नई दिल्ली। भारतीय स्टेट बैंक कई प्रकार की सेविंग स्कीम की पेशकश करता है, जिसमें एन्युटी में एक साथ निवेश पर एक नियमित समय के लिए मंथली इनकम प्राप्त होती है। एन्युटी पेमेंट में ग्राहक की तरफ से जमा पर ब्याज लगकर एक तय समय बाद इनकम मिलनी चालू होती है।इस स्कीम में न्यूनतम 1000 रुपये मंथली एन्युटी के लिए निवेश किया जा सकता है जो कि 25 हजार रुपये है, वहीं अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। एन्युटी डिपॉजिट 36/60/84 या 120 महीने की अवधि के लिए किया जा सकता है। इन डिपॉजिट पर ब्याज दर जमाकर्ता द्वारा चुने गए कार्यकाल के टर्म डिपॉजिट पर लागू होने वाली होगी। मान लीजिए अगर आप 5 साल के लिए एन्युटी डिपॉजिट करना चाहते हैं तो जमाकर्ता को 5 साल की एफडी पर लागू ब्याज दर दी जाएगी।जमाकर्ता की मृत्यु की स्थिति में समय से पहले ही निकासी की अनुमति मिलती है। इसी के साथ एन्युटी में जमा राशि 75 फीसद तक लोन भी लिया जा सकता है। अगर आप लोन का ऑप्शन चुनते हैं तो भविष्य की एन्युटी की पेमेंट लोन अकाउंट में तब तक जमा होगी जब तक कि पूरा लोन अमाउंट वापस नहीं मिल जाता है।अगर आप 5 साल के लिए 10,000 रुपये की मंथली एन्युटी चाहते हैं तो 7 फीसद की ब्याज दर के अनुसार आपको एन्युटी डिपॉजिट में 507,965.93 रुपये जमा करने होंगे।
एन्युटी RD से कैसे अलग है: एन्युटी डिपॉजिट आरडी का उल्टा है। आरडी में जमाकर्ता हर महीने एक निश्चित राशि जमा करता है और मैच्योरिटी पर एक निश्चित राशि मिलती है। लेकिन एन्युटी डिपॉजिट के मामले में ठीक उल्टा होता है। यहां जमाकर्ता एक साथ अमाउंट जमा करता है और पूरे कार्यकाल के लिए हर महीने एक तय अमाउंट मिलता है।
एन्युटी FD से कैसे अलग है: एफडी के मामले में जमाकर्ता एक विशेष कार्यकाल के लिए एक साथ अमाउंट जमा करता है जैसे कि 1 साल, 2 साल, 5 साल या 7 साल आदि। मैच्योरिटी पर पर ब्याज समेत वह राशि एक साथ वापस मिलती है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें