नई दिल्ली। इंटरनेट बैंकिंग ने लेनदेन को जितना आसान बना दिया है, इसके खतरे भी उतने ही ज्यादे हैं। अक्सर ऐसी खबरें देखने सुनने को मिलती हैं जब किसी व्यक्ति के अकाउंट से गलत तरीके से पैसे का लेनदेन हुआ। जालसाजों ने उसे अपने फ्रॉड का शिकार बनाया हो। इसलिए अगर आप भी लेनदेन के लिए UPI, इंटरनेट बैंकिंग या इस तरह के किसी डिजिटल तकनीक का इस्तेमाल करते हैं तो संभल जाइए। हम इस खबर में आपको बता रहे हैं कि जालसाज कैसे अपने जाल में खुद को फंसाते हैं और आप खुद को कैसे सेफ रख सकते हैं। इस खबर में जानिए UPI फ्रॉड से बचने का तरीका।
कैसे होती है धोखाधड़ी:-जालसाज ग्राहकों से फोन पर डेबिट कार्ड की डिटेल्स, फॉरवर्ड टेक्स्ट मैसेजेज, यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (यूपीआई) रजिस्ट्रेशन वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी) आदि साझा करने को कहते हैं। वे इस डेटा का उपयोग आपके खाते के लिए एक नया वर्चुअल भुगतान पता (VPA) आईडी बनाने और लेनदेन करने के लिए MPIN सेट करने के लिए करते हैं। जालसाज ग्राहकों को टेक्स्ट मैसेजेस पर असत्यापित लिंक आदि क्लिक करने के लिए कहते हैं।कॉल या किसी अन्य मीडिया प्लेटफार्म पर कभी भी अपना डेबिट कार्ड नंबर, एक्सपायरी डेट, रजिस्ट्रेशन ओटीपी जैसी डिटेल शेयर न करें। बैंक इस तरह के कोई भी डिटेल आपसे नहीं पूछते हैं। किसी अज्ञात लिंक पर क्लिक करने या किसी भी संदिग्ध एसएमएस को फॉरवर्ड करने से बचें। अपने UPI MPIN को कभी भी किसी के साथ शेयर न करें।

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें