कारोबार

कारोबार (1884)

नई दिल्ली। गैर-होम बैंक शाखा में बैंकिंग के कई नुकसान हैं। बैंक की शाखा जहां ग्राहक अपना बचत बैंक खाता खोलता है। यदि कोई नकद लेनदेन, जैसे जमा या निकासी गैर-होम शाखा में किया जाता है, तो शुल्क लगता है। यह शुल्क बैंकों में भिन्न होता है। इसके अलावा, कुछ बैंक चार्ज करते हैं भले ही कोई तीसरा पक्ष नकद लेनदेन करता हो। आइये जानते हैं गैर-होम बैंक शाखा की बैंकिंग के बारे में...

SBI Non-Home Branch में नकद निकासी की सीमा;-अगर आपका भारतीय स्टेट बैंक (SBI) में बचत खाता है, तो आप पासबुक के साथ निकासी फॉर्म का उपयोग करके, गैर-घरेलू शाखा में प्रतिदिन 50,000 रुपये तक निकाल सकते हैं। चालू खाता धारकों के लिए यह सीमा 1 लाख रुपये है। हालांकि, होम और गैर-घरेलू शाखा में नकद निकासी (कई लेन-देन पर आधारित शुल्क) छोटे/नो-फ्रिल डिपॉजिट/मूल बचत बैंक खाता धारकों पर लागू नहीं होते हैं।

SBI non-home branch जमा लिमिट:-SBI गैर-घरेलू शाखा में नकद जमा करने की अधिकतम सीमा 2 लाख प्रतिदिन है।

ICICI बैंक का शुल्क;-ICICI बैंक लिमिटेड प्रति माह 5,000 मुफ्त लेनदेन और महीने के पहले गैर-होम बैंक लेनदेन के बाद न्यूनतम 150 का शुल्क लेता है। इसके अलावा, गैर-होम शाखा में एक दिन में अधिकतम एक व्यक्ति 50,000 तक का लेनदेन कर सकता है।

HDFC Bank:-HDFC Bank प्रति दिन 1 लाख तक की नकद निकासी की अनुमति देता है, जिसके बाद लेनदेन पर न्यूनतम 50 का शुल्क लगता है।

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री आवास योजना (PMAY)- 'हाउसिंग फॉर ऑल' योजना का लक्ष्य लाखों शहरी गरीबों को रहने के लिए एक जगह देना है। इस मिशन के तहत, घर लेने और उसके निर्माण के लिए पात्र शहरी गरीबों द्वारा लिए गए होम लोन पर क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी (सीएलएसएस) दिया जाता है। यह योजना मार्च 2021 तक उपलब्ध है।इस योजना के तहत प्रति आवास 2.67 लाख तक की ब्याज सब्सिडी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस)/निम्न आय समूह (एलआईजी), मध्य आय समूह (एमआईजी) -आई और मध्य आय समूह (एमआईजी) -II के लाभार्थियों के लिए स्वीकार्य है।

 
प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए कैसे करें आवेदन

स्टेप 1: आधिकारिक प्रधानमंत्री आवास योजना pmaymis.gov.in पर लॉग इन करें।

स्टेप 2: नागरिक मूल्यांकन ड्रॉप डाउन पर क्लिक करके अन्य 3 घटकों के विकल्प के तहत: लाभ चुनें।

स्टेप 3: आधार नंबर दर्ज करें और सबमिट पर क्लिक करें

स्टेप 4: एक नया पेज खुलेगा। नाम, आय, परिवार के सदस्यों की संख्या, आवासीय पता, संपर्क नंबर, परिवार के मुखिया की आयु, धर्म और जाति के बारे में सभी जानकारी दर्ज करें।

स्टेप 5: नीचे स्क्रॉल करें, बॉक्स में कैप्चा कोड टाइप करें और सबमिट पर क्लिक करें।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सरकार के गठन के साथ ही सबको पक्का मकान देने का वादा किया था। इसे वर्ष 2022 तक प्राप्त करने का लक्ष्य है। पहले चरण में लगभग एक करोड़ मकान बनाने का लक्ष्य तय किया गया। इसके तहत 91.22 लाख गरीबों का मकान बनाने में सफलता मिली।प्रधानमंत्री आवास योजना की शुरुआत पीएम नरेंद्र मोदी ने अपने पिछले कार्यकाल 20 नवंबर, 2016 में की थी। इस योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में 2022 तक ज्यादा से ज्यादा परिवारों को पक्का मकान उपलब्ध कराने का लक्ष्य है। इस योजना के तहत सरकार बिजली की आपूर्ति और स्वच्छता जैसी सभी बुनियादी सुविधाओं की विशेषता वाले पक्के घरों के निर्माण के लिए धन की सहायता प्रदान करती है।

नई दिल्ली। बैंक अकाउंट खुलवाने, म्युचुअल फंड या शेयर बाजार में निवेश करने जैसे कई वित्तीय कार्यों में पैन कार्ड आवश्यक है। यहां तक कि आप बिना पैन कार्ड (Pan card) के 50,000 रुपये से अधिक की लेनदेन भी नहीं कर पाएंगे। अगर आपने अभी तक पैन कार्ड नहीं बनवाया है और आपको इसकी तत्काल जरूरत पड़ गई है, तो घबराने की कोई बात नहीं है। आप आधार कार्ड (Aadhaar Card) के माध्यम से 10 मिनट से भी कम समय में पैन कार्ड बनवा सकते हैं।आधार कार्ड के माध्यम से ऑनलाइन ही आप अपना ई-पैन कार्ड बनवा सकते हैं। यह सुविधा पूरी तरह निशुल्क होती है। इसके लिए आपको इनकम टैक्स की वेबसाइट से पैन कार्ड के लिए अप्लाई करना होगा। आपको e-PAN के लिए अप्लाई करने के लिए केवल 12 अंक का आधार नंबर डालने की जरूरत होगी। ध्यान रखें कि इसके लिए मोबाइल नंबर का आधार नंबर के साथ लिंक होना आवश्यक है।

यह है स्टेप बाय स्टेप प्रॉसेस

स्टेप 1. आयकर विभाग की ई-फाइलिंग वेबसाइट www.incometaxindiaefiling.gov.in. पर जाएं।

स्टेप 2. अब होम पेज पर ‘Quick Links’ सेक्शन में जाकर 'Instant PAN through Aadhaar' पर क्लिक करें।

स्टेप 3. इसके बाद 'Get New PAN' के लिंक पर क्लिक करिए। यह आपको इंस्टेंट पैन रिक्वेस्ट वेबपेज पर ले जाएगा।

स्टेप 4. अब अपना आधार नंबर और कैप्चा कोड डालकर कंफर्म करिए।

स्टेप 5. अब  ‘Generate Aadhar OTP’ पर क्लिक करिए। आपको पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी प्राप्त होगा।

स्टेप 6. टेक्स्ट बॉक्स में ओटीपी प्रविष्ट करके ‘Validate Aadhaar OTP' पर क्लिक करें। इसके बाद  'Continue' बटन पर क्लिक करें।

स्टेप 7. अब आप पैन रिक्वेस्ट सबमिशन पेज पर रि-डायरेक्ट हो जाएंगे, यहां आपको अपनी आधार डिटेल की पुष्टि करनी होगी और नियम व शर्तों को एक्सेप्ट करना होगा।

स्टेप 8. इसके बाद ‘Submit PAN Request’ पर क्लिक करें।

स्टेप 9. अब इसके बाद एक एकनॉलेजमेंट नंबर जेनरेट होगा। आप इस एक्नॉलेजमेंट नंबर को नोट कर लीजिए।

पैन कार्ड डाउनलोड करने का प्रॉसेस:-इसके लिए आपको फिर से आयकर विभाग की ई-फाइलिंग वेबसाइट के होमपेज पर ‘Quick Links’ सेक्शन में जाकर 'Instant PAN through Aadhaar' पर क्लिक करना होगा। इसके बाद आप यहां 'चेक स्टेटस/डाउनलोड पैन' बटन पर क्लिक करें। यहां आप आधार नंबर और कैप्चा कोड डालकर अपने पैन कार्ड का स्टेटस चेक कर सकते हैं। साथ ही आप यहां से अपना पैन कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

नई दिल्ली। आधार कार्ड आज के समय में हमारी पहचान का सबसे सशक्त दस्तावेज बन गया है। इनकम टैक्स रिटर्न भरने, बैंक में खाता खुलवाने, नया सिम कार्ड खरीदने, पीएम किसान योजना और पीएम आवास योजना जैसी योजनाओं के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए 12 अंकों के इस पहचान पत्र की जरूरत पड़ती है। यही वजह है कि आधार कार्ड में दर्ज हर तरह की जानकारी का अपडेट होना बहुत जरूरी होता है। आधार नंबर जारी करने वाला संगठन भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) कहता है कि अगर आपका मोबाइल नंबर आपके आधार कार्ड से लिंक है तो आप अपने कार्ड में दर्ज विभिन्न तरह के विवरण में घर बैठे मोबाइल ओटीपी से सत्यापन के जरिए बदलाव कर सकते हैं।

Documents for Linking Aadhaar with Mobile Number:-अगर आप अपने आधार कार्ड में मोबाइल नंबर को अपडेट या लिंक करना चाहते हैं तो सबसे पहले इस बात की जानकारी चाहते हैं कि इसके लिए किन दस्तावेजों की जरूरत होगी। UIDAI कहता है कि Aadhaar Card में मोबाइल नंबर अपडेट करने के लिए किसी तरह के अतिरिक्त दस्तावेज की जरूरत नहीं होती है।

Step-by-Step Process to Link Aadhaar with Mobile Number

नई दिल्ली। दवाईयों और अस्पताल का खर्च लगातार बढ़ रहा है और एक आम आदमी या कंपनी में जॉब करने वाले व्यक्ति के लिए मेडिकल इमरजेंसी में इन खर्चों को पूरा करना लगभग असंभव है। यही वजह है कि अलग-अलग कंपनियां अपने कर्मचारियों को मेडिकल इंश्योरेंस का कवर देती हैं।मेडिकल इंश्योरेंस, कंपनी की तरफ से अपने कर्मचारियों को दी जाने वाली एक ऐसी हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसी है जो दुर्घटना या अचानक उजागर हुई बीमारी में बहुत काम आती है। इसके कवर में कर्मचारी के साथ-साथ उसके परिवार के एक या दो सदस्यों को शामिल किया जाता है। इसमें अस्पताल में भर्ती के कुछ मामलों में खर्चों को क्लैम किया जा सकता है। हालांकि, कंपनी की तरफ से मिलने वाली मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी की अहमियत या इसकी वैधता तब तक है, जब तक आप कंपनी में है। कंपनी छोड़ते ही आपको इसका कोई लाभ नहीं मिलेगा। मतलब आपने जिस दिन कंपनी छोड़ी, आपकी पॉलिसी भी उसी दिन खत्म हो जाएगी। ऐसा देखा गया है कि कई कर्मचारी कंपनी के हेल्थ इश्योरेंस पर ही निर्भर रहते हैं। उनका खुद का कोई पर्सनल हेल्थ कवर नहीं होता है। ऐसे में हम कह सकते हैं कि उनकी और उनके परिवार की सेहत की गारंटी तब तक है जब तक वह व्यक्ति जॉब में है। जॉब छोड़ने के बाद कंपनी उसकी कोई जिम्मेदारी नहीं लेगी। जॉब छोड़ने के बाद अगर आप नई हेल्थ इश्योरेंस पॉलिसी लेते भी हैं, तो उसमें प्रतीक्षा अवधि (Waiting Period) की समस्या आ जाती है, जहां आपको पॉलिसी का लाभ लेने के लिए एक से तीन साल तक का इंतजार करना पड़ेगा। उस दौरान आप और आपका परिवार असुरक्षित है। अगर कोई मेडिकल इमरजेंसी आती है, तो उसके भारी खर्चो का बोझ आपके ऊपर ही पड़ेगा। ऐसे में आपको वित्तीय संकट का सामना करना पड़ सकता है। अब सवाल यह उठता है कि कंपनी छोड़ने के बाद दूसरे कौन से विकल्प एक कर्मचारी के पास हैं। 

नई दिल्ली। यह वित्त वर्ष 31 मार्च को समाप्त हो जाएगा। हर वित्त वर्ष के आखिर में कई तरह के फाइनेंशियल डेडलाइन तय होते हैं। आपको कई तरह के ऐसे काम वित्त वर्ष के बीतने से पहले पूरे करने होते हैं। 31 मार्च, 2021 तो और महत्वपूर्ण है क्योंकि पिछले वर्ष कोरोना संकट की वजह से केंद्र सरकार ने विभिन्न स्कीम और कई तरह के नियमों के अनुपालन की समयसीमा को 31 मार्च, 2021 तक के लिए बढ़ा दिया था। इनमें पैन कार्ड को आधार कार्ड से लिंक कराना, इनकम टैक्स रिटर्न दाखिल करने और टैक्स में छूट प्राप्त करने के लिए निवेश से जुड़ी समयसीमा शामिल हैं। 

PAN-Aadhaar को लिंक करना:-PAN Card को आधार कार्ड से लिंक करने की समयसीमा को सरकार कई बार बढ़ा चुकी है। इसे आखिरी बार 30 जून, 2020 से बढ़ाकर 31 मार्च, 2021 कर दिया गया था। अगर आप 31 मार्च, 2021 तक PAN Card को Aadhaar Card से लिंक नहीं कराते हैं तो आपका पैन नंबर निष्क्रिय हो जाएगा। पैन नंबर के निष्क्रिय हो जाने के बाद बड़ी राशि का लेनदेन नहीं हो पाएगा।

 

वित्त वर्ष 2020-21 के लिए निवेश;-अगर आपने पुरानी टैक्स व्यवस्था को चुना है तो 31 मार्च, 2021 तक टैक्स सेविंग इंस्ट्रुमेंट में निवेश या खर्च को पूरा कर लेना आवश्यक होता है। अगर आप इस मियाद तक अपने डिक्लेयेरशन के हिसाब से निवेश नहीं करते हैं तो उक्त वित्त वर्ष के लिए अपनी आयकर देनदारी में कमी नहीं ला पाएंगे। 

LTC कैश वाउचर स्कीम के तहत बिल जमा करना:-एलटीसी कैश वाउचर स्कीम के तहत टैक्स का लाभ उठाने के लिए सही फॉर्मेट में 31 मार्च, 2021 तक बिल को जमा कराना अनिवार्य होता है। इसमें जीएसटी की राशि और नंबर का होना जरूरी होता है। केंद्र सरकार ने अक्टूबर, 2020 में इस स्कीम की घोषणा की थी। इसका लक्ष्य मांग में वृद्धि को प्रोत्साहित करने के साथ कर्मचारियों को ऐसे एलटीए अमाउंट को क्लेम करने का ऑप्शन देना था, जिसे कर्मचारी अब तक क्लेम नहीं कर पाए थे। बाद में इस स्कीम के दायरे को बढ़ाकर केंद्रीय कर्मचारियों के अलावा पीएसयू और प्राइवेट सेक्टर के कर्मचारियों को भी इसका लाभ देने का ऐलान किया गया था। 

स्पेशल फेस्टिवल एडवांस स्कीम:-सरकारी कर्मचारी 31 मार्च, 2021 तक ब्याज मुक्त 10,000 रुपये तक का विशेष एडवांस प्राप्त कर सकते हैं। सरकार ने एलटीसी कैश वाउचर स्कीम के साथ अक्टूबर 2020 में इस स्कीम की घोषणा की थी। सरकारी कर्मचारी अगर यह एडवांस लेते हैं तो अधिकतम 10 किस्त में इसे लौटा सकते हैं।

MIG-I और MIG-II के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ:-अगर आप प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत क्रेडिट लिंक्ड सब्सिडी स्कीम का लाभ हासिल करना चाहते हैं तो ध्यान रखने वाली बात है कि MIG-I और MIG-II श्रेणियों के लिए सब्सिडी अप्लाई करने की समयसीमा 31 मार्च, 2021 को समाप्त हो रही है। वहीं, LIG और EWS श्रेणी के लिए समयसीमा को बढ़ाकर 31 मार्च, 2020 कर दिया गया है। 

इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम का लाभ उठाने की समयसीमा:-केंद्र सरकार ने आत्मनिर्भर भारत पैकेज का ऐलान करते समय इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम की घोषणा की थी। इस स्कीम के तहत सरकार ने कारोबारियों और खासकर छोटे कारोबारियों को कोविड-19 के मुश्किल वक्त में बिना गारंटी के लोन की सुविधा उपलब्ध करायी। इस स्कीम को अवेल करने की समयसीमा 31 मार्च, 2021 है। 

विवाद से विश्वास स्कीम के तहत घोषणापत्र दाखिल करने की समयसीमा;-केंद्र सरकार ने 26 फरवरी, 2021 को एक नोटिफिकेशन के जरिए विवाद समाधान से जुड़ी स्कीम 'विवाद से विश्वास स्कीम' के तहत घोषणापत्र दाखिल करने की समयसीमा को बढ़ाकर 31 मार्च, 2021 कर दिया था। पहले यह समयसीमा 28 फरवरी, 2021 थी।

नई दिल्ली। यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस (UFBU) के बैनर तले 9 यूनियनों ने सोमवार, 15 मार्च से दो दिन की बैंक हड़ताल का आह्वान किया है। यूनियंस ने दो सरकारी बैंकों के प्रस्तावित निजीकरण के विरोध में यह हड़ताल बुलाई है। ऑल इंडिया बैंक एम्पलाॉइज एसोसिएशन (AIBEA) के महासचिव सी एच वेंकटचलम ने दावा किया कि इस हड़ताल में बैंकों के करीब 10 लाख कर्मचारी और बैंक अधिकारी शामिल…
नई दिल्ली। म्यूचुअल फंड के आधिकारिक रिस्क-ओ-मीटर के नए संस्करण ने काम शुरू कर दिया है। इसके तहत नए रिस्क लेवल घोषित किए गए हैं और बहुत से निवेशकों को लगता है कि नए सिस्टम में उनके फंड का रिस्क लेवल बढ़ गया है। हालांकि, कुछ को यह भी लगता है कि उनके लिए रिस्क लेवल घट गया है। ऐसे में निवेशकों को यह बात समझनी चाहिए कि रिस्क मीटर…
नई दिल्ली। उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआइआइटी) ने ई-कॉमर्स नीति के मसौदे में कहा है कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म अपने विक्रेताओं में भेदभाव नहीं कर सकते हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि सरकार किसी उद्योग के विकास के लिए डाटा इस्तेमाल के सिद्धांत तय करेगी। साथ ही डाटा तक अनधिकृत व्यक्तियों की पहुंच और दुरुपयोग रोकने के लिए पर्याप्त उपाय किए जाएंगे। डीपीआइआइटी के शीर्ष अधिकारी की…
नई दिल्ली। किफायती विमान सेवा देने वाली निजी विमानन कंपनी स्पाइसजेट घरेलू मार्गों पर 28 मार्च से 66 नई उड़ानें शुरू करेगी। इसके तहत कुछ मार्गों पर उड़ानों की संख्या बढ़ाई जाएगी। एयरलाइन ने शनिवार को कहा कि इन नई उड़ानों का परिचालन बोइंग-737 और क्षेत्रीय जेट बांबार्डियर क्यू-400 के जरिये किया जाएगा। कंपनी महानगरों और छोटे शहरों के बीच संपर्क बढ़ाने की कोशिशों के तहत उड़ानों की संख्या में…
Page 7 of 135

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">