नई दिल्ली। म्युचुअल फंड्स को बजट 2019 से काफी कुछ मिलने की उम्मीद थी। कई म्यूचुअल फंड अधिकारियों का मानना ​​था कि इंडस्ट्री ने लोन और इक्विटी मार्केट में घरेलू बचत को चैनलाइज करने की अपनी क्षमता को साबित किया है, उम्मीद थी कि सरकार म्युचुअल फंड निवेशकों को प्रोत्साहित करने के लिए उन्हें बढ़ाने के लिए कुछ नई स्कीम पेश करेगी। हालांकि, म्चुयुअल फंड इंडस्ट्री को एक बार फिर निराशा मिली।म्युचुअल फंड इंडस्ट्री वित्त मंत्री से डिमांड की एक लंबी लिस्ट तैयार लेकर खड़ी थी। उनमें से सबसे महत्वपूर्ण था इक्विटी म्युचुअल फंड्स पर लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स का रोल-बैक, जो पिछले बजट में दोबारा पेश किया गया था। हालांकि वित्त मंत्री के बजट भाषण में इसका कोई उल्लेख नहीं मिला। इसी प्रकार, म्युचुअल फंडी इंडस्ट्री पिछले कुछ सालों में टैक्स बेनिफिट के साथ ईएलएसएस और पेंशन उत्पादों की तर्ज पर लोन से जुड़ी सेविंग स्कीम जैसे नए उत्पाद लॉन्च करने के लिए तैयार है। एक अन्य प्रमुख फंड मैनेजर ने कहा कि यह हमारी उम्मीद के विपरीत हुआ। हालांकि हम में से अधिकतर को यकीन नहीं था कि इंडस्ट्री के लिए कोई घोषणा नहीं होगी।वास्तव में, Amfi ने वित्त मंत्री को 23 पेज की विश लिस्ट भेजी थी। इंडस्ट्री स्टेंडर्ड ऑर्गेनाइजेशन ने इक्विटी और डेट म्युचुअल फंड दोनों के लिए 16 प्रमुख प्रस्तावों को लिस्टेड किया था। हालांकि इस बजट में इनमें से किसी भी प्रस्ताव पर कुछ नहीं हुआ था। यह है म्युचुअल फंड इंडस्ट्री के लिए Amfi की बजट विश लिस्ट। कोटक म्युचुअल फंड की सीआईओ-डेब्ट एंड को-हैड प्रोडक्ट लक्ष्मी अय्यर ने कहा कि एक लोन से जुड़ी सेविंग स्कीम (DLSS) ने लोन मार्केट के लिए कई चीजों को सुव्यवस्थित किया होगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हालांकि उधार कार्यक्रम के लिए अंतरराष्ट्रीय बाजारों पर टैप करना एक सराहनीय कदम है।निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा कि सीपीएसई ईटीएफ को ईएलएसएस के अनुरूप लाया जा रहा है यही कदम डायरेक्ट म्युचुअल फंड इंडस्ट्री को प्रभावित करता है, जिसकी इस बजट में घोषणा की गई। ईटीएफ रिटेल इन्वेस्टर्स के लिए एक महत्वपूर्ण निवेश का अवसर साबित हुआ है और भारत सरकार के लिए एक अच्छा साधन बन गया है। इसे और विस्तार देने के लिए सरकार इक्विटी लिंक्ड सेविंग स्कीम (ELSS) की तर्ज पर ईटीएफ में इन्वेस्ट का ऑप्शन पेश करेगी। यह CPSE में लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट के लिए भी प्रोत्साहित करेगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें