प्रोटीन, आवश्यक अमीनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन और खनिज
रोगों को भगाए दूर:-हृदय रोग, एनीमिया, त्वचा और पाचन विकार जैसी कई बीमारियों के लिए यह रामबाण है।
लस्सेदार साग;-इसकी खेती जनवरी और फरवरी में होती है। लस्सेदार साग का स्वाद भी अन्य से अलग होता है। इसे चावल के साथ बड़े चाव के साथ खाया जाता है। तभी तो यह स्वाद और सेहत का खजाना है।
पोषक तत्वों से लबरेज, खाएं साग रोज:-न्यूट्रिशियन बताते हैं कि हरे पत्तों वाले साग-सब्जियों में सबसे अधिक पोषक तत्व पाए जाते हैं। लाफा साग का सेवन ज्यादातर सर्दियों में किया जाता है। यह हमारा स्वास्थ्य अच्छा बनाए रखने में मदद करता है। लाफा के पत्ते पोषक तत्वों से भरपूर होते हैं। एक बार काटने और सुखाने के बावजूद इनमें प्रोटीन, आवश्यक अमीनो एसिड, एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन और खनिज प्रचुर मात्रा में मौजूद रहते हैं। हृदय रोग, एनीमिया, त्वचा और पाचन विकार जैसी कई बीमारियों के लिए यह रामबाण है।
लाफा साग लोगों के लिए वरदान है;-खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए यह तो रामबाण है। आयरन, कैल्शियम लाफा साग में काफी मात्रा में मौजूद रहता है। गर्भवती महिलाएं विटामिन व मिनरल के लिए तरह-तरह की एलोपैथिक गोलियों का प्रयोग करती हैं, जबकि सिर्फ एक कटोरी लाफा साग से गर्भवती महिलाएं उसके बराबर पोषक तत्व प्राप्त कर सकती हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें