कारोबार

कारोबार (1884)

नई दिल्ली। दुनिया को जानना हो या खुद को जानना हो तो घूमना सबसे अच्छा साधन माना जाता है। इससे हमें अलग-अलग भाषा और संस्कृति को जानने का मौका मिलता है। सबसे जरूरी चीज हमारा मन शांत होता है और हम तनाव से दूर रहते हैं। इसलिए देखा गया है कि लोगों की हॉबी की लिस्ट में ट्रैवलिंग एक प्रमुख हॉबी होती है। किसी भी तरह की यात्रा हमें खुशी देती है, लेकिन 2020 का साल यात्रा के लिए सबसे भयावह साल रहा। COVID-19 ने कई महीनों तक लोगों को एक स्थान पर रहने के लिए मजबूर कर दिया। यह स्थिति ऐसी थी जहां दूसरे देश या दूसरे राज्य में भ्रमण करना तो दूर लोग अपने ही घर से बाहर नहीं निकल सकते थे। जो व्यक्ति साल में कम से कम चार से पांच बार ट्रैवल करता हो उसके लिए सबसे बड़ी परेशानी थी।हालांकि, महामारी का प्रकोप थोड़ा कम हुआ, इसलिए सरकारों ने फ्लाइट, ट्रेन और बसों से यात्रा करने के लिए ढील देनी शुरू कर दी। लेकिन हमारे जहन में एक सवाल यही आता है कि इस महामारी के दौर में बिना किसी डर के यात्रा किया जा सकता है, तो इसका सीधा और सरल जवाब है हां, लेकिन सावधानी और सतर्कता के साथ। अगर आप स्वच्छता संबंधित सरकार के सभी जरूरी नियमों का अनुसरण करते हैं तो आप स्वतंत्र रूप से कहीं भी यात्रा कर सकते हैं। वो नियम हैं – चेहरे पर मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करना और समय-समय पर अपने हाथ को सेनिटाइज करना आदि। इन सब नियमों के अलावा अगर आप यात्रा कर रहे हैं तो अपने पास एक ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी जरूर रखें। ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी हमेशा से ही महत्वपूर्ण रही है क्योंकि यह यात्री सामान, पासपोर्ट, टिकट या दस्तावेजों के खोने की स्थिति में आपके नुकसान की भरपाई कर देती है। इसके अलावा यात्रा के दौरान मेडिकल इमरजेंसी या स्वास्थ्य संबंधित किसी भी समस्या में यह बहुत ही लाभकारी है। वर्तमान में अगर आप विदेश यात्रा कर रहे हैं, तो आप एक ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी जरूर खरीद लें, क्योंकि इस पॉलिसी में बाकी लाभों के अलावा COVID-19 भी कवर होता है। आप ट्रैवल इंश्योरेंस ऑनलाइन भी खरीद सकते है। यह काफी सस्ता और किफायती है। जैसे रिलायंस जनरल इंश्योरेंस (Reliance General Insurance) का प्लान कई तरह की छूट और ऑफर्स के साथ आता है। इसे आप ऑनलाइन खरीद सकते हैं। वर्तमान में ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने का फायदा यह है कि इसमें यात्रा के दौरान COVID-19 के उपचार के लिए होने वाले इमरजेंसी हॉस्पिटलाइजेशन और मेडिकल ट्रीटमेंट का खर्च कवर हो जाता है। यह आपको हॉस्पिटल में होने वाले भारी खर्चों से बचाएगा। अगर आप विदेश में कहीं यात्रा कर रहे हैं, तो आपको इस पर ज्यादा ध्यान देना चाहिए, क्योंकि विदेश में मेडिकल खर्चे बहुत ही ज्यादा होते हैं और ये खर्चे आपकी जेब पर भारी पड़ सकता है। रिलायंस जनरल इंश्योरेंस आपके लिए कई तरह के ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी लेकर आया है, जो COVID-19 बीमारी को भी कवर करती हैं। इसमें इंटरनेशनल ट्रैवल इंश्योरेंस, शेंगेन ट्रैवल इंश्योरेंस, एशिया ट्रैवल इंश्योरेंस, एनुअल मल्टी ट्रिप, सीनियर सिटीजन ट्रैवल इंश्योरेंस और स्टुडेंट ट्रैवल इंश्योरेंस शामिल है। ये सभी पॉलिसी रिलायंस जनरल इंश्योरेंस की वेबसाइट पर उपलब्ध हैं और काफी किफायती भी है। आप इसे आसानी से खरीद सकते हैं।  देश हो या विदेश, यात्रा के दौरान किसी भी तरह की मेडिकल इमरजेंसी का सामना करना पड़ सकता है। और यह दौर ऐसा है जहां हमें ज्यादा सतर्क रहने की जरूरत है। इसलिए ट्रैवल इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने में आलस मत दिखाइए। यह ऑनलाइन बहुत ही सस्ती मिल जाती है। इसके होने का मतलब आप भी सुरक्षित रहेंगे और आपकी यात्रा भी सुरक्षित रहेगी।  

नई दिल्ली। FAU-G (Fearless And United Guards) गेम को काफी इंतजार के बाद आखिरकार भारत में लॉन्च किया जा रहा है। FAU-G गेम भारत में 26 जनवरी 2021 यानी गणतंत्र दिवस को लॉन्च किया जाएगा। FAU-G गेम का ऐलान करीब 4 माह पहले किया गया था। इसका प्री-रजिस्ट्रेशन पिछले साल नवंबर में शुरू हुआ था। गेम के प्री रजिस्ट्रेशन के 24 घंटों के दरम्यान करीब 10 लाख लोगों ने रजिस्ट्रेशन किया था। जो कि इस बात का संकेत है कि यूजर्स के बीच यह लॉन्च से पहले ही लोकप्रिय होने लगा है। कंपनी की तरफ से जारी वीडियो में लॉन्चिंग डेट 26/1 दी गई है। इसमें 14,000 फीट की ऊंचाई 34.7378 डिग्री नार्थ 78.7780 डिग्री ईस्ट और माइनस 30 डिग्री तापमान में लद्दाख में LAC के नजदीक भारतीय सैनिक अपनी शौर्य प्रदर्शन करते देखे जा सकते हैं। साथ ही वीडियो के बैकग्राउंड में एक संगीत सुनाई दे रहा है। बता दें कि FAU-G गेम का प्री-रजिस्ट्रेशन Google Play स्टोर से शुरू किया गया था। बैंग्लोर बेस्ड डेवलपर्स nCore Games की तरफ से ट्ववीटर के जरिए FAU-G गेम की लॉन्चिंग डेट का ऐलान किया गया। यह गेम Google Play स्टोर यूजर के लिए उपलब्ध रहेगा। हालांकि Apple App स्टोर पर फोन की लॉन्चिंग के बारे में कोई जानकारी नही मिली है। 

दशहरा पर जारी हुआ था PUB-G की टीजर ;-PUB-G गेम के टीजर वीडियो को दशहरा के मौके पर जारी किया गया था। बता दें कि भारत में PUBG बैन के बाद ही FAU-G गेम का ऐलान किया गया था। बॉलीवुड एक्टर Akshay Kumar की तरफ से भी एक ट्वीट करके FAUG Games का टीजर जारी करके गेम्स के बारे में जानकारी दी गई थी। FAUG गेम में भी गालवान घाटी को प्रमुखता से दिखाया गया है। ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि FAUG Games का पहला एपिसोड गालवान घाटी (Galwan Valley) की घटना पर आधारित होगा, जहां भारतीय सैनिक अपने शौर्य को प्रदर्शन करेंगे। 

नई दिल्ली। सरकारी स्वामित्व वाली स्टील कंपनी स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) ने शुक्रवार को जानकारी दी कि सोमा मंडल ने कंपनी के चेयरपर्सन का पदभार ग्रहण कर लिया है। इससे पहले वह देश की स्टील बनाने वाली सबसे बड़ी कंपनी की निदेशक (कॉमर्शियल) के पद पर कार्यरत थीं। वर्ष 1984 में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी-राउरकेला से ग्रेजुएशन की डिग्री लेने वाली मंडल ने अपने करियर की शुरुआत NALCO में ग्रेजुएट इंजीनियर ट्रेनी के रूप में की थी। वह NALCO में डायरेक्टर (कॉमर्शियल) के पद तक पहुंचीं। इसके बाद 2017 में वह डायरेक्टर (कॉमर्शियल) के रूप में सेल से जुड़ीं।मंडल ने अनिल कुमार चौधरी का स्थान लिया है, जो गुरुवार को सेवानिवृत्त हो गए। चौधरी ने जूनियर मैनेजर और डायरेक्टर (फाइनेंस) सहित विभिन्न पदों पर काम किया और 36 साल तक कंपनी से जुड़े। इस मौके पर मंडल ने कहा, ''हमारी पहली प्राथमिकता राजस्व और मुनाफे में बढ़ोत्तरी करना है। हम अपने शेयरधारकों वैल्यू को बेहतर बनाने एवं कंपनी को संरचानात्मक रूप से मजबूत बनाने की रणनीति पर काम कर रहे हैं।'' उन्होंने कहा कि सेल की विरासत काफी समृद्ध रही है और वर्षों से कंपनी के कर्मचारियों और नेतृत्व ने अपनी ओर से बहुत अधिक अंशदान दिया है।

नई दिल्ली। दिसंबर महीने में कुल 1,15,174 करोड़ रुपये का वस्तु एवं सेवा कर (GST) कलेक्शन हुआ। यह अब तक का सबसे अधिक जीएसटी कलेक्शन है। समाचार एजेंसी एएनआई की ओर से किए गए ट्वीट में कहा है कि दिसंबर, 2020 में एसजीएसटी के रूप में 27,804, सीजीएसटी के रूप में 21,365 करोड़ रुपये और IGST (एकीकृत जीएसटी) के रूप में 57,426 करोड़ रुपये की आमदनी हुई। इसके अलावा सेस के रूप में सरकार को 8,579 करोड़ रुपये की आमदनी हुई।सरकार की ओर से उपलब्ध करायी गई जानकारी के मुताबिक नवंबर से 31 दिसंबर, 2020 तक कुल 87 लाख GSTR-3B रिटर्न भरे गए हैं।सरकार ने रेगुलर सेटलमेंट के रूप में आईजीएसटी में से सीजीएसटी के रूप में 23,276 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के रूप में 17,681 करोड़ रुपये का सेटलमेंट किया है। दिसंबर, 2020 में रेगुलर सेटलमेंट के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकारों की कुल आमदनी सीजीएसटी के रूप में 44,641 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के रूप में 45,485 करोड़ रुपये पर रही।जीएसटी कलेक्शन में यह वृद्धि त्योहारी मांग को दिखाता है।

नई दिल्ली। देश के दिग्गज उद्योगपति रतन टाटा सोमवार को 83 वर्ष के हो गए। बिजनेस के साथ-साथ सामाजिक कार्यों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेने वाले रतन टाटा ने अपनी बुद्धिमत्ता, कड़ी मेहनत, कारोबारी कुशलता और दूरदृष्टि से टाटा समूह को एक नए मुकाम पर पहुंचाया। नैनो के जरिए देश के निम्न-मध्यमवर्गीय लोगों को सपने की कार दिलाने वाले रतन टाटा वर्ष 1990 से लेकर 2012 तक नमक से लेकर सॉफ्टवेयर तक का निर्म करने वाली टाटा संस के चेयरमैन रहे। 29 दिसंबर, 2012 को टाटा को कंपनी का मानद चेयरमैन बनाया गया था। टाटा समूह की ऑफिशियल वेबसाइट के मुताबिक टाटा के नेतृत्व में कंपनी की कुल आमदनी और मुनाफे में कई गुना तक की वृद्धि देखने को मिली और 2011-12 में वह बढ़कर 100 बिलियन डॉलर पर पहुंच गया।  रतन टाटा का जन्म 28 दिसंबर, 1937 को गुजरात के सूरत में हुआ था। रतन टाटा के पिता का नाम नवल टाटा और मां का नाम सूनी टाटा था। टाटा ने 1962 में कॉरनेल से आर्किटेक्चर में ग्रेजुएशन किया था। 1962 में भारत लौटने से पहले उन्होंने कुछ समय के लिए लॉस एंजिलिस के जोन्स एंड एमन्स में काम किया था। उन्होंने 1975 में हार्वर्ड बिजनेस स्कूल में एडवांस्ड मैनेजमेंट प्रोग्राम पूरा किया था।  टाटा वर्ष 1962 में टाटा समूह से जुड़े। कई कंपनियों में काम करने के बाद 1971 में टाटा को नेशनल रेडियो एंड इलेक्ट्रॉनिक्स कंपनी लिमिटेड का डायरेक्टर-इन-चार्ज नियुक्त किया गया था।  जे आर डी टाटा वर्ष 1991 में टाटा संस के चेयरमैन पद से सेवानिवृत्त हुए। इसके बाद रतन टाटा को टाटा संस का पांचवां चेयरमैन बनाया गया। अपने कार्यकाल के दौरान टाटा ने नई प्रतिभाओं को मौके दिए और कंपनी की बुनियाद को सुदृढ़ किया। टाटा के नेतृत्व में कंपनी ने कई अन्य कंपनियों का अधिग्रहण किया। इस कड़ी में टाटा टी ने Tetley, टाटा मोटर्स ने Jaguar Land Rover और टाटा स्टील ने Corus का अधिग्रहण किया।  रतन टाटा के कार्यकाल के दौरान ही वर्ष 2004 में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) को शेयर बाजारों में लिस्ट किया गया था। उन्होंने 2008 में दुनिया की सबसे सस्ती कार को डिजाइन और लांच किया।रतन टाटा एक सफल निवेशक भी हैं। उन्होंने कई स्टार्टअप में भरोसा दिखाते हुए बहुत शुरुआती चरण में निवेश किया और आज के समय में ये कंपनियां यूनिकॉर्न बन चुकी है। न्यूज रिपोर्ट्स के मुताबिक टाटा ने कैब एग्रीगेटर ओला, पेटीएम, कार देखो, क्योरफिट, स्नैपडील, आबरा, क्लिमासेल, फर्स्ट क्राई, अर्बन लैडर और लेंसकार्ट जैसी कई कंपनियों में निवेश किया था। टाटा को सन 2000 में पद्म भूषण और 2008 में पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था। 

नई दिल्ली:- कोरोना महामारी के चलते वर्ष 2020 में दुनिया भर की अर्थव्यवस्था चरमरा गई। इसके अलावा हर व्यक्ति की वित्तीय स्थिति बिगड़ गई। साल के जाते-जाते एक अच्छी खबर यह रही कि दुनियाभर में कोरोना के वैक्सीन का इजाद लगभग हो गया है। कई देश नए साल में वैक्सीन का डोज देने की तैयारी में हैं। भारत में तीन वैक्सीन पर काम चल रहा है और बहुत जल्द लोगों को वैक्सीन लग्न शुरू हो जाएगा। लेकिन, 2020 ने हमें क्या ऐसी सीख दी है, जिसे हमें आगे भी अलर्ट रहना होगा। आइये जानते हैं...

इमरजेंसी फंड होना जरूरी है: पिछले 12 महीनों ने हमें एक चीज सिखाई है कि आपके पास कैश इमरजेंसी फंड का होना जरूरी है। इमरजेंसी फंड का निर्माण और जोखिम का प्रबंधन किसी भी व्यक्तिगत वित्त योजना के लिए एक महत्वपूर्ण आधार है। इमरजेंसी फंड अचानक से नौकरी चले जाने, बीमार होने या किसी आपात स्थिति में बहुत काम आएगा। एक्सपर्ट्स का कहना है कि इमरजेंसी फंड को न्यूनतम 3-6 महीने में कवर करने में सक्षम होना चाहिए।

बजट का होना जरूरी: क्या आपने कभी महीने के अंत में यह सोचा है कि आपने अपना वेतन किस पर खर्च किया है? इसलिए पैसे सही जगह और हिसाब से खर्च हों इसके लिए आपके पास एक बजट का होना बेहद जरूरी है।

विविध आय का होना जरूरी: एक से ज्यादा आय का होना जरूरी है, केवल एक श्रोत से आय रहेगा तो किसी खराब समय में आय के उस श्रोत के बंद होने पर आपके ऊपर अचानक से बोझ बढ़ जाएगा। इसलिए एक से ज्यादा आय बेहद जरूरी है। आपको आय के कई श्रोत चुनने होंगे।स्वास्थ्य बीमा का महत्व: 2020 ने निश्चित रूप से स्वास्थ्य बीमा के महत्व को भी सिखाया है। पर्याप्त रूप से बीमित व्यक्ति को आपातकाल के वक़्त बहुत दिक्कत नहीं होती। 

जितना सोचते हैं उससे ज्यादा बचत: कोरोना वायरस महामारी की वजह से वर्क फॉर्म होम का कल्चर का बढ़ गया है। ऐसे में बाहर खाने पर प्रतिबंध लग गया, बाहर जाकर सिनेमा देखना बंद हो गया, सिनेमाघरों और संगीत कार्यक्रमों को बंद कर दिया गया और यहां तक कि स्थानीय पब को भी बंद कर दिया गया। इस वजह से आपके पैसे भी बचने लगे। लेकिन ऐसा समय हमेशा नहीं आएगा, इसलिए जितना आप सोच रहे हैं उससे ज्यादा बचाने की कोशिश करिए।

नई दिल्ली। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) ने शुक्रवार को कहा कि फास्टैग (FASTag) के माध्यम से टोल संग्रह की राशि रोजाना 80 करोड़ रुपये का आंकड़ा पार कर गई है। लेनदेन की संख्या के लिहाज से भी एनएचएआइ ने रोजाना 50 लाख का रिकॉर्ड बनाया है। देशभर में अब तक 2.20 करोड़ फास्टैग जारी किए गए हैं। एनएचएआइ ने कहा कि फास्टैग के माध्यम से टोल संग्रह का आंकड़ा…
नई दिल्ली। टेलीकॉम उद्योग के सक्रिय ग्राहकों की संख्या इस वर्ष अक्टूबर के आखिर में करीब 25 लाख बढ़कर 96.1 करोड़ पर पहुंच गई। आइसीआइसीआइ सिक्युरिटीज ने शुक्रवार को एक रिपोर्ट के माध्यम से कहा है कि पिछले कुछ समय के दौरान टेलीकॉम टैरिफ में बढ़ोतरी हुई है और प्रत्येक सिम को सक्रिय रखने के लिए मासिक शुल्क निर्धारित कर दिया गया है। इससे सक्रिय कनेक्शनों की संख्या बढ़ी है।भारतीय…
नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को 9 लाख से अधिक किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 18,000 करोड़ रुपये की किस्त जारी कर दी। पीएम ने एक बटन दबाकर देश के नौ करोड़ किसानों के खातों में कुल 18 हजार करोड़ रुपये की रकम ट्रांसफर किए। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि (PM Kisan) केंद्र सरकार की एक अति महत्वाकांक्षी योजना है। इस योजना का लक्ष्य किसानों…
नई दिल्ली। अरबपति उद्योगपति मुकेश अंबानी की अगुवाई वाली रिलायंस इंडस्ट्रीज ने अपने खेल प्रबंधन संयुक्त उद्यम में आईएमजी वर्ल्डवाइड एलएलसी की हिस्सेदारी का 52.08 करोड़ रुपये में अधिग्रहण करने की घोषणा की है। बाजार मूल्यांकन के हिसाब से देश की सबसे बड़ी कंपनी ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि वह आईएमजी-रिलायंस लि. (आईएमजी-आर) में आईएमजी वर्ल्डवाइड की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी का अधिग्रहण 52.08 करोड़ रुपये के…
Page 10 of 135

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">