नई दिल्ली। देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (SBI) में आप बिना केवाईसी के भी अपना अकाउंट खुलवा सकते हैं। SBI बीएसबीडी स्मॉल अकाउंट की पेशकश करता है। जिनके पास केवाईसी डॉक्यूमेंट्स नहीं होते हैं वह लोग ऐसे अकाउंट खुलवा सकते हैं। एसबीआई की वेबसाइट के अनुसार, इस अकाउंट का उद्देश्य समाज के गरीब तबके को बचत के लिए प्रोत्साहित करना है। इस अकाउंट को 18 वर्ष से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति खुलवा सकता है। केवाईसी प्रक्रिया न होने के कारण इस अकाउंट के संचालन में कुछ प्रतिबंध हैं, लेकिन केवाईसी प्रक्रिया होने के बाद इसे सामान्य सेविंग अकाउंट में परिवर्तित किया जा सकता है।इस अकाउंट का सबसे महत्वपूर्ण फीचर यह है कि इस अकाउंट में किसी प्रकार के न्यूनतम औसत बैलेंस (AMB) बरकरार रखने की आवश्यकता नहीं है। इस अकाउंट में अधिकतम बैलेंस 50 हजार रुपये तक रखा जा सकता है। ध्यान देने वाली बात यह है कि अगर इस अकाउंट में अधिकतम बैलेंस 50 हजार से ज्यादा या एक वित्त वर्ष में 1 लाख से अधिक क्रेडिट होता है तो उसके बाद की सभी ट्रांजेक्शन केवाईसी प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही होंगी। इस अकाउंट को सिंगल या ज्वाइंट तौर पर खुलवाया जा सकता है। यह अकाउंट स्पेशल ब्रांच जैसे पर्सनल बैंकिंग ब्रांच (PBBs), स्पेशल पर्सनल बैंकिंग (SPB), मिड कॉरपोरेट ग्रुप (MCG), कॉर्पोरेट अकाउंट ग्रुप (CAG) ब्रांच को छोड़कर सभी ब्रांच में उपलब्ध है।इस अकाउंट के साथ सभी अकाउंट होल्डर्स को बेसिक रूपे एटीएम-कम-डेबिट कार्ड फ्री में मिलता है, जिसके साथ कोई मेंटेनेंस चार्ज भी नहीं लगता है। इस अकाउंट में NEFT और RTGS के जरिए भी पैसों का क्रेडिट बिल्कुल फ्री है। अकाउंट बंद करवाने पर कोई भी चार्ज नहीं लगता है। इस अकाउंट से एक माह में अधिकतम 4 बार निकासी की जा सकती है, जिसमें एसबीआई बैंक एटीएम और अन्य बैंक की निकासी, NEFT और RTGS के जरिए निकासी, ब्रांच से कैश निकासी, ट्रांसफर, इंटरनेट डेबिट और ईएमआई आदि शामिल हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें