कारोबार

कारोबार (3076)


नई दिल्ली - अमेरिकी प्रशासन एच1बी वीजा के तहत रोजगार समेत अन्य नियमों में बदलाव करने जा रहा है। अगर इन नियमों में बदलाव किया जाता है, तो इससे भारत की आईटी कंपनियों पर बुरा असर पड़ेगा। इसके साथ ही उन छोटी कंपनियों पर भी बुरा असर पड़ेगा, जिनकी कमान भारतीय-अमेरिकी लोगों के हाथों में है।
एच1बी वीजा विशेष तरह का वीजा है, जिसकी मदद से अमेरिकी कंपनियां खास तरह की विशेषज्ञता वाले विदेशी कर्मचारियों को नौकरी पर रखती हैं। इस वीजा की मदद से अमेरिकी टेक कंपनियां भारत और चीन जैसे देश से हर साल हजारों की संख्या में कर्मचारियों को नौकरी पर रखती हैं।
डिपार्टमेंट ऑफ होमलैंड सिक्योरिटी (डीएचएस) ने बुधवार को कहा कि जनवरी 2019 तक यूएस सिटीजनशिप एंड इमाइग्रेशन सर्विसेज की योजना नए प्रस्ताव को अमली जामा पहनाने की है। विभाग के मुताबिक वीजा के नियमों में किया जा रहा बदलाव ज्यादा प्रतिभावान विदेशी नागरिकों को मौका देने के लिए है।
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के मुताबिक नियमों में इसलिए बदलाव किया जा रहा है क्योंकि उन्हें लगता है कि मौजूदा नियमों की वजह से अमेरिकी कंपनी स्थानीय लोगों को नौकरी पर नहीं रखकर विदेशी लोगों से काम करवा रही हैं।
ट्रंप ने साफ तौर पर कहा था कि वह एच 4 वीजा होल्डर्स को जारी किए गए वर्क परमिट को वापस लेंगे। सरकार के इस फैसले से आम तौर पर भारतीय-अमेरिकी मूल के लोग प्रभावित होंगे। इसके साथ ही भारतीय आईटी कंपनियों की सेहत पर इसका खासा असर पड़ेगा, जो ओबामा के समय से अब तक सबसे बड़े लाभार्थी रहे हैं।


नई दिल्ली - यस बैंक के सीईओ राणा कपूर को अपना पद चार महीने में ही छोड़ना पड़ेगा। भारतीय रिजर्व बैंक ने कपूर के कार्यकाल बढ़ाने के चल रहे कयासों पर विराम लगाते हुए साफ कर दिया है कि 1 फरवरी 2019 तक बैंक को राणा कपूर की जगह दूसरी नियुक्ति करनी होगी। आरबीआई ने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को जानकारी देते हुए यह बताया। आपको बता दें कि आरबीआई इससे पहले एक्सिस बैंक की शिखा शर्मा के मामले में भी इसी तरह की सख्ती दिखा चुका है।
शेयरहोल्डर कार्यकाल बढ़ाने की कर रहे थे मांग
भारतीय रिजर्व बैंक के इस फैसले से उन शेयरहोल्डर्स को झटका लगा है, जो मांग कर रहे थे कि यस बैंक के सीईओ के तौर पर राणा कपूर के कार्यकाल को कम से कम तीन साल के लिए बढ़ाया जाए लेकिन ऐसा नहीं हो सका। आरबीआई ने बैंकिंग अप्वाइंटिंग कमेटी को कह दिया है कि वो राणा कपूर की जगह किसी और के नियुक्ति की प्रोसेस दिसंबर मध्य तक पूरा कर लें। ताकि समय से राणा कपूर की जगह दूसरे की नियुक्ति हो सके।
13 साल में 28 फीसदी की ग्रोथ
राणा कपूर पिछले 13 सालों से यस बैंक से जुड़े हुए थे। उन्होंने साल 2004 में अशोक कपूर के साथ मिलकर यस बैंक की शुरुआत की थी। आपको बता दें कि राणा कपूर के नेतृत्व में बैंक ने बीते 13 साल में 28 फीसदी की सालाना ग्रोथ दर्ज की है।
बैंकिंग सीईओज पर RBI की सख्ती जारी
ऐसा पहली बार नहीं हो रहा है जब भारतीय रिजर्व बैंक ने किसी बैंक के मुखिया का कार्यकाल बढ़ाने से इनकार कर दिया है। इससे पहले एक्सिस बैंक की सीईओ शिखा शर्मा के कार्यकाल को भी बढ़ाने से रिजर्व बैंक ने साफ इनकार कर दिया था। दरअसल बीते कुछ सालों में बैंकिंग सेक्टर में जिस तरह से बैंक एनपीए के बढ़ते बोझ को कम नहीं कर पा रहे हैं। ऐसे में आरबीआई ने बैंकिंग सेक्टर की सेहत को दुरूस्त करने के लिए कई सख्त कदम उठाए हैं।


नई दिल्ली - दशहरा के मौके पर वाहन चालकों व मालिकों के लिए एक अच्छी खबर है कि पेट्रोल और डीजल के दाम में कमी आई है। गुरुवार को पेट्रोल जहां 21 पैसे प्रति लीटर सस्ता हो गया तो डीजल की कीमत भी 11 पैसे प्रति लीटर घट गई। इससे पहले बुधवार को पेट्रोल और डीजल की कीमतें स्थिर रहीं।
इंडियन ऑयल की वेबसाइट से मिली जानकारी के अनुसार, दिल्ली, कोलकाता, मुंबई और चेन्नई में गुरुवार को पेट्रोल का दाम 21 पैसे घटकर क्रमश: 82.62 रुपये, 84.44 रुपये, 88.०8 रुपये और 85.88 रुपये प्रति लीटर हो गया। वहीं, चारों महानगरों में डीजल गुरुवार को क्रमश: 75.58 रुपये, 77.43 रुपये, 79.24 रुपये और 79.93 रुपये प्रति लीटर था।
न्यूज एजेंसी आईएएनएस के अनुसार, उधर, अंतर्राष्ट्रीय बाजार में भी कच्चे तेल की कीमतों में कमी आई है। न्यूयॉर्क मर्केंटाइल एक्सचेंज पर अमेरिकी लाइट क्रूड डब्ल्यूटीआई का भाव गुरुवार को 70 डॉलर प्रति बैरल से नीचे आ गया।
वहीं, ब्रेंट क्रूड भी इंटरकॉन्टिनेंटल एक्सचेंज पर 80 डॉलर प्रति बैरल के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे फिसला। अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव अमेरिका में तेल का भंडार बढ़ने की रिपोर्ट के बाद लुढ़का है।
अमेरिकी एनर्जी इंफॉर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन यानी ईआईए के अनुसार, पिछले सप्ताह अमेरिकी में कच्चे तेल के भंडार में 65 लाख बैरल का इजाफा हुआ और तेल का भंडार 41.61 करोड़ बैरल हो गया।
दशहरा का अवकाश होने के कारण गुरुवार को घरेलू वायदा बाजार में दिन के सत्र के दौरान कारोबार बंद रहा। हालांकि, शाम और देर रात के सत्र के दौरान कारोबार खुला रहेगा।


नई दिल्ली - जेट एयरवेज को संकट से उबारने के लिए टाटा ग्रुप इसमें बड़ी हिस्सेदारी खरीद सकती है। एक अंग्रेजी अखबार के हवाले से यह खबर सामने आई है। हिस्सेदारी खरीदने को लेकर टाटा ग्रुप और जेट एयरवेज के बीच बातचीत की शुरुआत हो चुकी है।
बता दें कि जेट एयरवेज अपने पायलटों को सैलरी देने में लगातार देरी कर चुकी है। इसके अलावा एयरलाइन अन्य कर्मचारियों को भी सैलरी नहीं दे पा रही है। ऐसे में कर्ज के संकट से निकलने के लिए कंपनी अपनी हिस्सेदारी बेचना चाहती है। लेकिन, अब टाटा ग्रुप की पैरंट कंपनी टाटा संस इसे अपने हाथ में लेने का फैसला किया है। हालांकि टाटा ग्रुप ने इसपर कोई कमेंट करने से इनकार किया है, जबकि जेट ने इसे पूरी तरह से काल्पनिक बताया है।
बता दें कि जेट के चेयरमैन नरेश गोयल और उनकी पत्नी अनिता के पास जेट का 51 फीसद शेयर है। टाटा ग्रुप गोयल और उनकी पत्नी से कम-से-कम 26 फीसद हिस्सेदारी खरीदना चाहेगा। इससे उसके पास जेट के अन्य शेयरधारकों से और 26 फीसद शेयर खरीदने का मौका बन जाएगा।
इसके अलावा अबू धाबी की कंपनी एतिहाद एयरवेज की भी जेट में 24 फीसद हिस्सेदारी है। इसी महीने जेट की वित्तीय स्थिति सुधारने के लिए एतिहाद ने जेट को 3.5 अरब डॉलर दिए थे।
गौरतलब है कि टाटा पहले से ही एविएशन सेक्टर में उतरी हुई है। उसके पास दो वेंचर हैं। पहला वेंचर सिंगापुर एयरलाइंस के साथ है जो विस्तारा का संचालन करती है जबकि दूसरे वेंचर से एयर एशिया का संचालन होता है। अगर टाटा जेट की हिस्सेदारी खरीदती है तो एतिहाद जेट की अपनी पूरी या आंशिक हिस्सेदारी बेच सकती है।


नई दिल्ली - रेमंड ग्रुप को खड़ा करने वाले विजयपत सिंघानिया से ग्रुप के मानद चेयरमैन की उपाधि छीन ली गई है। विजयपत और उनके बेटे गौतम सिंघानिया के बीच चल रहा तनाव गहरा गया है। विजयपत को एक पत्र के जरिए सूचना दी गई कि उनसे यह उपाधि छीनी जा रही है।
रेमंड के एक डायरेक्टर ने विजयपत सिंघानिया को एक पत्र भेजकर कंपनी के मानद चेयरमैन का टाइटल इस्तेमाल करने से मना किया था। इस पत्र में लिखा गया कि परिवार में क्या चल रहा है, इससे कंपनी का कोई वास्ता नहीं है और बोर्ड ने सिंघानिया के व्यवहार के कारण उनसे उपाधि छीनने का फैसला किया है। इसके जवाब में सिंघानिया ने लिखा कि जब तक उन्हें हटाने के बोर्ड के फैसले का सबूत नहीं मिलेगा, तब तक वह यह आदेश नहीं मानेंगे।
बता दें कि विजयपत और उनके बेटे गौतम के बीच काफी समय से तनाव चल रहा है। बीते 30 अगस्त को कंपनी के बोर्ड को लिखे लेटर में विजयपत ने उन्हें कंपनी से हटाने के लिए अपने बेटे की चालबाजी का जिक्र किया था। उन्होंने कहा कि उनके बेटे गौतम ने कई कीमती और असाधारण वस्तुएं वापस करने से इंकार कर दिया है।
वहीं गौतम सिंघानिया ने इन आरोपों से इंकार किया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक उन्होंने कहा कि मैं अपने पिता के ऐसे व्यवहार से दुखी हूं। अगर उन्हें कोई समस्या है तो मैं उनके सामने बैठकर सुलझाने को तैयार हूं। उन्होंने कहा कि उनके मानद चेयरमैन नहीं रहने से मेरा कोई लेनादेना नहीं है। यह बोर्ड का फैसला है इसमें मेरी कोई भूमिका नहीं।
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कंपनी के एक अधिकारी ने बताया कि एक साल के भीतर जब कोई लगातार चार बोर्ड मीटिंग में नहीं आता है तो उससे पद छीन लिया जाता है। उन्होंने बताया कि कानून में मानद चेयरमैन की उपाधि की जिक्र नहीं है।

 


नई दिल्ली - एयरलाइन कंपनी एयरएशिया ने त्योहारों के मौसम में टिकट किराए में 70 फीसद तक की छूट की घोषणा की है। इसके साथ ही कंपनी ने स्पेशल प्रोमो ऑफर की भी घोषणा की है। एयरलाइन ने एक विज्ञप्ति जारी कर बताया है कि ग्राहक 15 अक्टूबर, 2018 से 30 जून, 2019 के बीच की यात्रा के लिए 15 अक्टूबर से 28 अक्टूबर, 2018 के बीच बुकिंग कर सकते हैं।
यह ऑफर एयरएशिया के ग्रुप नेटवर्क की ओर से संचालित उड़ानों, यानी एयरएशिया इंडिया (उड़ान कोड आई5), एयर एशिया बेरहाद (उड़ान कोड एके), थाई एयरएशिया (उड़ान कोड एफडी) और एयरएशिया एक्स (उड़ान कोड डी7) पर उपलब्ध है।
एयरलाइन ने बताया है कि डिस्काउंट का लाभ लेने के लिए ग्राहकों को एयरएशिया डॉट कॉम और एयरएशिया मोबाइल ऐप के जरिए बुकिंग करनी होगी। इसके अलावा एयरएशिया बिग सदस्य अपने एयरएशिया बिग पॉइंट्स का उपयोग कर उड़ान सेवा रिडीम करके सेल का लाभ उठा सकते हैं। टिकट बुकिंग के बाद यात्री एयरएशिया की ओर से 21 घरेलू स्थानों जिनमें बेंगलुरु, नई दिल्ली, कोलकाता, कोच्चि, गोवा, जयपुर, चंडीगढ़, पुणे, गुवाहाटी, इम्फाल, विशाखापट्नम, हैदराबाद, श्रीनगर, बागडोगरा, रांची, भुवनेश्वर, नागपुर, इंदौर, सूरत, अमृतसर और चेन्नई आदि के लिए यात्रा कर सकते हैं।
इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय यात्रा के लिए कुआलालम्पुर, बैंकॉक, क्राबी, सिडनी, ऑकलैंड, मेलबर्न, सिंगापुर, बाली एवं कई अन्य स्थानों के लिए भी उड़ान सेवा उपलध है।

नई दिल्ली - फोर्ब्स की ग्लोबल 2000 बेस्ट एम्प्लॉयर्स सूची में शीर्ष 25 ग्लोबल कंपनियों में भारत की सिर्फ एक कंपनी लार्सन एंड टुब्रो को 22वां स्थान मिला है। इस सूची में शीर्ष पर गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट है।वैसे इस सूची में शीर्ष 25 कंपनियों में सिर्फ एलएंडटी को स्थान मिला है। लेकिन शीर्ष 100 कंपनियों में महिंद्रा एंड महिंद्रा 55वें, ग्रासिम इंडस्ट्रीज 59वें और एचडीएफसी 91वें स्थान पर…
नई दिल्ली - देश की प्रमुख ई-कॉमर्स कंपनियों ने त्योहारी मौसम की 'सेल में पांच दिनों में करीब 15,000 करोड़ रुपये का सामान बेचा है। अमेजन इंडिया और फ्लिपकार्ट जैसी दिग्गज कंपनियों का कहना है कि उन्होंने स्मार्टफोन, बड़े उपकरण और फैशन श्रेणी में जोरदार बिक्री दर्ज की है। न्यूज एजेंसी भाषा के अनुसार, रेडसीर कंसल्टिंग ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि ई-कॉमर्स कंपनियों ने 9 से 14 अक्टूबर…
नई दिल्ली - एयरलाइन कंपनी गोएयर घरेलू यात्रा के लिए 1,099 रुपये में टिकट की पेशकश कर रहा है। गोएयर के इस ऑफर का लाभ लेने के लिए ग्राहक टिकट की बुकिंग 15 अक्टूबर 2018 से 16 अक्टूबर 2018 तक कर सकते हैं। जबकि यात्रा की तारीख 8 नवंबर 2018 से 20 दिसंबर 2018 तक है। हालांकि इस प्रस्ताव के तहत, यात्रा अवधि स्थान से अलग हो सकती है। उदाहरण…
नई दिल्ली - केंद्र सरकार ने कुछ दिन पहले ही एक बैठक में पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कटौती करने की घोषणा की थी। लेकिन सरकार की ओर से जो राहत दी गई थी वो अब पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी के बाद उसका प्रभाव अब समाप्त होता नजर आ रहा है।बता दें कि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला लगातार जारी है। सोमवार को…
Page 1 of 220

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें