कारोबार

कारोबार (3068)

टाटा समूह की वार्षिक आमसभा (एजीएम) 12 अगस्त को मुंबई के बिड़ला मातोश्री सभागार में दोपहर तीन बजे से होगी। इसमें समूह के चेयरमैन सायरस पी. मिस्त्री के कार्यकाल में बढ़ोतरी पर फैसला होगा। 47 वर्षीय सायरस मिस्त्री मई 2012 में समूह के चेयरमैन पद पर नामित हुए थे। दिसंबर 2012 से चार वर्षों के लिए उन्हें इस पद की जिम्मेदारी दी गई थी। सायरस मिस्त्री का कार्यकाल इसी वर्ष पूरा हो रहा है। ऐसे में उनके कार्यकाल को आगे बढ़ाने पर बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स फैसला लेंगे।

कई अन्य घोषणाएं भी होंगी:-सायरस मिस्त्री टाटा समूह की टाटा संस लिमिटेड और टाटा इंडस्ट्रीज लिमिटेड समेत सत्रह कंपनियों में निदेशक और कार्यकारिणी सदस्य हैं। एजीएम में टाटा समूह दस हजार करोड़ रुपये का डिबेंचर लाने पर भी फैसला लेगा। यह डिबेंचर कितने वर्षों का होगा? तय समय के बाद डिबेंचर पर शेयरधारकों को क्या लाभ होगा? इसकी भी घोषणा एजीएम में की जाएगी। 

नई दिल्ली:-एक तरफ जहां दुनिया भर के शहरों में ज़मीन के दाम आसमान छू रहे हैं और अपने घर का सपना लोगों से और दूर होता जा रहा है, दुनिया में ऐसी जगह भी मौजूद हैं जहां सरकार ने फ्री में जमीन देने की घोषणा कर रखी है। ये दुनिया की ऐसी जगहें हैं जहां आबादी बहुत कम है और सरकार विदेशियों को भी फ्री जमीन देने के लिए तैयार है।ये हैं वो 7 जगहें:

Marquette और Lincoln शहर, अमेरिका: अमेरिका के कंसास स्टेट की मैकपर्सन काउंटी के पास स्थित मेक्वेटे शहर नदी के किनारे मौजूद है। 114 हेक्टेयर में बसे इस शहर की कुल आबादी 614 है। साल 2003 से ही सरकार ने यहां आकर बसने वालों को फ्री जमीन और बाक़ी सुविधाएं मुहैया कराने की घोषणा की हुई है। लिंकन शहर भी कंसास के दक्षिण में स्थित है और यहां की जनसंख्या भी सिर्फ 1200 के आस-पास है। ये शहर मेक्वेटे से भी बड़ा है और अगर इसकी पूरी ज़मीन को यहां रहने वाले लोगों को बांटा जाए तो हर एक के हिस्से में 1000 स्क्वायर मील जगह आएगी। आबादी बढ़ाने के लिए ही यहां की लोकल काउन्सिल ने फ्री जमीन देने का एलान किया हुआ है।

अमेरिका का शहर Marne: संयुक्त राज्य अमेरिका में स्थित लोवा स्टेट में मौजूद मरने शहर 148 हेक्टेयर में फैला हुआ है। हालांकि आपको जानकार ये आश्चर्य होगा कि इस शहर की आबादी सिर्फ 120 है। इस शहर में 52 घर हैं जिनमें कुल 37 परिवार रहते हैं। इस शहर के विकास और इसे आबाद करने के लिए ही यहां की ज़मीनों को आकर बसने वालों को फ्री में देने की घोषणा की गई है।

न्यू रिचलैंड, अमेरिका: मिन्सेटा शहर में स्थित न्यू रिचलैंड की कुल आबादी 1200 के आस-पास है और ये 158 हेक्टेयर में फैला हुआ है. सरकार यहां आपको रहने के लिए फ्री ज़मीन देती है लेकिन एक साल के अन्दर आपको उस ज़मीन पर कंस्ट्रक्शन शुरू कर देना होता है नहीं तो दी गई ज़मीन खुद ब खुद सरकार के पास वापस चली जाती है।

मिशीगन, अमेरिका: इंडस्ट्रियल डवलपमेंट के लिए यहां की सरकार ने 'मिशीगन-25' नाम की योजना निकाली हुई है। इस योजना के तहत यहां आकर इंडस्ट्री लगाने वालों को फ्री ज़मीन दी जाती है। ये शहर 14 स्क्वायर मील में फैला है और इसकी आबादी सिर्फ 38 हज़ार के आस-पास है।

बीटराइस, अमेरिका: नेब्रास्का स्टेट की गेज काउंटी में मौजूद ये शहर बिग ब्लू नदी के नजदीक स्थित है। 10 स्क्वायर मील में फैले इस शहर में बसे इस शहर की कुल जनसंख्या सिर्फ 12 हज़ार के आस-पास है। सरकार ने साल 2010 में यहां फ्री ज़मीन देने की घोषणा की है।

अलास्का, अमेरिका: अलास्का भी अमेरिका का ही एक स्टेट है और ये एरिया के मामले में अमेरिका का सबसे बड़ा स्टेट भी है। हालांकि यहां की आबादी सिर्फ 7 लाख है जबकि ये साढ़े छह लाख स्क्वायर किलोमीटर में फैला है। इसका ज्यादातर हिस्सा बर्फ से ढका है जिसके चलते इसके कई शहरों में सरकार आकार बसने वालों को फ्री जमीन देती है।

कॉमडेन, अमेरिका: मेन स्टेट की नॉक्स काउंटी में मौजूद इस शहर की कुल आबादी सिर्फ 4 हज़ार के आस-पास है और ये 26 स्क्वायर मील में फैला हुआ है। शहर के विकास और आबादी को बढ़ाने के लिए सरकार ने यहां ज़मीन फ्री देने की घोषणा की है।

नई दिल्ली:-गूगल ड्राइव पर उपलब्ध ‘गूगल डॉक्यूमेंट’ माइक्रोसॉफ्ट वर्ड और नोटपैड से बेहतर विकल्प साबित हो सकता है। यहां फाइल डिलीट होने या फिर सेव न होने की वजह से कंटेंट खोने की दिक्कत नहीं आती। इतना ही नहीं गूगल डॉक्यूमेंट पर हिंदी में बोलकर टाइपिंग कर सकते हैं। इंटरनेट न होने पर इसकी फाइलों को ऑफलाइन भी देख सकते हैं।

वॉयस कमांड से करें टाइपिंग:-अगर आपकी टाइपिंग स्पीड कम है और किसी फाइल को जल्दी टाइप करना है तो इस वॉयस टाइपिंग फीचर से यूजर अपना समय और पैसे दोनों बचा सकते हैं। यह फीचर 40 भाषाओं को सपोर्ट कर रहा है। इनमें हिंदी भाषा भी शामिल है।

कैसे करें इस्तेमाल:-पहले गूगल ड्राइव को खोलें। गूगल ड्राइव पर जाने के लिए drive.google.com का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे खोलने के बाद नए डॉक्यूमेंट को खोलें। नए डॉक्यूमेंट को खोलने के लिए यूजर ‘माइ ड्राइव’ या लाल पट्टी पर लिखे ‘न्यू’ के विकल्प पर क्लिक कर सकते हैं। इस के बाद यूजर को गूगल डॉक्यूमेंट खोलना होगा। डॉक्यूमेंट खुलने के बाद ऊपर की ओर दिए गए ‘टूल’ के विकल्प पर क्लिक करें और ‘वॉयस टाइपिंग’ का चयन करें। इसके बाद कंप्यूटर या अन्य डिवाइस में माइक्रोफोन को कनेक्ट करके वॉयस टाइपिंग फीचर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

ऑफलाइन इस्तेमाल करें गूगल डॉक्यूमेंट:-गूगल ड्राइव को इस्तेमाल करने के लिए इंटरनेट की जरूरत पड़ती है लेकिन इसके कुछ फीचर ऑफलाइन भी इस्तेमाल किए जा सकते हैं। गूगल ड्राइव में मौजूद डॉक्यूमेंट को यूजर ऑफलाइन भी किसी के साथ शेयर कर सकते हैं। गूगल ड्राइव को प्ले स्टोर से फोन में डाउनलोड कर लें। अधिकतर एंड्रॉयड फोन में यह पहले से मौजूद होती है। गूगल ड्राइव में सेव फोटो और वीडियो को ऑफलाइन शेयर करने के लिए एप खोलें। एप में उस फोल्डर, फोटो या डॉक्यूमेंट पर टैप करें जिसे आप दूसरे लोगों को भेजना चाहते हैं। इसके बाद एक बॉक्स खुलेगा जिसमें तीन आइकन होंगे। इसमें अंतिम आइकन शेयर का है। इस पर क्लिक कर ब्लूटूथ, व्हाट्सएप, जीमेल, फेसबुक पर शेयर करने का विकल्प आएगा। डाटा शेयर करने के लिए यह लिंक भेजती है। दूसरा व्यक्ति इस लिंक पर क्लिक कर भेजे गए डॉक्यूमेंट को डाउनलोड कर सकता है।

नई दिल्ली;-गूगल अपने सर्च इंजन को लेकर एक बार फिर भारतीयों के निशाने में है। इस बार Google ने टॉप 10 क्रिमिनल की सूची में पीएम नरेंद्र मोदी को दिखाकर आफत मोल लिया है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने गूगल पर आपराधिक मामला चलाने की याचिका को स्वीकार कर लिया है। इसके अलावा कंपनी को नोटिस भी भेज दिया गया है। अब इस मामले की सुनवाई 31 अगस्त को होगी।इलाहाबाद हाईकोर्ट में वकील सुशील मिश्रा ने एक याचिका दायर की है कि जब कोई भी गूगल पर जाकर टॉप 10 क्रिमिनल सर्च करता है तो पीएम मोदी की तस्वीर सामने आती है। यह अत्यंत आपत्तिजनक है और गूगल के खिलाफ आपराधिक मामला चलाने की मांग की है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ने याचिका को मंजूर करते हुए गूगल, कंपनी के सीईओ और इंडिया हेड के खिलाफ नोटिस जारी कर दिया।याचिकाकर्ता का ये भी आरोप है कि जब उसने इस आपत्ति के बारे में अवगत कराते हुए गूगल से मोदी की तस्वीर हटाने के लिए कहा तो इस पर भी कंपनी ने कोई कदम नहीं उठाया। गौरतलब हो कि गूगल पहले ही पूरी दुनिया में आपत्तिजनक सर्च रिजल्ट पेश करने को लेकर विवादों में और न्यायिक मामलों उलझा है।

नई दिल्ली:-होंडा की जल्द आने वाली नई सीआर-वी टेस्टिंग के दौरान कैमरे में कैद हुई है। कार को अमेरिका के रेगिस्तानी क्षेत्र मोजावे में देखा गया है। संभावना है कि इस क्रॉसओवर/एसयूवी को अगले साल पेश किया जाएगा। अमेरिका में इसकी बिक्री साल 2017 के मध्य में शुरू होने की उम्मीद है। भारत में नई सीआर-वी को साल 2018 या उसके बाद उतारने की संभावना है।पावर स्पेसिफिकेशन की बात करें तो नई सीआर-वी में होंडा का पहला टर्बो पेट्रोल इंजन मिलेगा। 1.5 लीटर का वीटेक टर्बो इंजन 10वीं जनरेशन सिविक में भी दिया गया है।इसकी पावर 176 पीएस और टॉर्क 219 एनएम है। संभावना है कि नई सीआर-वी में इस इंजन के अलावा 1.6 लीटर का आई-डीटेक डीज़ल इंजन भी मिल सकता है। यह इंजन यूरोप में उपलब्ध है। वहीं भारत में भी सीआर-वी में दिया जा सकता है।नई सीआर-वी को होंडा सिविक के नए मॉड्यूलर चेसिस पर तैयार किया गया है। इस कारण यह पुराने वर्जन की तुलना में वजन में थोड़ी हल्की है। फीचर्स और स्टाइल के मामले में यह होंडा की नई सिविक और अकॉर्ड जैसी होगी। सीआर-वी में ऑल एलईडी हैडलाइट, टेल लैंप्स और लेटेस्ट होंडा लिंक इंफोटेंमेंट सिस्टम मिलेगा। 

नई दिल्ली;-होंडा मोटरसाइकिल एंड स्कूटर इंडिया लि़ (एचएमएसआई) के एक्टिवा स्कूटरों की श्रंखला ने हीरो मोटोकार्प की स्प्लेंडर श्रंखला को पछाड़ दिया है। काफी लंबे अरसे से स्प्लेंडर बाइक सबसे अधिक बिकने वाला दोपहिया वाहन था। इस साल के पहले छह महीने में एक्टिवा ने स्प्लेंडर को पीछे छोड़ दिया है। वाहन विनिर्माताओं के संगठन सियाम के आंकड़ों के हवाले से एचएमएसआई ने कहा है कि जनवरी-जून के दौरान एक्टिवा श्रंखला की बिक्री 13,38,015 इकाई रही, जबकि इस दौरान हीरो की स्प्लेंडर की बिक्री 12,33,725 इकाई रही।एचएमएसआई ने बयान में कहा, मोटरसाइकिलों के 17 साल के एकाधिकार को समाप्त करते हुए होंडा का एक्टिवा अब दोपहिया बिक्री में सबसे आगे हो गया है। निकटतम प्रतिद्वंद्वी से उसकी बिक्री करीब एक लाख इकाई अधिक रही है। एचएमएसआई जहां एक्टिवा श्रंखला के तहत तीन माडल एक्टिवा 3जी, एक्टिवा 125 तथा एक्टिवा आई की बिक्री करती है वहीं हीरो मोटोकार्प की स्प्लेंडर श्रंखला मंे सुपर स्प्लेंडर, स्प्लेंडर प्लस, स्प्लेंडर पीआरओ, स्प्लेंडर पीआरओ क्लासिक और स्प्लेंडर आई स्मार्ट हैं।

नई दिल्ली:-जर्मनी की लक्जरी कार निर्माता कंपनी मर्सडीज बेंज ने भारत में अपनी कारों या अन्य वाहनों में जैव-डीजल का प्रयोग करने से मना करते हुए कहा कि उसने कभी भी केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से इस तरह की किसी संभावना के लिए वादा नहीं किया। कंपनी के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी रोनाल्ड फोजर ने कहा, हमारी कई अवसरों पर मुलाकात हुई है।हमने उनके (गडकरी) और उनके…
इस्तांबुल:-तुर्की ने तख्तापलट के संदिग्ध साजिशकर्ताओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई में लगभग 9,000 अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया है। वायुसेना के पूर्व प्रमुख ने इस सप्ताहांत विफल हुए तख्तापलट के प्रयास की साजिश रचने की बात से इंकार किया है। पश्चिमी देश इस बात की आशंका जाहिर कर रहे हैं कि अंकारा शुक्रवार को तख्तापलट के लिए हुए नाटकीय प्रयास के जवाब में मौत की सजा को बहाल कर सकता…
नई दिल्ली - टोयोटा की नई इनोवा क्रिस्टा को ग्राहकों से अच्छी प्रतिक्रिया मिल रही है। मल्टी परपज़ व्हीकल(एमपीवी) सेगमेंट में यही इकलौती कार है जो सबसे ज्यादा सफल रही है। इसे कैब/टैक्सी सेगमेंट के अलावा बड़े परिवार की कार के रूप में भी पहचाना जाता है। वैसे तो इस सेगमेंट में इनोवा क्रिस्टा की टक्कर की कोई और कार तो नहीं है लेकिन महिन्द्रा की एक्सयूवी-500 काफी हद तक…
मुंबई - बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के प्रमोटर विजय माल्या की परेशानी अब और बढ़ गई है। मुंबई के उपनगर अंधेरी की मेट्रोपोलिटन अदालत ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) द्वारा दर्ज चेक बाउंस मामले में माल्या के खिलाफ शनिवार को गैर-जमानती वारंट जारी किया है। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); 7 मई को मजिस्ट्रेट एएस लाऔलकर ने माल्या को 16 जुलाई को अदालत में पेश होने का निर्देश दिया…

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें