नई दिल्‍ली। फरवरी से लेकर अगस्‍त तक भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) रेपो रेट में 1.10 फीसद की कटौती कर चुका है। अब बैंकों पर न सिर्फ लोन की ब्‍याज दरें कम करने का दबाव है बल्कि डिपॉजिट रेट भी घटने शुरू हो गए हैं। बैंक और पोस्‍ट ऑफिस के पारंपरिक फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट, रैकरिंग डिपॉजिट या अन्‍य बचत योजनाओं कही तुलना में पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) आज की तारीख में ज्‍यादा आकर्षक बन गया है। पीपीएफ नौकरीपेशा और मध्‍य वर्गीय लोगों के निवेश का पसंदीदा जरिया है। इसकी वजह भी है। इसमें निवेश कर आप इनकम टैक्‍स बचा सकते हैं, इसके ब्‍याज पर टैक्‍स नहीं लगता और मैच्‍योरिटी पर मिलने वाला रिटर्न भी टैक्‍स फ्री होता है।
PPF और FD की ब्‍याज दरें;-पीपीएफ की ब्‍याज दरें अभी आकर्षक हैं, हालांकि जब बैंक रेपो रेट में कटौती को जमा दरों पर प्रभावी करेंगे तो यह और ज्‍यादा फायदे का सौदा बन जाएगा। जुलाई से सितंबर 2019 की तिमाही के लिए PPF की ब्‍याज दरें 7.9 फीसद हैं। दूसरी तरफ, SBI, PNB, बैंक ऑफ बड़ौदा, ICICI Bank और HDFC Bank फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 7.5 फीसद तक के ब्‍याज की पेशकश कर रहे हैं। अभी इनमें और कटौती हो सकती है। आपको बता दें कि जुलाई-सितंबर तिमाही के लिए सरकार ने लघु बचत योजनाओं की ब्‍याज दरों में 0.1 फीसद की कटौती की थी।
लघु बचत योजनाओं की ब्‍याज दरे:-सीनियर सिटिजन सेविंग्‍स स्‍कीम और सुकन्‍या समृद्धि योजना पर मिलने वाली मौजूदा ब्‍याज दरें कमश: 8.6 फीसद और 8.4 फीसद हैं। पीपीएफ और एनएससी पर 7.9 फीसद का ब्‍याज मिल रहा है। वहीं, 1 से तीन साल के पोस्‍ट ऑफिस फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर 6.9 फीसद और 5 साल के एफडी पर 7.7 फीसद का ब्‍याज मिल रहा है। रैकरिंग डिपॉजिट की ब्‍याज दरें फिलहाल 7.2 फीसद हैं। 113 महीने वाले किसान विकास पत्र पर 7.6 फीसद का ब्‍याज मिल रहा है।
बैंकों के एफडी की तुलना में आकर्षक हैं PPF;-अगर आप बैंकों के एफडी से PPF की तुलना करते हैं तो PPF फायदे का सौदा साबित होगा। यह न सिर्फ बैंकों के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट कह तुलना में ज्‍यादा ब्‍याज अर्जित करेगा बल्कि आयकर बचाने में भी मददगार साबित होगा। PPF में निवेश कर आप आयकर अधिनियम की धारा 80सी के तहत 1.5 लाख रुपये तक के निवेश पर कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें