कारोबार

कारोबार (428)

नई दिल्‍ली। भारत सरकार द्वारा यह नियम लागू है कि 20 से अधिक कर्मचारियों वाले प्रत्येक संगठन को अपने कर्मचारियों के लिए भविष्य निधि यानी EPF जमा करना होगा। ईपीएफ वह निधि है जिससे आप अपने रिटायरमेंट के बाद के जीवन को सुखपूर्वक बिता सकते हैं। इस प्रक्रिया में हर महीने कर्मचारी की बेसिक सैलरी से 12 फीसदी पीएफ काटा जाता है। यह हिस्सा कर्मचारी और कर्मचारी के संगठन दोनों की ओर से जमा किया जाता है। पीएफ की राशि पर 8.65 प्रतिशत की दर से ब्याज भी प्राप्त होता है। कई बार ऐसे मौके आते हैं जब पीएफ के रुपयों को रिटायरमेंट से पहले ही निकालने की जरूरत पड़ जाती है। तो आइए जानते हैं कि, रिटायरमेंट से पहले आप किस तरह यह पैसा निकाल सकते हैं।सबसे पहले आप EPFO की वेबसाइट पर जाएं और अपना UAN नंबर, पासवर्ड और कैप्चा डालकर लॉग इन करें। इसके बाद Manage पर क्लिक करें और अपना KYC चेक कर लें। इसके बाद Online Services पर जाकर CLAIM (FORM-31, 19&10C) पर क्लिक करें। यहां पर पूरे पैसे निकालने, लोन और एडवांस के लिए कुछ पैसा निकालने और पेंशन के लिए पैसा निकालने के ऑप्शन होते हैं। आज जिस ऑप्शन के लिए योग्य हैं वही ऑप्शन आपको दिखाई देगा।
कब निकाल सकते हैं EPF से पैसे?:-यदि ग्राहक दो महीने से बेरोजगार है तो 100 प्रतिशत निकासी कर सकता है। अपनी संतान, भाई/बहन या स्वयं की शादी हो तो कर्मचारी हिस्सेदारी का 50 प्रतिशत तक निकाल सकता है। हालांकि, इसके लिए ग्राहक को सेवा करते हुए 7 साल पूरे होने चाहिए। सात साल की सेवा पूरी करने के बाद ईपीएफ सदस्य स्वयं की या अपनी संतान की शिक्षा के लिए अपनी हिस्सेदारी का 50 प्रतिशत मय ब्याज तीन निकासी कर सकता है। वहीं पांच साल तक की सेवा पूरी कर चुके ईपीएप सदस्य कुछ शर्तों के साथ घर या फ्लैट खरीदने के लिए अग्रिम निधि के लिए भी आवेदन कर सकते हैं।अपनी आवश्यकता और योग्यता के अनुसार इसके बाद आप अपने क्लेम फॉर्म को ऑनलाइन भर दें। कुछ दिनों के बाद आपके रजिस्टर्ड बैंक अकाउंट में ईपीएफ की राशि क्रेडिट हो जाएगी।

नई दिल्ली। आज के समय में लगभग हर चीज के लिए इंश्योरेंस लिया जा सकता है। इसका फायदा यह होता है कि आपकी किसी भी कीमती चीज के आर्थिक नुकसान की भरपाई हो जाती है। आज हम होम लोन के लिए इंश्योरेंस लेने की बात कर रहे हैं। सभी जानते हैं कि होम लोन लंबे पीरियड के लिए होते हैं और ये दशकों में जाकर पूरे होते हैं। अगर ऐसी स्थिति में घर का मुखिया (जिस पर सारी आर्थिक जिम्‍मेदारी होती है) नहीं रहता है और बाकि घरवाले उस स्थिति में पैसा चुकाने लायक नहीं होते हैं तो उन्हें बहुत सी दिक्कतों का सामना एक साथ करना पड़ सकता है।इसके लिए सीधा उपाए टर्म इंश्योरेंस है। जब भी किसी के पास होम लोन हो तो उसे न सिर्फ एक टर्म पॉलिसी लेनी चाहिए, बल्कि होम लोन के री-पेमेंट अमाउंट को उस अमाउंट में शामिल करना चाहिए। मान लीजिए कि एक 35 वर्षीय पुरुष 25 साल के लिए 40 लाख रुपये का लाइफ कवर लेता है तो उसे 800 रुपये प्रति माह के हिसाब से प्रीमियम देना होता है। इंश्योरेंस प्रीमियम को होम लोन ईएमआई में जोड़कर ही मान लेना चाहिए। मान लीजिए आपके होम लोन की ईएमआई 36,000 रुपये प्रति माह है। इसमें 800 रुपये अधिक जोड़ लीजिए और टोटल ईएमआई 36,800 रुपये हो जाएगी।इसके अलावा लोन लेने वालों को कभी-कभी यह सलाह भी दी जाती है वह होम लोन का इंश्‍योरेंस करवाता चले। यह एक खास तरह की होम लोन री-पेमेंट इंश्योरेंस पॉलिसी है, जिसे विशेष रूप से इसी के लिए तैयार किया गया है। यह सामान्य टर्म प्लान की तरह काम करती है और कवर को कम करके अन्य लाभों के साथ काम करती है। इसमें लाइफ कवर शामिल नहीं रहता है। यह होम लोन के साथ जुड़ जाती है और मंथली बेस पर बाकी बचा मूल अमाउंट कम होता रहता है। जब आप इसकी कीमत और जानकारी के बारे में गणना करते हैं तो रेगुलर टर्म इंश्योरेंस इससे बेहतर साबित होता है।

नई दिल्ली। जब लोगों को पैसों की जरूरत होती है तो वह पर्सनल लोन के लिए अप्लाई करते हैं। वहीं कोई भी कर्जदाता आसानी से इसे अप्रूव नहीं करता है। कर्जदाता कर्ज देने से पहले बहुत सी बातों और नियमों पर ध्यान देता है तो उसके बाद कर्ज देने की प्रक्रिया शुरू की जाती है। कर्ज देने से पहले आवेदक का क्रेडिट स्कोर, मंथली इनकम, एफओआईआर, कर्मचारी की प्रोफाइल, जॉब स्टेब्लिटी और लोकेशन आदि चेक किया जाता है। आज हम आपको उन बातों के बारे में बता रहे हैं, जिनसे आप पर्सनल लोन के एप्लिकेशन को रिजेक्ट होने से रोक सकते हैं।
1. मंथली इनकम:-अगर आपके पास पर्याप्त बैंक बैलेंस नहीं है तो कर्जदाता आपकी लोन एप्लिकेशन रिजेक्ट कर सकता है। अधिकतर कर्जदाता न्यूनतम नेट मंथली इनकम को देखने के बाद आवेदक की लोन एप्लिकेशन विचार करते हैं और उसके बाद लोन एप्लिकेशन को मंजूर करते हैं।
2. लोन ईएमआई और क्रेडिट कार्ड रीपेमेंट का सही से भुगतान:-पर्सनल लोन के लिए आवेदन करने से पहले यह ध्यान दें कि आपने बीते समय में जो कर्ज लिया है उसका भुगतान ठीक प्रकार से किया है या नहीं। आवेदन का रिकॉर्ड ट्रैक किया जाता है ताकि यह देखा जाए कि क्रेडिट स्कोर ठीक है या नहीं है।
3. क्रेडिट कार्ड से न करें मैक्सिमम सीमा तक खर्च:-क्रेडिट कार्ड की लिमिट का 30 फीसद तक हमेशा बचा कर रखना चाहिए। इससे यह पता चलता है कि आवेदक ठीक प्रकार से लोन लेकर वापस चुका सकता है या नहीं। इसलिए कभी भी क्रेडिट कार्ड की अधिकतम सीमा तक खर्च न करें।
क्या न करें
1. लोन एप्लिकेशन में कभी भी किसी प्रकार की गलतियां न करें। बैंक किसी थर्ड पार्टी के जरिए एप्लिकेशन को वेरिफाई करेगी, जिससे यह पता चले कि कुछ गलत नहीं लिखा है और कुछ तथ्य छिपाए नहीं गए हैं।
2. कर्जदाता ऐसे लोगों को पर्सनल लोन देते हैं, जिनकी जॉब स्टेबल होती है। जो लोग बार-बार जॉब स्विच करते हैं ऐसे लोगों को लोन आसानी से नहीं मिल पाता है इसलिए करियर के दौरान बार-बार जॉब स्विच से बचना चाहिए क्योंकि इससे कर्जदाताओं पर निगेटिव इफेक्ट पड़ सकता है।
3. एक साथ कई लोन लेने की वजह से लोन एप्लीकेशन रिजेक्ट होने के चांस पैदा हो जाते हैं। कई बार लोगों को पैसों की जरूरत होती है, जिसके चलते वह अलग-अलग जगहों से लोन ले लेते हैं और इसके चक्कर में कर्ज के जाल में फंस जाते हैं और जिससे क्रेडिट स्कोर खराब हो जाता है।

नई दिल्‍ली। राष्‍ट्रीय राजधानी क्षेत्र में दूध की आपूर्ति करने वाली अग्रणी कंपनी मदर डेयरी (Mother Dairy) ने अपने ग्राहकों को झटका दिया है। मदर डेयरी ने शुक्रवार को दूध की कीमतों में बढ़ोतरी की घोषणा की है जो शनिवार से प्रभावी हो जाएगी। कंपनी ने कहा है कि किसानों से दूध खरीदने की लागत में बढ़ोतरी की वजह से यह निर्णय लिया गया है।मदर डेयरी ने सिर्फ पॉली पैक में मिलने वाले दूध की कमीतों में ही 2 रुपये प्रति लीटर तक की बढ़ोतरी की है। कंपनी का कहना है कि वेंडिंग मशीन से मिलने वाले दूध (टोकन मिल्‍क) की कीमतों में बढ़ोतरी नहीं की गई है।आपको बता दें कि इससे पहले अमूल ने भी दूध की कीमतों में दो रुपये प्रति लीटर का इजाफा किया था। मदर डेयरी ने कहा है कि कंपनी ने 25 मई 2019 से दिल्‍ली-एनसीआर में पॉली पैक वाले दूध की कीमतों में बढ़ोतरी का निर्णय किया है। एक लीटर के पॉली पैक वाले दूध की कीमत में एक रुपये और 500 मिली के पॉली पैक पर दो रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई है।इसका मतलब है कि अगर शनिवार से आप 500 मिली के दो पैक खरीदेंगे तो आपको दो रुपये अधिक देने पड़ेंगे जबकि एक लीटर दूध का पॉली पैक आपके लिए सिर्फ एक रुपये महंगा पड़ेगा।

नई दिल्‍ली। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (CBDT) ने अपनी एक अधिसूचना में कहा है कि सालाना पांच लाख रुपये तक की कर योग्य आय वाले वरिष्ठ नागरिक अब बैंकों और डाकघरों में जमा राशि पर मिलने वाली ब्याज आय पर स्रोत पर कर कटौती (TDS) से छूट के लिये फॉर्म 15H जमा करवा सकते हैं। इससे पहले स्रोत पर कर कटौती (TDS) की यह सीमा इससे पहले ढाई लाख रुपये तक थी। CBDT ने ने अब फॉर्म 15H में संशोधन को लेकर अधिसूचना जारी कर दी है। यह संशोधन बजट में की गई घोषणा को अमल में लाने के लिए है। वर्ष 2019- 20 के बजट में पांच लाख रुपये तक की कर योग्य आय वाले व्यक्तिगत करदाताओं को कर से पूरी तरह छूट दी गई है। इसका लाभ तीन करोड़ मध्यम वर्ग के करदाताओं को मिलेगा। CBDT के संशोधन में कहा गया है कि आयकर कानून 1961 की धारा 87A के तहत दी गई छूट को ध्यान में रखते हुए जिन करदाताओं की कर देनदारी शून्य है बैंक और वित्तीय संस्थान अब ऐसे करदाताओं से फॉर्म 15H स्वीकार कर सकते हैं। साठ साल से ऊपर आयु के वरिष्ठ नागरिकों को वित्त वर्ष की शुरुआत में फार्म 15H भरकर देना होता है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनकी ब्याज आय पर कोई कर कटौती नहीं की जा सके। गौरतलब है कि 2019-20 के बजट में 5 लाख रुपये सालाना की आय रखने वालों को आयकर की धारा 87A के तहत कर छूट को 2,500 रुपये से बढ़ाकर 12,500 रुपये कर दिया गया था। इसमें 5 लाख रुपये तक की कर योग्य आय वाले कर देनदारी से मुक्त हो गए।

 

अब जर्मनी की कंपनी भारत में लोगों को PAN कार्ड जारी होने में मददगार साबित होगी। जर्मन पेमेंट्स कंपनी वायरकार्ड (Wirecard) ने बुधवार को कहा कि वह भारत के साथ टैक्‍स आइडेंटिटी कार्ड्स (पैन कार्ड) जारी करने की प्रक्रिया को और सरल बनाने के लिए काम करेगी। आपको बता दें कि बैंक अकाउंट खोलने, मनी ट्रांसफर या बिजनेस लेनदेन को पूरा करने के लिए PAN कार्ड जरूरी है। सरकारी कंपनी यूटीआई इन्‍फ्रास्‍ट्रक्‍चर टेक्‍नोलॉजी एंड सर्विसेज (UTIITSL) के साथ हुए वायरकार्ड की डील का उद्देश्‍य पैन कार्ड की वितरण व्‍यवस्‍था का विस्‍तार करना है।आपको बताते चलें के लगभग 130 करोड़ की आबादी वाले भारत में ज्‍यादातर लोग अनौपचारिक अर्थव्‍यवस्‍था में जीते और काम करते हैं। वायरकार्ड, जिसकी मौजूदगी पहले से ही भारत में है, ने कहा है कि 350 शहरों में उसके 1,500 रिटेल एजेंट का नेटवर्क है। यह कंपनी पैन कार्ड के लिए लोगों से जरूरी दस्‍तावेज स्‍वीकार करेगी और स्‍कैन करेगी।ऐसा अनुमान जताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार एक बार फिर से केंद्र में बनेगी। कल लोकसभा चुनाव के नतीजे घोषित होंगे। प्रधानमंत्री मोदी वित्‍तीय समावेशन (फाइनेंशियल इन्‍क्‍लूजन) का व्‍यापक तौर पर विस्‍तार करना चाहते हैं और वह पहले ही यूनिवर्सल बायोमेट्रिक आइडेंटिटी कार्ड स्‍कीम लॉन्‍च कर चुके हैं।म्‍यूनिख की कंपनी वायरकार्ड की स्‍थापना 1999 में हुई थी। यह एक डिजिटल पेमेंट्स प्‍लैटफॉर्म संचालित करती है जो मर्चेंट्स के लिए पेमेंट की देखरेख करती है और उपभोक्‍ताओं को वास्‍तविक और वर्चुअल पेमेंट्स कार्ड जारी करती है।

नई दिल्ली। भारतीय डाक (पोस्ट ऑफिस) विभिन्न प्रकार की डाक सेवाओं के साथ कई तरह की बैंकिंग सर्विस भी मुहैया करवाता है। पोस्ट ऑफिस में सावधि जमा, पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट सेविंग स्कीम समेत 9 प्रकार की स्मॉल सेविंग स्कीम की पेशकश की जाती है जो कि सरकारी की तरफ से प्रायोजित निवेश स्कीम हैं। भारतीय डाक के देश भर में 1.5 लाख से अधिक पोस्ट ऑफिस मौजूद हैं, जहां…
नई दिल्‍ली। कर्मचारी भविष्‍य निधि संगठन (EPFO) के पेरोल डेटा के अनुसार इस साल मार्च महीने में 8.14 लाख नौकरियों का सृजन हुआ है। यह आंकड़ा इसी साल फरवरी में 7.88 लाख नौकरियों के सृजन के मुकाबले कहीं अधिक है। ईपीएफओ के आंकड़ों के अनुसार वित्‍त वर्ष 2018-19 में लगभग 67.59 लाख नौकरियों का सृजन हुआ था। नौकरियों का यह आंकड़ा कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) की योजनाओं में शामिल…
फ्रैंकफर्ट। अब जर्मनी की कंपनी भारत में लोगों को PAN कार्ड जारी होने में मददगार साबित होगी। जर्मन पेमेंट्स कंपनी वायरकार्ड (Wirecard) ने बुधवार को कहा कि वह भारत के साथ टैक्‍स आइडेंटिटी कार्ड्स (पैन कार्ड) जारी करने की प्रक्रिया को और सरल बनाने के लिए काम करेगी। आपको बता दें कि बैंक अकाउंट खोलने, मनी ट्रांसफर या बिजनेस लेनदेन को पूरा करने के लिए PAN कार्ड जरूरी है। सरकारी…
नई दिल्‍ली। जेट एयरवेज के शेयरों में उछाल देखने को मिला है। जेट एयरवेज के शेयरों में यह उछाल हिंदुजा ग्रुप द्वारा जेट में इन्वेस्टमेंट करने की सहमति देने के बाद आया है। बुधवार को खबर लिखे जाते समय जेट एयरवेज के शेयर में करीब 7 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिल रही थी। खबर लिखी जाने तक बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) पर एयरलाइन का शेयर 7.16 फीसदी की बढ़त…
Page 1 of 31

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें