कारोबार

कारोबार (3016)

नई दिल्ली। 8 नवंबर 2016 को नोटबंदी के फैसले के बाद बाजार में प्रचलित नकदी की संख्या में तेज उछाल देखने को मिला था। नोटबंदी के बाद करीब 99.9 फीसद करेंसी सिस्टम में वापस लौट आई, लेकिन इस साल मई महीने के बाद इसमें कुछ सुस्ती देखने को मिली। इसकी वजह कच्चे तेल की बढ़ती कीमतें और विदेशी मुद्रा भंडार में आरबीआई की ओर से की गई निकासी को माना जा रहा है। यह अनुमान एक रिपोर्ट में लगाया गया है।इस रिपोर्ट में कहा गया कि जनवरी 2017 के दौरान बाजार में प्रचलित करेंसी की संख्या 9 ट्रिलियन डॉलर थी जो कि 14 सितंबर 2017 तक 19.5 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच गई। लेकिन मई 2018 की शुरुआत से यह 19 से 19.6 ट्रिलियन डॉलर के आस पास रहा। एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया गया, "इसका एक संभावित कारण यह हो सकता है कि लोग ईंधन की कीमतों में हालिया बढ़ोत्तरी को देखते हुए अपने खर्चों में वापस से कमी ला रहे हैं।"इसका अन्य कारण यह भी हो सकता है कि आरबीआई ने अपने विदेशी मुद्रा भंडार से सीधे बिकवाली की है ताकि रुपये की स्थिति को संभाला जा सके और प्रचलित मुद्रा की संख्या में कमी लाई जा सके। गौरतलब है कि सरकार ने नोटबंदी का फैसला साल 2016 में 8 नवंबर को लिया था जिसके चलते 9 नवंबर 2016 से ही 500 और 1000 रुपये के नोट अमान्य हो गए थे जो कि उस वक्त बाजार में प्रचलित मुद्रा का 86 फीसद हिस्सा थे। इसके बाद आरबीआई ने 500, 2000, 200, 50 और 10 रुपये के नए नोट जारी किए।

नई दिल्ली। एयरएशिया ग्रैंड इयर एंड सेल के तहत सीमित सीटों पर 2,099 रुपये में टिकट का ऑफर दे रही है। कंपनी आकर्षक रेट पर नई दिल्ली से बेंगलुरू, कोलकाता, गुवाहाटी, इम्फाल, रांची, श्रीनगर के लिए ऑफर लेकर आई है। एयरलाइन के मुताबिक ग्राहक 30 सितंबर 2018 तक टिकट बुक कर सकते हैं और 30 जून 2018 तक यात्रा कर सकते हैं। टिकट एयरएशिया के मोबाइल एप, कंपनी की वेबसाइट या अधिकृत ट्रैवल एजेंट के माध्यम से बुक की जा सकती है।जानकारी के अनुसार, एयरएशिया ने इस महीने की शुरुआत में लिमिटेड पीरियड स्कीम के तहत चुनिंदा रूट्स पर 999 रुपये से शुरू होने वाली फ्लाइट टिकट की बिक्री की घोषणा की थी। कपंनी ने 'बिग सेल' नाम से स्कीम लॉन्च किया था। जिसके तहत कोच्चि से बेंगलुरु का किराया (999 रुपये), गुवाहाटी से इम्फाल (999 रुपये), बेंगलुरू से चेन्नई (999 रुपये), हैदराबाद से बेंगलुरु (1,099 रुपये), भुवनेश्वर से कोलकाता (1,199 रुपये) और रांची से कोलकाता के लिए (1,099) रुपये) में था।एयरलाइंस के अनुसार, यह स्कीम एयरएशिया इंडिया, एयरएशिया बेरहाद, थाई एयरएशिया और एयरएशिया एक्स की ओर से संचालित सभी उड़ानों पर लागू था। जबकि छूट एयरएशिया की वेबसाइट और मोबाइल ऐप के माध्यम से टिकट बुकिंग पर लागू था।बता दें कि एयरएशिया इंडिया टाटा संस और एयरएशिया के बीच जॉइंट वेंचर है। एयरलाइन ने फ्लाइट की शुरुआत 12 जून 2014 से की थी। फिलहाल कंपनी बेंगलुरू, कोच्चि, गोवा, जयपुर, चंडीगढ़, पुणे, नई दिल्ली, गुवाहाटी, इम्फाल, विशाखपट्नम, हैदराबाद, श्रीनगर, बागडोगरा, रांची, कोलकाता, नागपुर, इंदौर, चेन्नई, सूरत, भुवनेश्वर और अमृतसर के लिए फ्लाइट संचालित करती है।

नई दिल्ली। विमानन कंपनी जेट एयरवेज घरेलू उड़ानों पर 1,889 रुपये की शुरुआती कीमत में टिकट दे रही है। कंपनी ने इसकी जानकारी अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर दी है। जेट एयरवेज के मुताबिक यह ऑफर केवल नई उड़ानों पर लागू होगा। साथ ही यह केवल चुनिंदा उड़ानों पर इकोनॉमी क्लास में एक तरफा यात्रा के लिए है। एयरलाइन ने कहा है कि इस ऑफर के तहत यात्रा की तारीख टिकट बुक करने के दिन से 12 महीने के लिए वैध है। बुकिंग की आखिरी तारीख 15 अक्टूबर 2018 है।जेट एयरवेज के स्कीम के तहत, जयपुर से वडोदरा तक की उड़ान का शुरुआती किराया 1,889 रुपये है। वहीं वडोदरा से जयपुर तक के लिए यात्रियों को 1,899 रुपये चुकाने होंगे। जबकि वडोदरा और इंदौर, चंडीगढ़ और लखनऊ के बीच उड़ान का किराया 1,999 रुपये है।जेट एयरवेज के अनुसार, बच्चों के लिए छूट, तारीख में बदलाव, उड़ान परिवर्तन, रिफंड शुल्क, ब्लैक आउट अवधि, यात्रा वैधता ये सभी किराया नियम में लागू हैं। कंपनी के मुताबिक वह किसी भी समय, किसी भी नियम और शर्तों को जोड़ने, बदलने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र है।दूसरी ओर एयरलाइन इंडिगो ने हाल ही में अमृतसर और दुबई के बीच अपनी पहली डेली फ्लाइट की शुरूआत की घोषणा की है। इसके अलावा एयरलाइन कोलकाता-कोचीन और बैंगलोर-पुणे के बीच भी उड़ानें संचालित करेगी। पुणे से बैंगलोर की उड़ान का शुरुआती किराया 1,745 रुपये है।इसके अलावा विमानन कंपनी स्पाइसजेट ने भी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय रूट्स पर डायरेक्ट फ्लाइट की घोषणा की है। नई उड़ानें मुंबई और कानपुर, दिल्ली और किशनगढ़, हैदराबाद और बैंकॉक, अमृतसर और बैंकॉक, दिल्ली और शिर्डी, कोलकाता और पकीओंग, गुवाहाटी और पकीओंग, कोलकाता और वाराणसी मुंबई और जैसलमेर के बीच है।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक सितंबर को इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक (आईपीपीबी) लॉन्च कर दिया था। इसे कई तरह की सुविधाओं के साथ लॉन्च किया गया है। आईपीपीबी में ग्राहक तीन तरह के बचत खाते खोल सकते हैं। डिजिटल सेविंग्स एकाउंट्स आईपीपीबी मोबाइल एप के जरिए खोला जा सकता है जबकि रेगुलर और बेसिक पोस्ट ऑफिस या पोस्टमैन के जरिए खुलवाया जा सकता है। इस खबर में हम आईपीपीबी से जुड़ी कुछ जरूरी बाते बता रहे हैं।
खातों के प्रकार:-
रेगुलर सेविंग अकाउंट: इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक का रेगुलर सेविंग अकाउंट (नियमित बचत खाता) बैंक के एक्सेस पॉइंट्स पर खोला जा सकता है। इस खाते में जमा पैसों पर आपको ब्याज भी मिलेगा और इस खाते से अनगिनत बार निकासी की अनुमति है। इस सेविंग अकाउंट पर सालाना आधार पर 4 फीसद का ब्याज मिलेगा।
बेसिक सेविंग अकाउंट: आईपीपीबी का बेसिक सेविंग अकाउंट में रेगुलर सेविंग अकाउंट के सभी फीचर एवं लाभ उपलब्ध कराए जाएंगे। हालांकि इसमें महीने में सिर्फ 4 बार ही पैसों की निकासी की अनुमति होगी। इस खाते में जमा पैसों पर भी 4 फीसद की सालाना दर से ब्याज दिया जाएगा।
डिजिटल सेविंग अकाउंट: आईपीपीबी में आप डिजिटल सेविंग अकाउंट खुलवा सकते हैं। इसका इस्तेमाल आप आईपीपीबी की मोबाइल एप के जरिए आसानी से कर सकते हैं। व्यक्ति जिसकी उम्र 18 वर्ष के ऊपर है और उसके पास पैन कार्ड एवं आधार कार्ड है वो इस खाते को खोल सकता है। इस खाते में जमा रकम पर भी सालाना आधार पर 4 फीसद का ब्याज दिया जाएगा।
आईपीपीबी खाते में दी जाने वाली सेवाएं: आईपीपीबी में बचत के साथ-साथ चालू खाते की भी सुविधा है। इन खातों में डायरेक्ट फंड ट्रांसफर का विकल्प है। आईपीपीबी खाते का इस्तेमाल पैसे भेजने, भुगतान करने, मोबाइल बैंकिंग सुविधा का उपयोग करने, फोन बैंकिंग में, बीमा उत्पादों में, म्यूचुअल फंड के साथ अन्य वित्तीय सेवाओं में किया जा सकेगा।
क्यूआर कार्ड: इंडिया पोस्ट का पेमेंट बैंक ग्राहकों को फ्री क्यूआर कार्ड मुहैया करवाता है। क्यूआर कार्ड को फिर से शुरू करवाने के लिए 25 रुपये का शुल्क देना होता है।
शुरुआती मिनिमम डिपॉजिट: ग्राहकों को इस खाते में शुरुआती तौर पर किसी भी प्रकार का मिनिमम डिपॉजिट रखने की जरूरत नहीं है।
मंथली एवरेज बैलेंस: ग्राहकों को इस खाते में मंथली एवरेज बैलेंस मेंटेन करने की जरूरत नहीं होती है। लिहाजा इस हिसाब से मंथली एवरेज बैलेंस मेंटेन न करने की सूरत में कोई भी शुल्क नहीं वसूला जाता है।
ब्याज दर: इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट में 4 फीसद की दर से ब्याज दर मुहैया करवाई जाती है जिसका भुगतान तिमाही आधार पर किया जाता है।
डाकिया घर आकर करेगा पेमेंट: आईपीपीबी के अकाउंट होल्डर्स को डाकिया घर आकर पेमेंट करेगा। कोई भी व्यक्ति पेमेंट के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकता है। उस एरिया का डाकिया धारक के घर जाकर आधार कार्ड का फिंगर प्रिंट मैच करेगा। फिंगर प्रिंट मैच होने पर पोस्टमैन के मोबाइल पर उस अकाउंट होल्डर की जानकारी आ जाएगी और वह पेमेंट कर देगा। अगर फिंगर प्रिंट मैच नहीं होते तो पोस्टमैन की ओर से पेमेंट नहीं की जाएगी। ऐसे में अकाउंट होल्डर को पोस्ट ऑफिस में जाकर फिंगर प्रिंट मैच करवाने होंगे।
मिनिमम अकाउंट बैलेंस: इस खाते में ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस मेंटेन करने की आवश्यकता नहीं होती है।
दिन के आखिर में अधिकतम बैलेंस: इंडिया पोस्ट के पेमेंट बैंक के जीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट में खाताधारक अधिकतम 1,00,000 रुपये तक रख सकता है।
पोसा अकाउंट से लिंक करने की सुविधा: ग्राहक अपने इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट अकाउंट को पोस्ट ऑफिस सेविंग अकाउंट (पोसा) से लिंक करा सकते हैं। अगर वो दो खातों को लिंक कराते हैं तो एक लाख से ज्यादा का एक दिन का अमाउंट अपने आप लिंक्ड पोसा अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाता है।

नई दिल्ली। स्टील निर्माता अग्रणी कंपनी टाटा स्टील ने शनिवार को उषा मार्टिन लिमिटेड (यूएमएल) के स्टील कारोबार के अधिग्रहण की घोषणा की है। टाटा स्टील के मुताबिक यह सौदा करीब 4,300-4,700 करोड़ रुपये मूल्य का होगा। इसे फिलहाल कुछ नियामकीय मंजूरियों की दरकार होगी, जिसमें भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआइ) से मिलने वाली मंजूरी सबसे अहम है।कंपनी ने बयान में कहा है कि सौदा लगभग नौ महीनों में पूरा हो जाएगा। शर्तो के मुताबिक सौदा पूरा होने के बाद टाटा स्टील या उसकी कोई भी सहायक शाखा उषा मार्टिन का के स्टील कारोबार का अधिग्रहण कर सकती है। बयान में कहा गया है कि सौदे के तहत लेनदेन और अधिग्रहण की संरचना पर अंतिम फैसला जल्द ले लिया जाएगा।उषा मार्टिन ने शनिवार को शेयर बाजारों को दी जानकारी में बताया कि टाटा स्टील के हाथों स्टील कारोबार बेचने से उसे अपना कर्ज घटाने में उल्लेखनीय मदद मिलेगी। गौरतलब है कि उषा मार्टिन दुनियाभर में वायर रोप निर्माण क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनियों में एक है। देश में यह स्पेशलिटी स्टील उत्पादन क्षेत्र की अग्रणी कंपनी है।उषा मार्टिन के स्टील कारोबार में कई संपत्तियां शामिल हैं। इनमें जमशेदपुर (झारखंड) स्थित स्पेशलाइज्ड एलॉय आधारित 10 लाख टन सालाना क्षमता वाला एक संयंत्र, चालू हालत में एक लौह अयस्क खदान, विकसित हो रहा एक कोयला खदान और कैप्टिव बिजली संयंत्र प्रमुख हैं।टाटा स्टील ने एक बयान में कहा कि कंपनी ने पूरी तरह नकद भुगतान के जरिये उषा मार्टिन का स्टील कारोबार खरीदने संबंधी एक निश्चित करार किया है। पिछले वित्त वर्ष की समाप्ति पर टाटा स्टील सालाना कच्चा स्टील उत्पादन क्षमता पौने तीन करोड़ टन थी।

नई दिल्ली। विदेश घूमने की इच्छा तो सभी की होती है, लेकिन कई बार वीजा की वजह से प्लान खटाई में पड़ जाता है। अलग-अलग देशों में जाने के लिए वीजा का खर्च भी अलग-अलग होता है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय पासपोर्ट इस साल 66वें स्थान पर रहा है। भारतीय पासपोर्ट होल्डर्स को 132 देशों की यात्रा के लिए वीजा की जरूरत है, हालांकि उनको 41 देशों में आगमन के बाद वीजा मिल सकता है। इसके अलावा 25 देश ऐसे हैं जहां बिना वीजा के यात्रा की जा सकती है।अगर आपके पास भी भारतीय पासपोर्ट है तो हम अपनी इस खबर में बता रहे हैं कि दुनिया के कुछ लोकप्रिय पर्यटन स्थलों में घूमने जाने के लिए आपके वीजा का खर्च कितना आएगा?
थाईलैंड: थाईलैंड भारतीय नागरिकों को अपने देश में आगमन पर 4,452 रुपये में वीजा देता है। इस वीजा की अवधि 15 दिनों तक के लिए ही मान्य होती है। यह एक खूबसूरत देश है।
इंडोनेशिया: भारतीय पासपोर्ट धारक इंडोनेशिया में बिना वीजा के 30 दिनों तक यात्रा कर सकते हैं। इस देश की करेंसी पर भगवान गणेश की फोटो होती है।
ब्रिटेन: भारतीय पासपोर्ट धारकों के लिए यूके में स्टैण्डर्ड विजटर वीजा का खर्च (93 पाउंड) 8,872 रुपये है। इस वीजा से आप ब्रिटेन में 6 महीने तक रह सकते हैं।
फ्रांस: भारतीय पासपोर्ट धारकों को फ्रांस में यात्रा के लिए शेंगेन वीजा मिलता है, जिससे फ्रांस के 26 राज्यों में यात्रा की जा सकती है। कम अवधि के लिए वीजा का खर्च 60 यूरो 5,095 रुपये है।
श्रीलंका: श्रीलंका भारतीय नागरिकों के लिए 1,453 रुपये में ई-वीजा या वीजा देता है। यह सिंगल-एंट्री वीजा 30 दिनों के लिए मान्य है।
स्विट्ज़रलैंड: भारतीय पासपोर्ट धारकों के लिए स्विट्जरलैंड शेंगेन वीजा देता है जिसका खर्च 6,333 रुपये है। (इसमें वीजा शुल्क 5,000 रुपये और 1,333 रुपये वीजा सेवा शुल्क) के रूप में लिए जाते हैं।
मालदीव: मालदीव भारतीय पासपोर्ट धारकों को 30 दिनों की अवधि के लिए वीजा मुक्त यात्रा की सुविधा देता है। यह चारो तरफ पानी से घिरा एक खूबसूरत देश है।

नई दिल्ली। वैसे तो आधार कार्ड नाबालिगों के लिए अनिवार्य नहीं है, लेकिन कई बार आधार के लिए बच्चों का नामांकन कुछ अवसरों पर सफलता दिला सकता है। इसकी उपयोगिता पहचान से लेकर विभिन्न सरकारी योजनाओं में समझ आती है। नाबालिगों के लिए आधार में नामांकन भविष्य में कई परेशानियों से बचा सकता है। हम इस खबर में बता रहे हैं कि आप कैसे अपने बच्चे का आधार नामांकन करा…
नई दिल्ली। भारतीय डाकघर (पोस्ट ऑफिस) में कई तरह के सेविंग अकाउंट खोलने की सुविधा मिलती है। पोस्ट ऑफिस में करीब 9 तरह की बचत योजनाएं संचालित होती हैं। इंडिया पोस्ट की वेबसाइट, indiapost.gov.in के मुताबिक पोस्ट ऑफिस में सेविंग स्कीम पर 4 फीसद से लेकर 8.3 फीसद के बीच ब्याज दरें मिलती हैं। डाकघर की बचत योजनाओं में आवर्ती जमा, सावधि जमा, डाकघर मासिक आय योजना, वरिष्ठ नागरिक बचत…
नई दिल्ली। तेल की कीमतों में आये दिन इजाफा देखने को मिल रहा है। शुक्रवार को भी पेट्रोल की कीमतों में वृद्धि हुई है। बता दें कि शुक्रवार को दिल्ली में पेट्रोल 10 पैसे की बढ़त के साथ 82.32 रुपये और डीजल 73.87 रुपये के स्तर पर रहा है। वहीं मुंबई में पेट्रोल 89.69 रुपये और डीजल 78.42 रुपये रहा है। इसी तरह चेन्नई में पेट्रोल 85.58 रुपये और डीजल…
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था वर्ष 2022 तक दोगुनी होकर 5,000 अरब डॉलर की हो जाएगी। पीएम मोदी इंडिया इंटरनेशनल कन्वेंशन एंड एक्स्पो सेंटर के शिलान्यास के अवसर पर बोल रहे थे। उन्होंने कहा 'भारत की योजना 2022 तक अपनी जीडीपी बढ़ाकर पांच ट्रिलियन डॉलर (5,000 अरब डॉलर) करने की है जिसमें विनिर्माण और कृषि का योगदान एक-एक ट्रिलियन डॉलर (1,000 डॉलर) होगा।'प्रधानमंत्री…
Page 1 of 216

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें