नई दिल्ली। सार्वजनिक क्षेत्र के प्रमुख बैंक यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया ने एमसीएलआर दरों में 5 बेसिस प्वाइंट (0.05 फीसद) का इजाफा कर दिया है। यूनाइटेड बैंक ने नियामकीय फाइलिंग में बताया, "बैंक की एसेट लायबिलिटी मैनेजमेंट कमेटी ने बैंक की एमसीएलआर दरों में संशोधन कर दिया है। नई दरें 14 सितंबर 2018 से प्रभावी हैं।"यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया ने बताया कि एक साल की एमसीएलआर को 8.85 फीसद से बढ़ाकर 8.80 फीसद कर दिया गया है। वहीं छह महीने और तीन महीने की एमसीएलआर पर क्रमश: 8.65 फीसद और 8.55 फीसद रही है। वहीं ओवरनाइट और एक महीने की अवधि के लिए एमसीएलआर दर क्रमश: 8.15 फीसद और 8.40 फीसद रही है।गौरतलब है कि इससे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने लेंडिंग रेट में 20 बेसिस प्वाइंट (0.20 फीसद) का इजाफा कर दिया था। यह इजाफा तीन साल तक की सभी अवधियों के लिए था। ठीक इसी तरह आईसीआईसीआई बैंक ने एक वर्ष की एमसीएलआर में 0.15 फीसद का इजाफा कर इसे 8.55 फीसद कर दिया था। वहीं बैंक ऑफ बड़ौदा ने भी एमसीएलआर में 0.05 फीसद का इजाफा किया था।विजया बैंक ने भी हाल में किया इजाफा: विजया बैंक ने भी मार्जिनल कॉस्ट बेस्ड लेंडिंग रेट (एमसीएलआर) में हाल ही में बढ़ोतरी का फैसला किया था। चुनिंदा अवधियों के लिए बैंक एमसीएलआर को 0.05 फीसद की दर से बढ़ा रहा है। नियामकीय फाइलिंग में बैंक ने जानकारी दी थी कि नई दरें 7 सितंबर, 2018 से लागू होंगी। एक वर्ष की एमसीएलआर को 8.65 फीसद से बढ़ाकर 8.70 फीसद कर दिया गया है। इसी तरह छह, तीन, एक महीने और एक रात वाली एमसीएलआर पर 0.05 फीसद की बढ़ोतरी की गई है।

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें