मुंबई। कंगना रनौत और रितिक रोशन के बीच का विवाद तो सभी को पता है। पिछले कुछ समय से ये शांत था लेकिन अब फिर से इसे हवा मिल गई है। कंगना रनौत रितिक की कही हुई बातों को अब तक भूली नहीं हैं, इस बात का पता उनके ताज़ा बयान से लग जाता है।दिल्ली में मीडिया के एक कार्यक्रम में पहुंची कंगना रनौत ने एक सवाल के जवाब में रितिक रोशन का नाम तो नहीं लिया लेकिन उन्होंने जो कहा है उसे जानकर आपको कोई पहले बूझने की जरुरत नहीं है।इस कार्यक्रम में कंगना ने कहा कि वो कहते हैं कि वो मुझे पहचानते ही नहीं। पांच साल तक काम किया और दो फिल्में की। फिर भी ऐसा कह रहे हैं। कंगना ने कहा कि मैं ये जानना चाहती हूँ कि ऐसा कैसे हो सकता है कि वो मुझे जानते ही नहीं। पहले अनुराग बसु की फिल्म काइट्स में दो साल साथ में काम किया और फिर कृष 3 में तीन साल तक। इसके बाद भी वो कहते हैं मैं कंगना को पहचानता ही नहीं हूँ। बता दें कि 2010 में आई काइट्स में दोनों के साथ बारबरा मोरी भी थीं और 2013 में आई कृष 3 में प्रियंका चोपड़ा भी।भाई-भतीजावाद पर खुलकर बोलने वाली और इस बात को लेकर करण जौहर से उलझ पड़ी कंगना ने यहां दो टूक शब्दों में कहा कि उन्हें बॉलीवुड में किसी का समर्थन नहीं चाहिए। वो आज जहां भी हैं अपने दम पर हैं और सफलता खुद से ही हासिल की है। अपने लिए खुद के नियम बनाये हैं।कंगना ने कहा कि आइफा के मंच पर करण जौहर ने उनका मज़ाक उड़ाते हुए कहा था कि मैं जॉबलेस हूँ। मुझे उनसे काम चाहिए या ऐसा ही कुछ। आप मेरा टैलेंट देखिये और अपनी फ़िल्में देखिये। मुझे तो लगता है कि कुछ लोगों को च्यवनप्राश की खुराक लेने की जरुरत है।कंगना ने कहा कि वो किसी भी खांस के साथ काम नहीं करने वाली हैं। उन्होंने हमेशा अपने लिए आवाज़ उठाई है और करियर में अधिकतर नए मेकर्स के साथ काम किया है। कंगना यही नहीं रुकीं। उन्होंने बताया कि क्वीन की रिलीज़ के बाद वो फिल्म वालों से मिली और लोगों से कहा कि क्वीन जिस तरह की फिल्म है उसे समर्थन दिया जाना चाहिए। उसके बाद कई फिल्में की लेकिन कोई सपोर्ट नहीं मिला। मणिकर्णिका के लिए मैंने किसी से कुछ नहीं कहा। लेकिन ये सिर्फ मेरी फिल्म तो नहीं थी। हर इंडियन की थी।कंगना ने कहा कि कुछ लोगों ने उनकी फिल्म मणिकर्णिका देखी तब कंगना ने उनसे कहा कि वो इस फिल्म के लिए कुछ ट्वीट्स करें लेकिन वो न जाने कहां गायब हो गए l

 

 

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें