कारोबार

कारोबार (3076)

नई दिल्ली:-एसबीआई ने 17,140 रिक्तियों के लिए जारी आवेदन प्रक्रिया की अंतिम तारीख को बढ़ा दिया है। अब इन रिक्तियों के लिए 28 अप्रैल तक ऑनलाइन आवेदन फॉर्म भरा जा सकता है। पहले अंतिम तारीख 25 अप्रैल तय की गई थी। यह बदलाव कई राज्यों में आधिकारिक क्षेत्रीय भाषाओं की सूची में संशोधन के कारण किया गया है।एसबीआई की वेबसाइट पर संशोधनों से संबंधित एक नोटिफिकेशन जारी हुआ है। इसमें राज्यों के अनुसार संशोधित या नई जोड़ी गईं क्षेत्रीय भाषाओं का विवरण दिया गया है। पहले ऑनलाइन आवेदन कर चुके उम्मीदवारों को इन बदलावों की वजह से फॉर्म में सुधार करने का मौका मिलेगा। इसके लिए एसबीआई जल्द ही वेबसाइट पर एक लिंक उपलब्ध कराएगा।एसबीआई की आवेदन प्रक्रिया जूनियर एसोसिएट (कस्टमर सपोर्ट एंड सेल्स) और जूनियर एग्रीकल्चरल एसोसिएट के पदों को भरने के लिए हैं। सर्वाधिक 14,132 रिक्तियां जूनियर एसोसिएट के पदों के लिए हैं। इनमें विशेष भर्ती योजना (स्पेशल रिक्रूटमेंट ड्राइव) के तहत भरे जाने वाले 3,218 बैकलॉग पद भी शामिल हैं। इस योजना में शामिल पद एससी, एसटी, ओबीसी, पूर्व सैनिकों और शारीरिक रूप से अशक्त व्यक्तियों के लिए हैं। इसके अलावा एसबीआई ने कुछ विशेष क्षेत्रों के लिए भी जूनियर एसोसिएट की 188 रिक्तियां घोषित की हैं।ये रिक्तियां 14,132 पदों में ही शामिल हैं, लेकिन इनके लिए संबंधित क्षेत्रों (तुरा (मेघालय), कश्मीर घाटी और लद्दाख) की स्थानीय भाषा जानने वाले व्यक्ति ही आवेदन कर सकते हैं। जूनियर एग्रीकल्चरल एसोसिएट के पदों पर 3,008 भर्तियां की जाएंगी। एसबीआई ने सभी रिक्तियों को राज्यों के अनुसार (तुरा (मेघालय), कश्मीर घाटी और लद्दाख में रिक्तियां जिलावार बांटी गई हैं) बांटा है। इसलिए आवेदकों के लिए संबंधित राज्य की आधिकारिक भाषा में दक्षता को अनिवार्य किया गया है।यह अनिवार्यता तुरा (मेघालय), कश्मीर घाटी और लद्दाख के लिए घोषित पदों के साथ भी है, लेकिन यहां रिक्तियों के जिलावार वर्गीकरण की वजह से संबंधित जिले की भाषा में कुशलता भी आवेदकों के लिए अनिवार्य है। आवेदकों को किसी एक राज्य में एक ही पद के लिए आवेदन करने की छूट होगी। अन्य जानकारियां इस प्रकार हैं :

जूनियर एसोसिएट (कस्टमर सर्पोट एंड सेल्स), कुल पद : 10,726

राज्य के आधार पर रिक्तियों का विवरण

गुजरात, पद : 311 (अनारक्षित-161)

कर्नाटक, पद : 133 (अनारक्षित-68)

मध्य प्रदेश, पद : 703 (अनारक्षित-352)

छत्तीसगढ़, पद : 346 (अनारक्षित-175)

पश्चिम बंगाल, पद : 980 (अनारक्षित-491)

अंडमान और निकोबार, पद : 13 (अनारक्षित-8)

ओडिशा, पद : 558 (अनारक्षित-280)

हिमाचल प्रदेश, पद : 185 (अनारक्षित-95)

हरियाणा, पद : 296 (अनारक्षित-160)

पंजाब, पद : 160 (अनारक्षित-81)

तमिलनाडु, पद : 1420 (अनारक्षित-753)

पुडुचेरी, पद : 17 (अनारक्षित-9)

दिल्ली/ हरियाणा, पद : 141 (अनारक्षित-77)

राजस्थान, पद : 138 (अनारक्षित-71)

उत्तराखंड, पद : 183 (अनारक्षित-123)

आंध्र प्रदेश, पद : 1385 (अनारक्षित-695)

तेलंगाना, पद : 431 (अनारक्षित-217)

केरल, पद : 280 (अनारक्षित-173)

उत्तर प्रदेश, पद : 1169 (अनारक्षित-598)

महाराष्ट्र, पद : 300 (अनारक्षित-162)

गोवा, पद : 22 (अनारक्षित-15)

असम, पद : 114 (अनारक्षित-64)

अरुणाचल प्रदेश, पद : 30 (अनारक्षित-17)

मणिपुर, पद : 24 (अनारक्षित-13)

मेघालय, पद : 32 (अनारक्षित-17)

मिजोरम, पद : 12 (अनारक्षित-7)

नगालैंड, पद : 32 (अनारक्षित-18)

त्रिपुरा, पद : 25 (अनारक्षित-14)

बिहार, पद : 895(अनारक्षित-503)

झारखंड, पद : 391 (अनारक्षित-198)

जूनियर एसोसिएट (बैकलॉग रिक्तियां), कुल पद : 3,218

रिक्तियों का वर्गवार विवरण

--एससी/ एसटी/ ओबीसी, पद : 1,509

--शारीरिक अशक्त, पद : 406

--पूर्व सैनिक, पद : 1,303

जूनियर एसोसिएट (विशेष भर्तियां क्षेत्र विशेष के लिए), कुल पद : 188

--जम्मू और कश्मीर घाटी एवं लद्दाख, पद : 150

--मेघालय (तुरा), पद : 38

योग्यता : किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से बैचलर डिग्री हो या समकक्ष योग्यता प्राप्त हो।

जूनियर एग्रीकल्चरल एसोसिएट, कुल पद : 3,008

राज्य के आधार पर रिक्तियों का विवरण

गुजरात, पद : 178 (अनारक्षित-92)

कर्नाटक, पद : 90 (अनारक्षित-46)

मध्य प्रदेश, पद : 316 (अनारक्षित-159)

छत्तीसगढ़, पद : 47 (अनारक्षित-24)

पश्चिम बंगाल, पद : 123 (अनारक्षित-62)

ओडिशा, पद : 200 (अनारक्षित-100)

जम्म और कश्मीर, पद : 02 (अनारक्षित-1)

हिमाचल प्रदेश, पद : 04 (अनारक्षित-02)

हरियाणा, पद : 48 (अनारक्षित-26)

पंजाब, पद : 20 (अनारक्षित-10)

तमिलनाडु, पद : 63 (अनारक्षित-33)

पुडुचेरी, पद : 03 (अनारक्षित-1)

दिल्ली/ हरियाणा, पद : 04 (अनारक्षित-03)

राजस्थान, पद : 120 (अनारक्षित-61)

उत्तराखंड, पद : 40 (अनारक्षित-27)

आंध्र प्रदेश, पद : 387 (अनारक्षित-195)

तेलंगाना, पद : 108 (अनारक्षित-55)

केरल, पद : 05(अनारक्षित-04)

उत्तर प्रदेश, पद : 443 (अनारक्षित-227)

महाराष्ट्र, पद : 315 (अनारक्षित-170)

असम, पद : 90 (अनारक्षित-49)

अरुणाचल प्रदेश, पद : 13 (अनारक्षित-07)

मणिपुर, पद : 05 (अनारक्षित-03)

मेघालय, पद : 26 (अनारक्षित-14)

 मिजोरम, पद : 05 (अनारक्षित-03)

नगालैंड, पद : 10 (अनारक्षित-05)

त्रिपुरा, पद : 25 (अनारक्षित-13)

बिहार, पद : 238(अनारक्षित-134)

झारखंड, पद : 80 (अनारक्षित-42)

योग्यता : कृषि या कृषि से संबंधित विषय में बैचलर डिग्री प्राप्त हो।  

आयु सीमा (दोनों पद)

-1 अप्रैल 2016 को न्यूनतम 20 वर्ष और अधिकतम 28 वर्ष। उम्मीदवार का जन्म 2 अप्रैल 1988 से पहले और 1 अप्रैल 1996 (दोनों ही तिथियां शामिल) के बाद नहीं होना चाहिए।

-अधिकतम आयु सीमा में ओबीसी श्रेणी के उम्मीदवारों को तीन वर्ष, एससी/ एसटी को पांच वर्ष और शारीरिक अशक्त श्रेणी के उम्मीदवारों को दस साल की छूट प्राप्त है।  

वेतनमान (दोनों पद) : 11,765 से 31,540 रुपये।

प्रोबेशन पीरियड : छह महीने।

जरूरी सूचना

-शैक्षणिक योग्यता का आकलन 30 जून 2016 को आधार मानकर किया जाएगा।

-बैचलर डिग्री पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष/ सेमेस्टर की परीक्षा देने वाले छात्र भी पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं। बशर्ते कि इंटरव्यू/ नियुक्ति के समय (30 जून 2016 से पहले) उम्मीदवार को स्नातक परीक्षा पास होने का प्रमाण देना होगा।

-चयनित उम्मीदवारों का प्रोबेशन पीरियड छह महीने का होगा।

-अभ्यर्थी जिस राज्य का चयन करेंगे, उनकी नियुक्ति उसी राज्य के लिए होगी। राज्य के चयन का विकल्प अभ्यर्थियों को ऑनलाइन आवेदन के दौरान प्राप्त होगा।

-ऑनलाइन आवेदन के दौरान परीक्षा केंद्र का चयन ध्यान से करें, क्योंकि एक बार चयन के बाद इसमें बदलाव करना संभव नहीं होगा।

-उम्मीदवार फॉर्म में मांगी गई जानकारियां ध्यानपूर्वक दर्ज करें, क्योंकि फॉर्म सब्मिट होने के बाद उसमें सुधार करना संभव नहीं होगा।

-स्पेशल रिक्रूटमेंट ड्राइव के तहत मेघालय (तुरा) और कश्मीर घाटी एवं लद्दाख के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवार केवल एक ही जिले के लिए आवेदन कर सकते हैं।

-उम्मीदवार जिस राज्य के लिए आवेदन कर रहे हैं, उसकी आधिकारिक भाषा का ज्ञान होना आवश्यक है। उम्मीदवार को उस भाषा की समझ के साथ उसे लिखना, पढ़ना और बोलना आता हो।

-स्पेशल रिक्रूटमेंट ड्राइव के तहत मेघालय, कश्मीर और लद्दाख के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को राज्य की आधिकारिक भाषा के साथ संबंधित जिले के स्थानीय भाषा को लिखना, बोलना, पढ़ना और समझना भी आना चाहिए।  

चयन प्रक्रिया

योग्य उम्मीदवारों का चयन ऑनलाइन परीक्षा (प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा), आधिकारिक भाषा/ स्थानीय भाषा और इंटरव्यू के माध्यम से किया जाएगा।

प्रारंभिक परीक्षा का प्रारूप

-यह परीक्षा 100 अंकों की होगी। इसमें सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे।

-परीक्षा के तीन भाग होंगे। पहले भाग में इंग्लिश लैंग्वेज से 30 प्रश्न, न्यूमेरिकल एबिलिटी से 35 प्रश्न और रीजनिंग एबिलिटी से 35 प्रश्न पूछे जाएंगे। सभी प्रश्न एक-एक अंक के होंगे।

-इस परीक्षा का माध्यम ऑनलाइन होगा और पेपर के लिए एक घंटे का समय दिया जाएगा।

-इस परीक्षा में उत्तीर्ण उम्मीदवारों को ही मुख्य परीक्षा के लिए शॉर्टलिस्ट किया जाएगा।

-प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन मई/ जून महीने में किया जाएगा।

मुख्य परीक्षा का प्रारूप

-यह परीक्षा भी ऑनलाइन होगी और सभी प्रश्न बहुविकल्पीय होंगे।

-परीक्षा में जनरल/ फाइनेंशियल अवेयरनेस से 50 प्रश्न, क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड से 50 प्रश्न और जनरल इंग्लिश से 40 प्रश्न पूछे जाएंगे। सभी प्रश्न एक-एक अंक के होंगे  

-रीजनिंग एबिलिटी एंड कंप्यूटर एप्टिट्यूड से 60 अंकों के 50 प्रश्न पूछे जाएंगे।     

-जनरल/ फाइनेंशियल अवेयरनेस और जनरल इंग्लिश के प्रश्नों के लिए उम्मीदवारों को 35-35 मिनट मिलेंगे। क्वांटिटेटिव एप्टिट्यूड और रीजनिंग एबिलिटी एंड कंप्यूटर एप्टिट्यूड के प्रश्नों के लिए 45 मिनट का वक्त मिलेगा। पेपर पूरा करने के लिए उम्मीदवारों को कुल 2 घंटे 40 मिनट का समय मिलेगा।

-जनरल इंग्लिश के अलावा सभी प्रश्न इंग्लिश और हिंदी भाषा में होंगे।

-प्रारंभिक और मुख्य दोनों ही परीक्षाओं में नेगेटिव मार्किंग का प्रावधान है। प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/4 अंकों की कटौती की जाएगी।

-उम्मीदवारों के लिए दोनों ही परीक्षा में पास होना अनिवार्य है।

-मुख्य परीक्षा में पास उम्मीदवारों को ही इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा।

ऑफिशियल/ लोकल लैंग्वेज टेस्ट : जिन उम्मीदवारों के पास दसवीं कक्षा में ऑफिशियल (लोकल) लैंग्वेज की पढ़ाई का प्रमाण हो, उन्हें लैंग्वेज टेस्ट नहीं देना होगा। ऑफिशियल/ लोकल लैंग्वेज में कुशलता नहीं होने पर उम्मीदवारों को अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा।

अंतिम चयन : मुख्य परीक्षा और इंटरव्यू में प्राप्त अंकों के आधार पर अंतिम चयन सूची तैयार की जाएगी।

आवेदन शुल्क

-अनारक्षित और ओबीसी श्रेणी के उम्मीदवारों के लिए आवेदन शुल्क 600 रुपये है। इसमें आवेदन शुल्क के साथ इंटिमेशन चार्ज भी शामिल है।

-एससी, एसटी, शारीरिक रूप से अशक्त और पूर्व सैनिकों के लिए आवेदन शुल्क माफ है, लेकिन उन्हें केवल 100 रुपये इंटिमेशन चार्ज देना होगा।

-शुल्क का भुगतान डेबिट/ के्रडिट कार्ड या इंटरनेट बैंकिंग के माध्यम से किया जा सकता है। भुगतान का विकल्प ऑनलाइन आवेदन करने के दौरान प्राप्त होगा।   

 आवेदन प्रक्रिया

-वेबसाइट (www.statebankofindia.com)  के होमपेज पर जाएं। इसके बाद नीचे की ओर दिए गए 'करियर विद अस' पर क्लिक करें।

-नए वेबपेज पर 'रिक्रूटमेंट ऑफ जूनियर एसोसिएट... स्टेट बैंक ऑफ इंडिया' के नीचे डाउनलोड 'इंग्लिश एडवर्टाइजमेंट' लिंक पर क्लिक करें। ऐसा करने पर नियुक्ति का विज्ञापन खुलेगा। विज्ञापन को ध्यान से पढ़कर अपनी योग्यता जांच लें।

-फिर ऑनलाइन आवेदन के लिए 'अप्लाई ऑनलाइन' लिंक पर क्लिक करें। नए वेबपेज पर न्यू यूजर 'क्लिक हियर फॉर रिक्रूटमेंट' लिंक पर क्लिक करें। इसके बाद सभी निर्देशों को पढ़ने के बाद 'कंटिन्यू' बटन पर क्लिक करें। ऐसा करने पर आवेदन फॉर्म खुल जाएगा। अब फॉर्म में अपनी व्यक्तिगत जानकारियां दर्ज कर 'सेव एंड नेक्स्ट' बटन पर क्लिक करें।  

-रजिस्ट्रेशन होते ही कंप्यूटर स्क्रीन पर रजिस्ट्रेशन नंबर और पासवर्ड दिखाई देगा, इसे एक पेपर पर नोट कर लें।

-इसके बाद अपनी फोटोग्राफ और सिग्नेचर की स्कैन कॉपी को 'फोटोग्राफ/ सिग्नेचर' लिंक से अपलोड कर दें। फोटोग्राफ का साइज 200७230 पिक्सल और सिग्नेचर का साइज 140७60 पिक्सल होना चाहिए। फोटो फाइल का साइज 20 केबी से 50 केबी और सिग्नेचर फाइल का साइज 10 केबी से 20 केबी के बीच होना चाहिए।

-आवेदन फॉर्म में सभी जानकारियां सही हैं, इसे सुनिश्चित करने के बाद ही आवेदन शुल्क का भुगतान करें। शुल्क भुगतान के लिए 'पेमेंट' लिंक पर क्लिक करने के साथ ही आवेदन प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

-शुल्क के भुगतान की प्रक्रिया सफलतापूर्वक पूरा होते ही सिस्टम द्वारा जनरेट ई-रिसीट और आवेदन फॉर्म प्राप्त होगा। इसका प्रिंटआउट निकाल कर रख लें।

 ध्यान दें

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, पद : 17,140

ऑनलाइन आवेदन की अंतिम तारीख : 28 अप्रैल 2016

शुल्क जमा करने की अंतिम तारीख : 28 अप्रैल 2016

आवेदन शुल्क : अनारक्षित और ओबीसी श्रेणी के लिए 600 रुपये। शुल्क का भुगतान ऑनलाइन माध्यम से करना होगा।

 अधिक जानकारी यहां

ई-मेल : rpd@sbi.co.in , sbirect@ibpsorg.org

फोन : 022-2282 0427

वेबसाइट : www.sbi.co.in, www.statebankofindia.com

 

नई दिल्ली: गूगल इंडिया देश का सबसे लोकप्रिय नियोक्ता है जिसके बाद मर्सिडीज-बेंज का स्थान रहा। यह बात मानव संसाधन परामर्शक रैंडस्टैड ने कही। रैंडस्टैड पुरस्कार के छठे संस्करण में गूगल इंडिया लगातार दूसरे साल सबसे आकषर्क नियोक्ता के तौर पर उभरा। क्षेत्र विशेष से जुड़ा विशेष सम्मान के तहत सूचना प्रौद्योगिकी के लिए इस साल का पुरस्कार डेल को दिया गया जबकि उपभोक्ता इलेक्ट्रानिक्स के क्षेत्र में सैमसंग इंडिया और ई-वाणिज्य के लिए आमेजन इंडिया को दिया गया।रैंडस्टैड इंडिया के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी मूर्ति के उप्पलुरी ने कहा, ‘आज के बेहद प्रतिस्पर्धी रोजगार बाजार में शीर्ष प्रतिभा की नियुक्ति और उन्हें कंपनी में बनाए रखना कंपनी की वृद्धि करने की क्षमता के लिए आवश्यक है। यह भी स्थापित तथ्य है कि जो कंपनियां उचित कामके लिए उचित प्रतिभा को आकषिर्त करती हैं वे बेहतर प्रदर्शन कर रही हैं।’

नयी दिल्ली: टैक्नॉलोजी क्षेत्र की प्रमुख कंपनी Google ने आज भारत में अपना इंटरनेट स्ट्रीमिंग उपकरण क्रोमकास्ट लॉन्च किया है जिसकी कीमत 3,399 रुपए है। कंपनी ने भारत में इसी कीमत पर क्रोमकास्ट ऑडियो भी लॉन्च किया है जिसे पिछले साल अमेरिका में लॉन्च किया गया था।क्रोमकास्ट पार्टनरशिप के एशिया-प्रशांत क्षेत्र के प्रमुख मिकी किम ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘आकर्षक डिजाइन, नई सामग्री और उन्नत App के साथ नया क्रोमकास्ट स्ट्रीमिंग को तेज और आसान बनाएगा।’ क्रोमकास्ट ऑडियो एक नया उपकरण है जो वाय-फाय पर स्पीकर से लगता है।क्रोमकास्ट के जरिए उपयोक्ता अपने टेलीविजन का उपयोग यूट्यूब और नेटफ्लिक्स जैसी वीडियो सेवाओं के जरिए स्मार्ट टीवी की तरह कर सकते हैं। क्रोमकास्ट 31 देशों में उपलब्ध है और इसके विश्व भर में दो करोड़ यूजर हैं।

नई दिल्ली: पनामा पेपर्स मामले में बॉलीवुड महानायक अमिताभ बच्चन की मुश्किलें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। इस मामले में अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने एक नया खुलासा किया है। इस अखबार ने अमिताभ के दावे को गलत बताते हुए पनामा पेपर्स के दो दस्तावेज जारी किए हैं।अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने अमिताभ बच्चन से जुड़े पनामा पेपर्स के दो दस्तावेज जारी किए हैं जिसमें यह साफ तौर पर लिखा है अमिताभ बच्चन 'सी बल्क शिपिंग कंपनी लिमिटेड' में बतौर डायरेक्टर कार्यभार संभाल रहे हैं। इन दस्तावेजों में इस बात का भी खुलासा करने का दावा किया गया है कि अमिताभ कंपनी के बोर्ड मीटिंग में टेलिफोन कॉन्फ्रेंस के जरिए शामिल होते थे।इंडियन एक्‍सप्रेस की रिपोर्ट्स के मुताबिक रिकॉर्ड्स से पता चलता है कि अमिताभ बच्‍चन बतौर निदेशक इन कंपनियों में से दो की बोर्ड मीटिंग्‍स में 'कॉन्‍फ्रेंस टेलीफोन' के जरिए शामिल हुए थे। बहमास की ट्रंप शिपिंग लिमिटेड और ब्रिटिश वर्जिन आईलैंड की सी बल्‍क शिपिंग कंपनी लिमिटेड की यह बैठक 12 दिसंबर 1994 को रखी गई थी। दोनों कंपनियों की तरफ से जारी सर्टिफिकेट ऑफ इनकम्‍बेंसी में भी अमिताभ का नाम निदेशक और कंपनी के सदस्य के तौर पर दर्ज है।गौर हो कि पनामा पेपर्स खुलासे में अमिताभ बच्चन का नाम आने के बाद उन्होंने ऐसे किसी भी दावों से इंकार कर दिया था। इस मामले में अमिताभ ने कहा था कि जिन कंपनियों का जिक्र किया है मैं उनमें से किसी को नहीं जानता हूं। पनामा पेपर लीक होने के बाद बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन और उनकी बहू ऐश्वर्या राय बच्चन पर एक बड़ा आरोप लगा था। रिपोर्ट में यह दावा किया गया था कि इन दोनों ने अपनी संपत्ति छिपाने में टैक्स हैवन की मदद ली थी। इन दस्तावेजों में 500 से ज्यादा भारतीयों के नाम हैं जिसमें सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन के अलावा कई उद्योगपतियों के नाम भी सुर्खियों में आए थे। 

नई दिल्ली: अगर आप ट्रेन से यात्रा करते हैं और ट्रेन के अंदर सेल्फी लेने की आपकी आदत हैं तो यह खबर आपको पढ़नी चाहिए और इसे लेकर आप सावधान भी हो जाइए। ट्रेन में आपकी सेल्फी लेने की हरकत आपको जेल पहुंचा सकती है।अब ट्रेन में सेल्फी खींचते हुए पकड़े जाने पर रेलवे एक्ट के तहत छह महीने की जेल की सजा के साथ 2000 रुपये का जुर्माना भी भरना पड़ सकता है। ट्रेनों में सेल्फी लेने पर पाबंदी के प्रति यात्रियों को जागरूक करने का जिम्मा रेल मंत्रालय ने आरपीएफ को सौंपा है। इस नियम के तहत ट्रेन के अंदर सेल्फी लेना और रेलवे ब्रिज पर भी सेल्फी लेना अपराध की श्रेणी में शामिल होगा जिसपर जुर्माना और जेल दोनों हो सकती है। ट्रेन में अराजकता का कारण बन रही सेल्फी को रेल मंत्रालय ने अपराध की श्रेणी में ला दिया है।हाल ही में ट्रेन के गेट, विंडो और रेलवे ट्रैक में सेल्फी लेने के चक्कर में कई जाने गई हैं। रेलवे को सेल्फी के माध्यम से महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की शिकायतें भी मिली हैं जिसके बाद रेलवे ने ट्रेन में सेल्फी लेने को अपराध की श्रेणी में शामिल किया है। यानी अब आप ट्रेन में सेल्फी लेते पकडे गए तो आपको जुर्माना भरने के अलावा जेल भी जाना पड़ सकता है। रेलवे सूत्रों के मुताबिक चलती ट्रेन में जीआरपी के स्कॉर्ट सिपाही सेल्फी खींचने वालों पर नजर रखेंगे। इस दौरान उनके पास आरोपी मुसाफिर का चालान काटने की भी व्यवस्था होगी। इसके लिए वे आरपीएफ स्कॉर्ट सिपाहियों की मदद भी ले सकते हैं।हाल के दिनों में ट्रेनों में सेल्फी लेने के दौरान बढ़ती दुर्घटनाओं को रेल प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। रेल सूत्रों के मुताबिक नदी पुल के पास चलती ट्रेन में सेल्फी लेने वाले गेट पर आ जाते है और दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं। रेलवे प्लेटफार्म पर ट्रेन आने के दौरान, कोच के दरवाजे पर भी उत्साहित यात्री सेल्फी लेने लगते हैं और दुर्घटना का शिकार हो जाते है। इन्हीं बातों के मद्देनजर ट्रेनों में इस तरह सेल्फी लेने पर रोक लगाने का फैसला किया गया है।  

पुणे: भारत की आर्थिक वृद्धि दुनिया में सबसे तेज होने को लेकर ‘बहुत उछलने’ के प्रति आगाह करते हुए रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने आज कहा कि देश अब भी दुनिया के सबसे गरीब देशों में गिना जाता है और इसे अभी लंबा रास्ता तय करना है।राजन ने साथ ही भारत की वर्तमान स्थिति के बारे में अपनी ‘अंधों में काना राजा’ वाली विवादास्पद टिप्पणी को एक संदर्भ देने का प्रयास किया। राजन ने कहा, ‘हम आज भी हम प्रति व्यक्ति आय की दृष्टि से दुनिया के सबसे गरीब देशों में आते हैं और हमें अपने सभी नागरिकों की समस्याओं के समुचित समाधान अभी लंबा रास्ता तय करना है। गवर्नर ने कहा कि यदि देश के प्रत्येक नागरिक को बेहतर जीवन देना है तो मौजूदा वृद्धि दर को अगले 20 साल तक बरकरार रखना होगा।राष्ट्रीय बैंक प्रबंधन संस्थान (एनआईबीएम) के दीक्षांत समारोह में राजन ने कहा कि एक औसत चीनी नागरिक एक औसत भारतीय से चार गुना से भी अधिक अमीर है। खरी-खरी बोलने वाले रिजर्व बैंक गवर्नर ने यह बात दोनों देशों के बीच तुलना करते हुए कही।राजन ने कहा कि 1960 के दशक में चीन की अर्थव्यवस्था भारत से छोटी थी, लेकिन आज यह भारत से पांच गुना बड़ी है। उन्होंने कहा कि ब्रिक्स देशों में हमारा प्रति व्यक्ति सकल घरेलू उत्पाद सबसे कम है। अमेरिका में राजन के हालिया बयान की कई केंद्रीय मंत्रियों ने आलोचना की थी। राजन ने अमेरिका में हाल में कहा था कि भारत को ‘संकटपूर्ण विश्व अर्थव्यवस्था के बीच आशा की किरण’ बताना ऐसे ही है जैसे ‘अंधों के देश में एक काना व्यक्ति राजा होता है।’राजन ने कहा कि उनकी इस टिप्पणी को गलत ढंग से लिया गया और इसमें शब्दों के आशय की जगह शब्दों को पकड़ लिया गया। उन्होंने कहा, ‘केंद्रीय बैंकर को व्यावहारिक होना होता है, और मैं इस उन्माद का शिकार नहीं हो सकता कि भारत सबसे तेजी से वृद्धि दर्ज करने वाली विशाल अर्थव्यवस्था है।’वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राजन की टिप्पणी के संदर्भ में कहा था कि विश्व के शेष हिस्से के मुकाबले भारतीय अर्थव्यवस्था ज्यादा तेजी और दरअसल सबसे अधिक तेजी से वृद्धि दर्ज कर रही है। वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी राजन की टिप्पणी को हल्के में नहीं लिया और कहा कि इसके स्थान पर बेहतर शब्दों का उपयोग किया जा सकता था।राजन ने कहा, ‘हम अपनी मौजूदा वृद्धि की श्रेष्ठता को लेकर हमें ज्यादा इतराना नहीं चाहिए, क्यों कि जहां हम अपनी वर्तमान श्रेष्ठता को लेकर आत्मतुष्ट होते हैं, हम अपनी भविष्य की सम्पत्ति को ऐसे उड़ाना शुरू कर देंगे मानो वह सम्पत्ति हमारे पास पहले से पड़ी है, हम वृद्धि को आगे जारी रखने का प्रयास बंद कर देते हैं। यह चल चित्र हमारे अतीत में कई बार चल चुका है और हम जानते हैं कि इसका अंत क्या होता है।’ इस धारणा को बदलने की जरूरत पर जोर देते हुए राजन ने कहा कि दीर्घावधि में उंची वृद्धि दर सिर्फ ‘क्रियान्वयन, क्रियान्वयन और क्रियान्वयन’ से ही हासिल की जा सकती है। राजन ने हालांकि आनी टिप्पणी के लिए नेत्रहीनों से माफी मांगी जिन्होंने राजन की इस मुहावरे के उपयोग के लिए आलोचना की।राजन ने कहा, ‘मैं उस वर्ग से माफी जरूर मांगना चाहता है जिसे मैंने अपने शब्दों से तकलीफ पहुंचाई और वह हैं नेत्रहीन।’ इससे पहले अहमदाबाद के नेत्रहीन लोगांे के संघ ने राजन को पत्र लिखकर उनकी इस टिप्पणी का विरोध किया था और इस तरह की असंवेदनशील भाषा के इस्तेमाल के लिए उनसे माफी मांगने को कहा था।राजन ने कहा, ‘हमें अपने मुकाम पर पहुंचने का दावा करने से पहले लंबा सफर तय करना है। हम हर भारतीय को मर्यादित आजीविका दे सकें, इसके लिए लगातार आर्थिक वृद्धि के इस प्रदर्शन को 20 साल तक बरकरार रखने की जरूरत है।’

नयी दिल्ली : देश का कच्चे तेल का आयात बिल बीते वित्त वर्ष 2015-16 में घटकर आधा यानी 64 अरब डॉलर रह गया। पेट्रोलियम मंत्रालय के ताजा आंकड़ों के अनुसार भारत ने 31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष के दौरान 64.4 अरब डॉलर के 20.21 करोड़ टन कच्चे तेल का आयात किया।वित्त वर्ष 2014-15 में 112.7 अरब डॉलर के 18.94 करोड़ टन कच्चे तेल का आयात किया गया था। रुपये…
नई दिल्ली:-भविष्य निधि (पीएफ) निकासी के नियम कड़े करने के चौतरफा विरोध के बीच केंद्र सरकार ने इसकी अधिसूचना को रद्द कर दिया। केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री बंडारू दत्तात्रेय ने यह जानकारी दी। आइए जानते हैं वो चार कारण जिससे सरकार इतने बड़े कदम के बाद बैकफुट पर चली गई। सवालः पीएफ के किस नियम में बदलाव का चौतरफा विरोध हो रहा था? जवाबः नए नियम में 58 साल…
नई दिल्ली: मोटोरोला के सबसे मजबूत स्‍क्रीन वाले स्‍मार्टफोन फोन Moto X Force पर शानदार छूट मिल रहा है। यह छूट ईकॉमर्स साइट फ्लिपकार्ट दे रही है। इसके तहत आप 16 हजार रुपए तक की मिलनेवाली छूट का फायदा उठा सकते हैं।इस स्मार्टफोन में 5.4 इंच की क्वाड एचडी डिस्प्ले है। फोन में 21 मेगापिक्सल का रियर और 5 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा है। फोन में 2 गीगाहर्ट्ज क्वालकॉम स्नैपड्रैगन…
पुणे: भारत को दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था का तमगा मिलने से उपजे ‘उन्माद’ के प्रति आगाह करते हुए रिजर्व बैंक गवर्नर रघुराम राजन ने आज कहा कि देश को तय मुकाम पर पहुंचने का दावा करने से पहले अभी लंबा सफर तय करना है।राजन ने यह कहकर एक तरह से भारत के बारे में अपनी ‘अंधों में काना राजा’ की टिप्पणी को सही ठहराने का प्रयास…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें