जम्मू-कश्मीर। भारत के AICTE और UGC जैसे उच्च शिक्षा नियामकों ने छात्रों के लिए एक सूचना जारी की है। इस एडवाइजरी में कहा गया है कि छात्र पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में मौजूद किसी भी संस्थान में प्रवेश ना लें। इस सूचना के साथ तर्क दिया गया है कि यहां मौजूद किसी भी संस्थान को भारत सरकार की मंजूरी नहीं मिली है।पीओके जम्मू कश्मीर का पाकिस्तान के कब्जे वाला क्षेत्र है, इसलिए एडवाइजरी में खासतौर से जम्मू और कश्मीर के छात्रों को सचेत किया गया है। AICTE और UGC ने कश्मीरी छात्रों को कहा है कि वह यहां चलने वाले विश्विद्यालयों या मेडिकल और टेक्निकल संस्थानों में एडमिशन ना लें। बताया जा रहा है कि जम्मू कश्मीर के काफी स्टडेंट्स पीओके में मौजूद संस्थानों में एडमिशन लेने की सोच रहे हैं, इसलिए यह सूचना जारी की गई है।यूजीसी के सेक्रेटरी रजनीश जैन ने एजवाइजरी में कहा, 'पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है। यहां मौजूद विश्विद्यालय या मेडिकल और टेक्निकल संस्थानों को भारत सरकार, AICTE या UGC की मान्यता प्राप्त नहीं है।' उन्होंने आगे कहा, 'इसलिए छात्रों को सूचित किया जाता है कि वे पाकिस्तान के अवैध कब्जे वाले क्षेत्र में किसी संस्थान या यूनिवर्सिटी में प्रवेश ना लें।'इसी बीच कश्मीर में मौजूद एक प्राइवेट स्कूल ने इस सूचना पर चिंता व्यक्त की है। उन्होंने कहा कि शिक्षा का राजनीतिकरण नहीं किया जाना चाहिए और छात्रों को कहीं भी प्रवेश लेने की अनुमति दी जानी चाहिए।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें