नई दिल्ली। आप सभी इस बात से अवगत होंगे कि इस समय होम लोन पर ब्याज दर पिछले कई वर्षों के सबसे निचले स्तर पर है। विशेषज्ञों के मुताबिक होम लोन पर कम ब्याज दर और कोरोना महामारी की वजह से आवासीय परिसंपत्तियों के दाम में नरमी की वजह से यह वक्त मकान खरीदने के लिए सबसे उपयुक्त है। अगर आप भी होम लोन पर कोई प्रोपर्टी लेने की सोच रहे हैं तो आपको लोन और उससे संबंधित सभी तरह के प्रोसेस के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। इसकी वजह यह है कि होम लोन किसी भी व्यक्ति के जीवन भर की सबसे बड़ी जवाबदेही में से एक होती है। इसी वजह से होम लोन लेते समय आपको तमाम पहलुओं के बारे में पहले से सभी तरह की जानकारी पहले ही हासिल कर लेनी चाहिए। 

होम लोन लेने से पहले इन बातों का रखें ध्यान:-लोन पर मकान लेने से पहले आपको इस बात को ध्यान में रखना होगा कि आपका बजट कितना है। इसमें इस पहलू को देखना होगा कि आपके पास कितनी मार्जिन मनी पड़ी है और आपको अधिकतम कितना लोन मिल सकता है। इसका साथ ही रजिस्ट्री और पजेशन के लिए आपके पास कितने पैसे पड़े हैं। इससे आपके अपने बजट का अंदाजा लगाने में आसानी होगी। इसी आधार पर अपने लिए घर देखना शुरू कीजिए। 

मकान फाइनल करने के साथ ये डॉक्युमेंट्स भी जुटा लीजिए:-होम लोन देने से पहले लेंडर पूरी तरह संतुष्ट होना चाहते हैं। इसलिए होम लोन के लिए बहुत सारे दस्तावेजों की जरूरत होती है। डॉक्युमेंट्स को हम मुख्य रूप से तीन श्रेणियों में बांट सकते हैं। केवाईसी से जुड़े दस्तावेज, आय से जुड़े प्रमाणपत्र और मकान से संबंधित दस्तावेज।  

आइए देखते हैं होम लोन के लिए जरूरी डॉक्युमेंट्स की पूरी लिस्टः;केवाईसी से जुड़े डॉक्युमेंट्सः पहचान पत्र के लिए आप पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट, आधार कार्ड, वोटर आईडी कार्ड में से किसी एक डॉक्युमेंट का इस्तेमाल कर सकते हैं। वहीं, आयु का प्रमाण पत्र के लिए आप आधार कार्ड, 10वीं की मार्क्सशीट, पैन कार्ड, पासपोर्ट, जन्म प्रमाण पत्र,  में से कोई एक डॉक्युमेंट यूज में ला सकते हैं। दूसरी ओर, आवासीय प्रमाण पत्र के लिए आप बैंक पासबुक, यूटिलिटी बिल्स (टेलीफोन बिल, इलेक्ट्रिसिटी बिल, वाटर बिल, गैस बिल), वोटर आईडी, राशन कार्ड, पासपोर्ट और एलआईसी की पॉलिसी की रसीद जैसे डॉक्युमेंट में से किसी एक को यूज कर सकते हैं।  

आय से जुड़े डॉक्युमेंट्सः अगर आप सैलरीड क्लास से आते हैं तो आप पिछले दो-तीन साल के फॉर्म-16, दो-छह माह की सैलरी स्लिप, पिछले तीन साल का इनकम टैक्स रिटर्न, निवेश से जुड़े प्रुफ (उदाहरण के लिए सावधि जमा, शेयर इत्यादि), इन्क्रिमेंट या प्रमोशन लेटर और पासपोर्ट साइज फोटो जैसे डॉक्युमेंट्स आय के प्रमाणपत्र के रूप में दे सकते हैं। वहीं, अगर आपका खुद का बिजनेस है तो तीन साल का इनकम टैक्स रिटर्न, बिजनेस लाइसेंस विवरण, बैंलेंस शीट और कंपनी का लाभ एवं हानि से जुड़ा अकाउंट स्टेटमेंट (सीए द्वारा प्रमाणित), अगर आप डॉक्टर या कंसल्टैंट हैं तो प्रोफेशनल प्रैक्टिस का लाइसेंस, प्रतिष्ठानों का रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (दुकान, फैक्टरी एवं अन्य प्रतिष्ठान), बिजनेस के पते का सर्टिफिकेट डॉक्युमेंट के रूप में दे सकते हैं।

प्रोपर्टी से जुड़े डॉक्युमेंटः इसमें आपको अलॉटमेंट नंबर, बिल्डर के लेंडर से एनओसी जैसे डॉक्युमेंट की जरूरत होती है।  

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

pr checker

ताज़ा ख़बरें

data-ad-type="text_image" data-color-border="FFFFFF" data-color-bg="FFFFFF" data-color-link="0088CC" data-color-text="555555" data-color-url="AAAAAA">