*आयुष शर्मा ने सलमान खान के साथ अपने एक्शन ट्रेनिंग के दिनों को किया याद

मुंबई (हम हिंदुस्तानी)-कौन कहता है कि बॉलीवुड में एंट्री आसान है? आयुष शर्मा के ट्रेनिंग शेड्यूल के बारे में सुनेंगे तब आपको पता चलेगा कि यह काम कितना कठिन है. और जब आप सलमान खान से प्रशिक्षण ले रहे हैं, तो यह फिर और भी मुश्किल हो जाता है.
रोमांटिक ड्रामा 'लवरात्रि' से अपने अभिनय की शुरुआत करने वाले आयुष शर्मा अपने प्रशिक्षण के दिनों को याद करते हैं, जब उन्होंने अपने मेंटॉर सलमान खान से एक्शन के महत्वपूर्ण सबक सीखे.
सलमान खान की निगरानी में आयुष ने चार साल तक कठोर प्रशिक्षण लिया. सलमान ने यह सुनिश्चित किया कि आयुष अपने स्टंट खुद करें और उन्हें बॉडी डबल या स्टंटमैन की जरूरत न हो.
ऐसी ही एक घटना को याद करते हुए, आयुष बताते है कि कैसे सलमान ने उन्हें राजस्थान में रेत के टीले से धक्का दिया था. वह याद करते हैं, "हम जैसलमेर में थे, जहां मैं 'बजरंगी भाईजान' फिल्म के लिए सलमान भाई की सहायता कर रहा था. एक दिन पहले ही उन्होंने कैम ऑपरेटर, जो एक स्टंटमैन भी था, से कहा था कि मुझे सिखाए कि एक्शन कैसे करते है. शूटिंग के एक रात बाद, मुझे एक्शन की ट्रेनिंग दी गई. अगले दिन सेट पर पहुंचने के बाद, शूटिंग के बीच में भाई ने मुझे रेत के टीले के ऊपर बुलाया. जब मैं ऊपर गया, तो उन्होंने मुझे बिना किसी निर्देश या चेतावनी के नीचे धक्का दे दिया. मैं नीचे गिरने लगा. जब मैं नीचे उतरा तो मैं आश्चर्य में था कि भाई ने मुझे धक्का क्यों दिया."
आयुष को पता नहीं था कि किसने धक्का दिया. जब वे फिर से ऊपर पहुंचे तो सलमान ने उनसे फिर से यह एक्ट करने को कहा. आयुष को फिर से रेत के टीले से नीचे धक्का दिया गया. दूसरी बार गिरने पर, आयुष को एहसास हुआ कि सलमान चाहते थे कि मैं समझूं कि कैसे रोल करना (लुढकना) है.
आयुष कहते हैं, "जब मैं तीसरे बार ऊपर गया और मुझे फिर से धक्का दिया गया, तब मैं ठीक से रोल कर सका. तब सलमान भाई ने मुझे बताया कि मुझे हमेशा तैयार रहना है, क्योंकि एक अभिनेता के रूप में, मैं अपने खुद के स्टंट कर रहा हूं. अगर मैं गिरता हूं, तो मुझे पता होना चाहिए कि कैसे रोल करना है. यह सब शूटिंग के दौरान हुआ था. पूरी टीम मुझे देख रही थी. लेकिन सलमान भाई के पास प्रशिक्षण को ले कर एक बहुत ही अलग दृष्टिकोण है. वह सुनिश्चित करते है कि आप उनके सबक को याद रखें. मुझे याद है कि उन्होंने मुझे क्या सिखाया है. हर बार जब मैं एक्शन करता हूं, मैं इस पर ध्यान देता हूं कि मुझे अपने करियर के लिए यह खुद करना है, कोई और आ कर मेरे लिए यह सब नहीं करेगा."
इंडस्ट्री के लिए बाहरी व्यक्ति होने के नाते, आयुष हमेशा महसूस करते थे कि एक्शन तो स्टंटमैन करते हैं और एक्टर को बस सीधे खड़े होने की जरूरत होती है. वो कहते है कि सलमान भाई अपना स्टंट खुद करते हैं. उनसे ट्रेनिंग लेते समय, मुझे एहसास हुआ कि मुझे अपना एक्शन सीन खुद करना है. आयुष अब मज़ेदार स्टंट कर रहे हैं और अब उन्हें ऐसी फिल्म का इंतजार है, जिसमें बहुत सारा एक्शन हो.

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें