नई दिल्ली। एसबीआई समेत तमाम प्रमुख बैंक जीरो बैलेंस के साथ-साथ कई तरह के सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा देते हैं। ESAF और Equitas स्माल फाइनेंस बैंक जैसे स्मॉल फाइनेंस बैंक यूजर्स को उनकी बैंक जमा पर 7 फीसद तक का ब्याज देते हैं। ये बैंक न सिर्फ अपने ग्राहकों को जीरो बैलेंस पर अकाउंट खोलने का मौका देते हैं बल्कि उन्हें एक बेहतर ब्याज दर भी मुहैया करवाते हैं।हम अपनी इस खबर के माध्यम से आपको ESAF और Equitas स्मॉल फाइनेंस बैंक जैसे स्मॉल फाइनेंस बैंक और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के जीरो बैंक अकाउंट के बीच तुलना करते बता रहे हैं कि आपके लिए कौन बेहतर है:
इक्वितास (Equitas) स्मॉल फाइनेंस बैंक का जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट:यहां आपको बेसिक और स्मॉल सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा मिलती है। इन अकाउंट्स में यूजर्स के लिए किसी भी तरह का न्यूनतम बैलेंस रखने की अनिवार्यता नहीं होती है। मतलब आप इसको जीरो बैलेंस पर भी चला सकते हैं। इस बैंक के जीरो बैलेंस बचत खाताधारक को बैंक से रुपे डेबिट कार्ड मिलता है जिससे वह बैंक के एटीएम से पैसे निकाल सकता है। साथ ही खाताधारक को चेक की सुविधा, नेट बैंकिंग की सुविधा और मोबाइल बैंकिंग की सुविधा भी मिलती है।इतना ही नहीं आप ईएसएएफ (ESAF) जैसे छोटे फाइनेंस बैंक में एक केवाईसी फॉर्म भरकर अपना खाता जीरो बैलेंस पर खुलवा सकते हैं। आपको इस बैंक खाते में किसी भी अमाउंट को मेंटेन करने की जरुरत नहीं होती है। यानी न ही खाता खुलवाते वक्त आपको कोई रकम जमा करानी पड़ेगी और न ही आपको इसमें एक निश्चित धनराशि जमा रखनी होती है।
ईएसएएफ (ESAF) बैंक में जीरो बैलेंस बचत खाते पर मिलने वाली सुविधा: ईएसएएफ (ESAF) बैंक के बचत खाताधारक को बिना किसी चार्ज के रुपे डेबिट कार्ड मिलता है और वह आधार से अपने खाते को लिंक करके बैंक से मिलने वाली सभी सुविधाओं का लाभ उठा सकता है। खाताधारक बैंक की नॉन बेस ब्रांच से मुफ्त में मासिक नकदी जमा का लेनदेन कर सकता है और हर छमाही में 725 मुफ्त चेक और एक पासबुक/ई-मेल स्टेटमेंट सुविधा का लाभ भी उठा सकता है। इसके साथ ही ये बैंक जीरो बैलेंस बचत खाते पर एक लाख रुपये तक एक्सीडेंटल बीमा का भी ऑफर करता है।जीरो बैलेंस अकाउंट वाले कस्टमर हर दिन एटीएम से दस हजार रुपये निकाल सकते हैं साथ ही उनके लिए महीने में चार बार पैसा निकालने पर कोई चार्ज नहीं लगता। बैंक अपने जीरो बैलेंस अकाउंट वाले कस्टमर को इंटरनेट बैंकिंग, मोबाइल बैंकिंग फण्ड ट्रांसफर के साथ यूटिलिटी बिल पेमेंट्स की भी सुविधा देता है। अगर आप ईएसएएफ (ESAF) बैंक के कस्टमर हैं और आप अपने अकाउंट में एक लाख रुपये जमा रखते हैं तो बैंक की ओर से आपको 4 फीसद की दर से ब्याज दिया जाएगा। जीरो बैलेंस अकाउंट में अगर रकम 1 लाख से ज्यादा हो और दस लाख से कम तो बैंक आपको 6.5 फीसद की दर से ब्याज देता है। यदि आपके अकाउंट में जमा रकम 10 लाख से ज्यादा है तो बैंक आपको 7 फीसद की दर से ब्याज देता है।
एसबीई के जीरो बैलेंस बचतखाता धारक: एसबीई में कस्टमर केवाईसी के माध्यम से लगने वाले अहम डॉक्यूमेंट जमा कराके बचत खाता और जमा खाता खुलवा सकते हैं। जीरो बैलेंस अकाउंट खाताधारक को मुफ्त में रुपे एटीएम कम-डेबिट कार्ड जारी किए जाते हैं। इसपर कोई वार्षिक चार्ज नहीं लगता है। एनईएफटी और आरटीजीएस जैसे इलेक्ट्रॉनिक भुगतान से धन की रसीद पर भी कोई चार्ज नहीं लगता है। वहीं चेक से लेने देन भी मुफ्त है। महीने में आप चार बार एटीएम से पैसा निकाल सकते हैं।
एसबीआई में जीरो बैलेंस पर बचत खाते पर इंटरेस्ट रेट: अगर एसबीआई के अकाउंट में आपका एक करोड़ तक रुपया जमा है तो बैंक आपको 3.5 फीसद की दर से ब्याज देता है। वहीं अगर रकम एक करोड़ से ज्यादा है तो आपको 4 फीसद की दर से ब्याज मिलता है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें