नई दिल्ली। खुदरा महंगाई से राहत मिलने के बाद अब थोक महंगाई के मोर्चे पर भी राहत की खबर आई है। अगस्त महीने में डब्ल्यूपीआई आधारित महंगाई दर 4.53 फीसद रही है। जुलाई महीने में थोक महंगाई 5.09 फीसद रही थी। गौरतलब है कि अगस्त महीने में ही खुदरा महंगाई बीते 10 माह के निचले स्तर पर पहुंच गई थी।मासिक आधार पर अगस्त में खाद्य थोक महंगाई दर -0.86 फीसदी से घटकर -2.25 फीसद पर आ गई है। वहीं प्राइमरी आर्टिकल्स की थोक महंगाई दर 1.73 फीसद से घटकर -0.15 फीसद पर आ गई। मैन्युफैक्चरिंग प्रोडक्ट्स की थोक महंगाई दर 4.26 फीसदी से बढ़कर 4.43 फीसदी पर आ गई जबकि फ्यूल एवं पावर की थोक महंगाई दर 18.1 फीसदी से घटकर 17.73 फीसद रही है।
खाने पीने की चीजें हुईं सस्ती: अगस्त में सब्जियों की थोक महंगाई दर -14.07 फीसद से घटकर -20.18 फीसद रही। वहीं अंडे, मांस की थोक महंगाई दर 0.87 फीसद से घटकर 0.59 फीसद पर आ गई। इसके अलावा दालों की थोक महंगाई दर -17.03 फीसद से बढ़कर -14.26 फीसद रही है।
10 महीनों के निचले स्तर पर CPI: अगस्त में रिटेल महंगाई 3.7 फीसद पर रही है जो जुलाई में 4.2 फीसद के स्तर पर थी। जानकारी के लिए बता दें कि अगस्त महीने में सीपीआई ने 10 महीने का निचला स्तर छुआ है। अगस्त में खाने-पीने की चीजों की महंगाई घटी है। अगर, महीने दर महीने आधार पर बात की जाए तो अगस्त में खाद्य महंगाई दर 1.37 फीसद से कम होकर 0.29 फीसद रही है। वहीं दूसरी ओर महीने दर महीने आधार पर अगस्त में ईंधन और बिजली की महंगाई दर में तेजी दर्ज की गई है। अगस्त में ईंधन और बिजली की महंगाई दर 8.47 फीसद रही है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें