नई दिल्ली। पीएनबी घोटाले के मुख्य आरोपित नीरव मोदी के प्रत्यर्पण मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने मंगलवार को ब्रिटिश मीडिया की रिपोर्टो को खारिज कर दिया। इसमें कहा गया है कि ब्रिटिश जांच अधिकारियों के मदद प्रस्ताव का भारतीय एजेंसियों ने समय पर जवाब नहीं दिया। ईडी ने कहा कि इससे जुड़े सभी मामलों में एजेंसी पूरी सक्रियता से कदम उठा रही है।ईडी ने दो पेज का स्पष्टीकरण जारी कर कहा है कि मीडिया रिपोर्ट में संभावना आधारित लेखन के साथ गलत तथ्य पेश किए गए हैं और गलत निष्कर्ष निकाला गया है। जांच एजेंसी का कहना है, 'रिपोर्ट में कही यह बात गलत है कि ब्रिटेन के एसएफओ ने मार्च, 2018 में भारतीय अधिकारियों को बताया था कि नीरव मोदी ब्रिटेन में है।' ईडी का कहना है कि इस संबंध में मार्च, 2018 या बाद में कभी भी ब्रिटिश अधिकारियों ने औपचारिक या अनौपचारिक रूप से यह नहीं बताया कि नीरव मोदी ब्रिटेन में है।इसके विपरीत ब्रिटेन में इंटरपोल नोटिसों पर कार्रवाई करने वाली और अन्य देशों के साथ समन्वय करने वाली नोडल एजेंसी 'नेशनल सेंट्रल ब्यूरो ऑफ मानचेस्टर' ने भारतीय एजेंसियों से ऐसी खुफिया जानकारी मुहैया कराने को कहा था जिससे साबित होता हो कि नीरव मोदी ब्रिटेन में है। ईडी ने बताया कि ब्रिटिश सरकार का लगातार यही रुख रहा है कि आरोपित के खिलाफ गैर-जमानती वारंट सिर्फ प्रत्यर्पण अनुरोध के जरिये ही कार्यान्वित किया जा सकता है, न कि लेटर्स रोगेटरी (एलआर) या म्यूच्यूअल लीगल असिस्टेंट ट्रीटी (एमएलएटी) के जरिये। लिहाजा, नीरव मोदी के लिए प्रत्यर्पण अनुरोध उसके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल होने के बाद ही भेजा जा सका, जो पिछले साल मई में दाखिल किया गया था।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें