कारोबार

कारोबार (1861)

नई दिल्‍ली। Covid 19 के कारण बहुत से लोगों का काम-धंधा छूट गया है। इसलिए केंद्र सरकार ने प्रवासी नागरिकों को Ration मुहैया कराने के लिए 'वन नेशन वन राशन कार्ड' (One Nation One Ration card) योजना शुरू की है। इसके तहत आर्थिक तंगी की मार झेल रहे या गरीब लोगों को सरकार बहुत ही कम कीमत में गेंहू, चावल जैसे जरूरी अनाज मुहैया कराती है। इस योजना का लाभ कोई भी राशन कार्ड धारक ले सकता है।सरकार ने राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के अंतर्गत वन नेशन-वन राशन कार्ड योजना देशभर में लागू की थी। इसमें राशन कार्ड धारक देश में कहीं से भी राशन ले सकता है। इस नेटवर्क में देश की लगभग 5.25 लाख राशन दुकानें शामिल हैं।

 
क्‍या है व्‍यवस्‍था;-यह व्यवस्था हर स्थान पर राशन उपलब्ध कराती है, जो बायोमैट्रिक सिस्टम पर आधारित है। इससे राशन कार्ड धारक की पहचान उसकी आंख और हाथ के अंगूठे से होती है। National Food Security Act के अनुसार 65 साल से ज्‍यादा के लोग और दिव्यांगों को उनके घर पर राशन पहुंचाया जा रहा है।

Mera Ration app Download;-वन नेशन वन राशन कार्ड (one nation one ration card) देशभर में लागू करने से पहले सरकार ने मेरा राशन ऐप लांच (Mera Ration app Download) किया था, जिस पर चेक कर सकते हैं कितना राशन मिलेगा।

32 राज्‍य जुड़े:-राशन कार्ड योजना से देशभर के 32 राज्य और केंद्र शासित प्रदेश जुड़ चुके हैं। राशन कार्ड धारक अगर दूसरे शहर जा रहा है तो वह मेरा राशन ऐप पर खुद रजिस्टर करके बता सकता है। इससे उससे उस राज्‍य में राशन मिल जाएगा। यही नहीं प्रवासी लाभार्थियों को इस ऐप के जरिए पता करना आसान होगा कि उनके आसपास PDS के तहत संचालित राशन की कितनी दुकानें हैं और कौन सी दुकान उनके सबसे ज्यादा करीब है।

Aadhaar-Ration Card Linking

uidai.gov.in पर जाएं।

'Start Now' के ऑप्शन पर क्लिक करें।

आपको यहां पर अपना एड्रेस भरना होगा।

यहां पर 'Ration Card Benefit' के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।

आधार कार्ड नंबर, राशन कार्ड नंबर, ई-मेल एड्रेस और मोबाइल नंबर आदि भरना होगा।

अब आपके रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा।

OTP भरते ही आपकी स्क्रीन पर प्रोसेस कम्पलीट होने का मैसेज दिखाई देने पड़ेगा।

आधार वेरीफाई होने के बाद आपके राशन कार्ड से लिंक हो जाएगा।

नई दिल्ली। Walmart Inc की स्वामित्व वाली भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट (Flipkart) निवेशकों से तीन बिलियन डॉलर जुटाने के लिए बातचीत कर रही है। इन निवेशकों में जापान का सॉफ्ट बैंक ग्रुप कॉर्प (SoftBank Group Corp) एवं कई अन्य सोवरेन वेल्थ फंड्स शामिल हैं। ब्लूमबर्ग न्यूज ने सोमवार को यह रिपोर्ट दी। इस स्टार्टअप कंपनी का लक्ष्य अपने वैल्यूएशन को बढ़ाकर 40 बिलियन डॉलर करना है। यह कंपनी सिंगापुर की GIC Pte, कनाडा पेंशन प्लान इंवेस्टमेंट बोर्ड और अबूधाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी के साथ बातचीत कर रही है। इस रिपोर्ट में इस मामले से अवगत लोगों के हवाले से यह जानकारी दी गई है।इस रिपोर्ट में कहा गया है कि सॉफ्ट बैंक अपने Vision Fund II के तहत फ्लिपकार्ट में 300 मिलियन डॉलर से 500 मिलियन डॉलर का निवेश कर सकती है।फ्लिपकार्ट, सॉफ्टबैंक और अबूधाबी इंवेस्टमेंट अथॉरिटी ने इस बारे में रायटर द्वारा मांगी गई टिप्पणी पर तत्काल कुछ नहीं कहा है।सॉफ्टबैंक ने 2018 में ई-कॉमर्स कंपनी में अपनी 20 फीसद के आसपास की हिस्सेदारी Walmart को बेच दी थी।भारतीय ई-कॉमर्स कंपनी अमेरिका में पब्लिक लिस्टिंग की संभावनाएं तलाश रही है। इस विषय से अवगत सूत्रों ने मार्च में रायटर को इस बात  जानकारी दी थी।रायटर ने सितंबर में अपनी एक एक्सक्लूसिव रिपोर्ट में कहा था कि बेंगलुरु स्थित फ्लिपकार्ट 2021 की शुरुआत में पब्लिक लिस्टिंग की तैयारी में है। इससे कंपनी का मूल्यांकन 50 बिलियन डॉलर तक पहुंच सकता है।

Bank में काम रहे और रिटायर हो चुके Employees के लिए शानदार खबर है। खासकर वे जो 1 नवंबर 2017 को या उसके बाद नौकरी में आए हैं या रिटायर हुए हैं और पेंशन पाने के हकदार हैं। उनकी सैलरी, पेंशन, Dearness Relief, मिनिमम पेंशन और दूसरे भत्‍तों में रिवीजन हुआ है। Covid Mahamari के बीच यह राहत देने वाली बात है।

Basic Pension:-Basic Pension को रिवाइज कर दिया गया है। यह 1 नवंबर 2017 से 3985 रुपए हो गई है। इसमें बढ़ोतरी में पार्ट टाइम कर्मचारियों को कोई फायदा नहीं होगा।

Family Pension:-जो कर्मचारी 1 नवंबर 2017 को या उसके बाद रिटायर हुए हैं, उनकी Family Pension 3 तरह से बनेगी।

1; 15880 रुपए तक पेंशन पाने वाले:-Pay का 30 फीसद बेसिक फैमिली पेंशन होगी यानि 3985 रुपए/मंथली से कम नहीं होनी चाहिए।

2; 15,881 से 31,160 पेंशन पाने वाले:-Pay का 20 फीसद बेसिक फैमिली पेंशन होगी यानि 4900 रुपए से कम नहीं होनी चाहिए।

 

3; 31,760 से ज्‍यादा पेंशन पाने वाले:-Pay का 15 फीसद बेसिक फैमिली पेंशन होगी। Basic और अतिरिक्‍त फैमिली पेंशन 6365 रुपए से कम नहीं होगी और 13280 रुपए से ज्‍यादा नहीं।

DEARNESS RELIEF;-बैंकरों की DEARNESS RELIEF ऑल इंडिया कंज्‍यूमर प्राइस इंडेक्‍स (AICPI) के बेसिस पर तय होगा। इसके लिए 6352 प्‍वाइंट को आधार मानकर चलें।

नई दिल्ली। Personal loan नकदी संकट के समय हमारे काम आता है। कोरोना महामारी के मौजूदा दौर में बड़े खर्चों को पूरा करने में इसकी जरूरत पड़ रही है। हालांकि, ध्यान रखें कि पर्सनल लोन पर ब्याज दर (Interest Rate) अधिक होती है, इसलिए कोई दूसरा विकल्प नहीं बचने पर ही इसे लेना चाहिए। ग्राहकों को Loan लेने से पहले मार्केट का सर्वे अवश्य कर लेना चाहिए। कई बैंक पर्सनल लोन पर कम ब्याज लेते हैं, ग्राहकों को इसका फायदा उठाना चाहिए। आज हम आपको पर्सनल लोन से जुड़ी कुछ अहम बातें बताने जा रहे हैं, जो आपके लिए काफी फायदेमंद हो सकती हैं।

क्रेडिट स्कोर;-लोन के मामले में क्रेडिट स्कोर (Credit Score) काफी महत्वपूर्ण होता है। एक अच्छा क्रेडिट स्कोर ग्राहक को आसानी से कम ब्याज दर वाला पर्सनल लोन दिला सकता है। 750 और इससे अधिक का क्रेडिट स्कोर एक अच्छी पर्सनल लोन डील की संभावना काफी बढ़ा देता है। ग्राहक अपने क्रेडिट युटिलाइजेशन रेशियो को 30 फीसद की सीमा में रखकर अच्छा क्रेडिट स्कोर बनाए रख सकते हैं।

ऑफर्स;-कई बैंक्स और वित्तीय संस्थान Personal loan के लिए ऑफर्स की पेशकश करते हैं। इन ऑफर्स में पर्सनल लोन के साथ ग्राहक को कई फायदे दिये जाते हैं, इनमें ब्याज दर में कुछ छूट भी शामिल है। ग्राहक को पर्सनल लोन लेने से पहले मार्केट में उपलब्ध ऐसे ऑफर्स के बारे में जानकारी अवश्य कर लेनी चाहिए। साथ ही बाजार में उपलब्ध विभिन्न पर्सनल लोन्स की ब्याज दरों की तुलना कर लेनी चाहिए। जो बैंक या वित्तीय संस्थान सबसे कम ब्याज दर के साथ लोन थे, उसे ही चुनना चाहिए।

विश्वसनीयता;-पर्सनल लोन में ग्राहक की विश्वसनीयता काफी मायने रखती है। ग्राहक की विश्वसनीयता जितनी ज्यादा होगी, उसे उतनी आसानी से अपनी मनपसंद का लोन मिल सकता है। लोकप्रिय संस्थानों और मल्टीनेशनल कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों को अपनी मनमाफिक लोन डील्स मिलने में आसानी होती है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि बड़ी और लोकप्रिय कंपनियों में काम करने वाले लोगों की नौकरी में स्थायित्व अधिक होता है, जिससे यह समझा जाता है कि वे समय पर अपना लोन चुकाने में अधिक समर्थ हैं।

ग्राहक की भुगतान हिस्ट्री;-ग्राहक की भुगतान हिस्ट्री अच्छी होना लोन लेते समय फायदेमंद साबित होता है। इसलिए हमेशा अपने क्रेडिट कार्ड्स के बिल का पूरा भुगतान करने की कोशिश करनी चाहिए और हर महीने अपना कर्ज चुका देना चाहिए। अगर ग्राहक द्वारा कोई अन्य लोन भी पहले से लिया हुआ है, तो उसकी ईएमआई (EMI) नियमित रूप से जमा होनी चाहिए। इससे ग्राहक को नया लोन लेने में काफी सहूलियत होगी। साथ ही उसे कम ब्याज दर वाला लोन मिलने की संभावना भी बढ़ जाती है।

इस तरह लें पर्सनल लोन;-टैक्स एवं निवेश एक्सपर्ट बलवंत जैन के अनुसार, आपका जिस बैंक में खाता हैं, आपको वहां एप्रोच करना चाहिए, तो अधिक आसान होगा। क्योंकि वहां बैंक के पास आपके वित्तीय लेनदेनों की हिस्ट्री होती है, इससे बैंक को प्रॉसेस में समय कम लगता है। दूसरा यह कि आपकी बेसिक केवाईसी पूरी होनी चाहिए। आपके इनकम दस्तावेज जैसे फॉर्म नंबर 16, आईटीआर की कॉपी आदि आपको उपलब्ध करानी होती है, जिससे आपकी पुनर्भुगतान क्षमता का पता चलता है।

नई दिल्‍ली। Labour ministry ने कोविड-19 महामारी (Covid 19) के बीच कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ या EPFO) और कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ईएसआईसी या ESIC) की सामाजिक सुरक्षा योजनाओं के जरिए कर्मचारियों के लिए अतिरिक्त सहूलियतों की घोषणा की है। इनमें Covid 19 से मरने वाले ESIC के बीमा धारकों के आश्रितों के लिए पेंशन की सुविधा और ईपीएफओ द्वारा संचालित समूह बीमा योजना - कर्मचारी जमा सम्बद्ध बीमा योजना (EDLI) के तहत सुनिश्चित 6 लाख रुपये की रकम को बढ़ाकर 7 लाख रुपये करना शामिल है।मंत्रालय के मुताबिक मिनिस्‍ट्री ने कोविड-19 महामारी की वजह से बढ़ती मौत की घटनाओं को देखते हुए कर्मचारियों में अपने परिवार के लोगों की सलामती को लेकर भय और चिंता से निपटने के लिए ESIC और EPFO स्कीम के जरिए कर्मचारियों के लिए अतिरिक्त बेनिफिट की घोषणा की है। इसमें कहा गया कि नियोक्ताओं पर किसी भी तरह का अतिरिक्त खर्च डाले बिना कर्मचारियों को बेहतर सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के उपाय किए गए हैं।

फिलवक्‍त फायदे की बात;-फिलवक्‍त ESIC बीमाधारक की मृत्यु या शारीरिक अशक्तता की स्थिति में उसके पति/पत्नी और विधवा मां को जीवन पर्यंत और बच्चों को 25 साल उम्र तक उस कर्मचारी के औसत दैनिक वेतन के 90 प्रतिशत हिस्से के बराबर पेंशन दी जाती है। कर्मचारी की बेटी होने की स्थिति में उसे उसकी शादी तक यह फायदा मिलता है।

आश्रित हकदार होंगे;-ESIC योजना के तहत बीमा धारक या बीमित व्यक्ति (आईपी) के परिवारों की सहायता करने के लिए, यह फैसला किया गया है कि परिवार के सभी आश्रित सदस्य, जो ईएसआईसी के ऑनलाइन पोर्टल में कोविड बीमारी के निदान और इस रोग के कारण बाद में मौत से पहले पंजीकृत हैं, वे भी काम के दौरान मरने वाले बीमित व्यक्तियों के आश्रितों को प्राप्त होने वाले लाभ और इसे समान स्तर पर ही हासिल करने के हकदार होंगे।

दो शर्त क्या हैं?;-इसके लिए दो शर्तें पूरी करनी होंगी। पहली कि आईपी को ESIC ऑनलाइन पोर्टल पर कोविड रोग के निदान और इसके चलते होने वाली मौत से कम से कम तीन महीने पहले पंजीकृत होना चाहिए। दूसरी कि बीमित व्यक्ति निश्चित तौर पर वेतन के लिए नियोजित होना चाहिए और मृतक बीमित व्यक्ति के संदर्भ में कोविड रोग का पता चलने, जिससे मौत हुई हो, ठीक पूर्ववर्ती एक साल के दौरान कम से कम 78 दिन का अशंदान होना चाहिए।

शर्तें पूरा करने पर मिलेगा फायदा:-बीमित व्यक्ति, जो पात्रता की शर्तों को पूरा करते हैं और कोविड बीमारी के कारण उनकी मृत्यु हो गई है, उनके आश्रित अपने जीवन के दौरान बीमित व्यक्ति के औसत दैनिक वेतन का 90 फीसदी मासिक भुगतान प्राप्त करने के हकदार होंगे। यह योजना 24 मार्च, 2020 से दो वर्ष की अवधि के लिए प्रभावी होगी।

EPFO की योजना;-ईपीएफओ की कर्मचारी जमा सहबद्ध बीमा योजना (ईडीएलआई) के तहत इस योजना के सदस्य की मौत होने पर उनके परिवार के सभी जीवित आश्रित सदस्य ईडीएलआई के लाभों को हासिल करने के योग्य होंगे।

ग्रेच्युटी का फायदा;-इस योजना के तहत, कर्मचारी की मौत के मामले में दिए गए Benefit का विस्तार किया गया है। अब ग्रेच्युटी के लिए न्यूनतम सेवा की जरूरत नहीं है, पारिवारिक पेंशन का भुगतान EPF और एमपी अधिनियम के प्रावधानों के अनुसार किया जा रहा है! कर्मचारी के बीमार होने और कार्यालय न आने की स्थिति में साल में 91 दिनों के लिए बीमारी लाभ के रूप में कुल मजदूरी का 70 फीसदी का पेमेंट किया जाता है।

बीमा रकम बढ़ाई;-मंत्रालय द्वारा जारी एक अधिसूचना में कुछ संशोधन किए गए हैं। पहले संशोधन के तहत मृतक कर्मचारी के परिजनों को मिलने वाली अधिकतम लाभ राशि को छह लाख से बढ़ाकर सात लाख कर दिया गया है। दूसरे संशोधन के तहत मृतक कर्मचारियों के पात्र परिवार के सदस्यों को 2.5 लाख रुपये का न्यूनतम आश्वासन लाभ मिलेगा, जो अपनी मौत से पहले एक या अधिक प्रतिष्ठानों में 12 महीने की निरंतर अवधि के लिए सदस्य थे। मौजूदा प्रावधान में एक प्रतिष्ठान में 12 महीने तक लगातार रोजगार का प्रावधान है।

नई दिल्‍ली। 10 लाख से ज्‍यादा Indian Railways के कर्मचारियों के फायदे की खबर है। उनके एसोसिएशन AIRF (ALL INDIA RAILWAYMEN’S FEDERATION) ने मांग की है कि Privilege/Complementary Pass और PTO की तारीख को 31 अक्‍टूबर 2021 तक बढ़ाया जाए। क्‍योंकि Covid mahamari के कारण कई जगहों पर Lockdown लगा है। इससे लोगों की आवाजाही रुक गई है। लोगों को अपनी यात्रा भी कैंसिल करनी पड़ी है। इसलिए पास की डेडलाइन बढ़ानी चाहिए।AIRF के महासचिव शिव गोपाल मिश्रा ने कहा कि Privilege/Complementary Pass और PTO की तारीख आगे बढ़ने से रेलवे कर्मचारी इसे दशहरा और दीपावली पर इस्‍तेमाल कर लेंगे। इस मामले में त्‍वरित फैसला लेने की जरूरत है। Indian railways अगर इस फैसले को मान लेता है तो इससे लाखों रेलवे कर्मचारियों को फायदा होगा। AIRF ने ऐसा लेटर रेल मिनिस्‍ट्री को भेजा है।

 
Appraisal पर भी Covid की मार:-यही नहीं Central Government employees के Appraisal पर भी Covid की मार पड़ी है। Coronavirus Mahamari के कारण उनका Annual Appraisal FY 2020-21 आगे बढ़ गया है। DoPT ने कहा है कि CSS, CSSS और CSCS काडर के Group A, B और C की Annual Performance Assessment Report (APAR) जमा करने की तारीख 31 दिसंबर 2021 तक आगे बढ़ा दी गई है। ऐसा Covid Mahamari के कारण हुआ है। आदेश के मुताबिक जो लोग 28 फरवरी 2021 को रिटायर हो चुके हैं, उनको इसका फायदा मिलेगा।

प्रमोशन भी टला:-बता दें कि सरकार ने इससे पहले भी 2019-20 के लिए केंद्रीय कर्मचारियों के APAR की मियाद को बढ़ा दिया था। इसे बढ़ाकर मार्च 2021 तक कर दिया गया था. पहले इसे 31 दिसंबर 2020 तक पूरा करना था। डिपार्टमेंट ऑफ पर्सनल ट्रेनिंग (DoPT) के ऑर्डर के मुताबिक, मौजूदा स्थितियों को देखते हुए APAR  को पूरा करने की मियाद बढ़ा दी गई है। 

इंक्रीमेंट का यह पहला कदम:-आदेश के मुताबिक, सभी कर्मचारियों को खाली फॉर्म या ऑनलाइन फॉर्म लेने का काम पूरा करना था। केंद्रीय कर्मचारियों के लिए इंक्रीमेंट प्रोसेस का यह पहला कदम होता है। लॉकडाउन के कारण यह काम पूरा नहीं हुआ है। इसलिए सरकार ने मियाद को बढ़ाकर 31 दिसंबर कर दिया है।

31 दिसंबर तक टला प्रोसेस;-रिपोर्टिंग ऑफिसर को 30 जून तक Self Appraisal जमा करना होता है। इसके बाद 31 दिसंबर तक यह अप्रेजल की प्रक्रिया पूरी करनी है। कर्मचारी नेताओं की मानें तो Lockdown के दौरान दफ्तर में रोटेशन शिफ्ट चल रही है। इस कारण अधिकारी अप्रेजल प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं। सभी मंत्रालयों को कोविड-19 से निपटने के लिए कहा गया है और अपने कर्मचारियों की हिफाजत करने की ताकीद की गई है। इसलिए परफॉर्मेंस रिव्यू में देरी हो रही है।

नई दिल्‍ली। Monthly Income के तौर पर Post Office की मंथली इनकम स्‍कीम (MIS) भी अच्‍छा प्‍लान है। इस स्‍कीम में Investment पर आपको हर महीने रिटर्न मिलता है। इसमें सिंगल या Joint अकाउंट खोल सकते हैं और एकमुश्त रकम जमा कर सकते हैं, जिस पर हर महीने ब्‍याज मिलेगा। Single Account में 4.5 लाख रुपए तक जमा कर सकते हैं। Joint Account में निवेश की रकम डबल हो जाती…
नई दिल्ली। वित्तीय लेनदेन में पैन कार्ड (Pan card) काफी अहम और जरूरी दस्तावेज है। पचार हजार रुपये से अधिक की लेनदेन के लिए पैन कार्ड आवश्यक है। इसके अलावा कई सारे सरकारी कार्यों में पैन कार्ड की जरूरत होती है। अगर आपको अचानक से पैन कार्ड की जरूरत पड़ गई है और आपने अभी तक पैन कार्ड नहीं बनवाया है, तो चिंता की कोई बात नहीं है। आप चंद…
नई दिल्ली। PM Kisan Samman nidhi Yojana की आठवीं किस्त PM Modi द्वारा जारी कर दी गई है। अधिकतर लाभार्थी किसानों के खातों में 2,000 रुपये की यह किस्त पहुंच चुकी है और जल्द ही सभी लाभार्थी किसानों के खातों में पहुंच जाएगी। आप पीएम किसान की आधिकारिक वेबसाइट https://pmkisan.gov.in/ पर जाकर PM Kisan योजना की इस 8वीं किस्‍त (PM Kisan 8th installment) का स्टेटस चेक कर सकते हैं।PM Kisan…
नई दिल्ली। सरकारी कंपनी एनबीसीसी ने अपनी बोली ठुकराए जाने के बाद जेपी इन्फ्राटेक लिमिटेड (जेआइएल) के इंसॉल्वेंसी रिजॉल्यूशन प्रोफोशनल (आइआरपी) के वैधानिक क्षेत्राधिकार पर सवाल उठाए हैं। कंपनी ने एनबीसीसी के लिए अपनी बोली पर वोटिंग कराने की भी मांग की है। जेआइएल के आइआरपी ने एनबीसीसी की बोली को चुनिंदा अनुपालन में विफल बताते हुए अयोग्य घोषित कर दिया था।आइआरपी को लिखे पत्र में एनबीसीसी ने जेपी इन्फ्रा…
Page 1 of 133

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">