अगर आपको जेल में कैद कर दिया जाए तो आपको शायद ही अच्छा लगे। लेकिन, क्या आप यकीन करेंगे की एक शख्स सिर्फ इस वजह से जेल गया। ताकि वह घरवालों के तानों से बच सके और उसे दिन में तीन बार खाना, रहने के लिए जगह और दोस्त मिल सके। जब पुलिस ने इस शख्स की बात सुनी तो वह भी हैरान रह गई। दरअसल, 52 साल के ज्ञानप्रकाश चोरी के आरोप में जेल गया था। जेल से बाहर आने के बाद उसने एक बाइक चुराई। जब उसने बाइक चुराई तब उसने सीसीटीवी कैमरे के सामने जाकर अपना चेहरा भी दिखाया। बाइक चुराने के बाद भी वह वहां से भागा नहीं बल्कि, वहीं घूमता रहा ताकी पुलिस उसे गिरफ्तार कर ले। इस बारे में एसीपी पी असोकन ने कहा कि जेल से बाहर आने के बाद घर वाले उसकी देखभाल नहीं कर रहे थे। उसे भरपेट खाना नहीं दिया जाता था। वह जेल से बाहर आकर बिल्कुल भी खुश नहीं था। ज्ञानप्रकाश ने पुलिस से कहा कि वह जेल से बाहर आकर खुश नहीं था। ज्ञानप्रकाश ने कहा कि कहा कि जेल में बंद रहने के दौरान उसने अपनी लाइफ को बहुत एंजॉय किया। वहां उसे नए दोस्त मिले। समय से नाश्ता दोपहर और रात का खाना मिलता था।उसने कहा कि घर में आकर उसे ताने सुनने पड़ते थे। जबकि जेल में कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीं था जो उसको ताने सुनाए, उसे आलसी कहे या कोई अपशब्द कहे। उसे घर पर खाना नहीं मिलता था साथ ही जेल में बने अपने नए दोस्तों को बहुत याद करता था। वह उन्हें बहुत याद करता था। इसलिए उसने वापस जेल जाने के लिए बाइक चोरी की।

 

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें