नई दिल्ली - अवनि बाघिन को मारे जाने को लेकर महाराष्ट्र के वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार और मेनका गांधी के बीच जारी झगड़े के बीच शूटर नवाब शफात अली भी कूद पड़े हैं। शूटर ने कहा है कि मेरे बेटे के ऊपर जो आरोप लगाए गए हैं वह आधारहीन है और अब तक उचित सरकारी आदेश के बिना किसी भी जानवर को नहीं मारा है।
आपको बता दें कि केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने बाघिन अवनि के मारे जाने को लेकर एक पत्र के जरिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस से अनुरोध किया था कि वह अपने वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार को पद से 'बर्खास्त करने पर विचार करें। इस पत्र में केंद्रीय मंत्री ने मुख्यमंत्री से कहा है, ''मैं आपसे बाघिन की अवैध हत्या को लेकर जिम्मेदारी तय करने का निवेदन कर रही हूं। पर्यावरण एवं वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार को पद से बर्खास्त करने पर विचार करें।'' केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री ने अपने पत्र में लिखा, ''अगर पर्यावरण एवं वन मंत्री जानवरों को बचाने के बदले उनकी हत्या कराते हैं तो वह निश्चित रूप से अपने कर्तव्य का पालन करने में विफल रहे हैं। यह कुछ ऐसा ही है कि महिला एवं बाल विकास मंत्री बच्चों की तस्करी करने वालों के लिये काम करे।''
एएनआई को शूटर नवाब शफात अली ने कहा कि एसी कमरे में बैठे लोग हम पर आरोप लगा रहे है और यह सही नहीं है। किसी भी पुलिस स्टेशन में कोई एफआईआर दर्ज नहीं है या मेरे खिलाफ अदालत में कोई मामला नहीं है। अब तक मैंने उचित सरकारी आदेश के बिना किसी भी जानवर को नहीं मारा है।
उन्होंने कहा कहा कि मेरे बेटे ने आत्मरक्षा में अवनि बाघिन को मार डाला क्योंकि उस पकड़ने का प्रयास विफल रहा और बाघ हमला करने जा रहा था। हम कानूनी राय लेने जा रहे हैं और हम मंत्री मेनका गांधी पर मुकदमा कर सकते हैं क्योंकि उन्होंने आधारहीन आरोप लगाएं हैं।
गौरतलब है कि अवनी बाघिन को दो नवंबर को असगर अली ने एक अभियान के तहत मारा था। असगर मशहूर निशानेबाज नवाब शफात अली के पुत्र हैं। वहीं मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कह चुके है कि इस मुद्दे पर वन मंत्री को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें