नई दिल्ली। यूरोपियन काउंसिल के प्रेसिडेंट डोनाल्ड टस्क का कहना है कि यूरोपियन यूनियन (ईयू) को बिट्रेन को ब्रेग्जिट में एक वर्ष की देरी का सुझाव देने पर विचार करना चाहिए। उन्हें यह भी विकल्प भी देना चाहिए कि अगर डील पहले हो जाती है तो वे ईयू को पहले भी छोड़ सकें। यह खबर बीबीसी के हवाले से सामने आई है। उन्होंने कहा कि इसकी संभावना कम ही नजर आती है कि ब्रेग्जिट डील को उस बढ़ी हुई डेडलाइन तक मंजूरी मिल पाएगी, जिसे 30 जून तक बढ़वाने के लिए टेरीजा मे ने आग्रह किया था।यूरोपियन यूनियन के नेताओं को पत्र लिखते हुए उन्होंने कहा कि किसी भी देरी में कुछ शर्तें शामिल होनी चाहिए। बुधवार को एक शिखर सम्मेलन में प्रस्तावों पर मतदान करने के लिए अब यह पूरी तरह से यूरोपियन यूनियन के सदस्यों पर निर्भर है।हाउस ऑफ लॉर्ड्स के सांसदों ने बिल को दी मंजूरी, टेरीजा मे ब्रेग्जिट में देरी को हुईं मजबूर: ब्रिटेन के हाउस ऑफ लॉर्ड्स ने सोमवार को उस कानून को मंजूरी दे दी, जो कि संसद को प्रधानमंत्री टेरीजा मे के उस आग्रह को जांचने और उसे बदलने का अधिकार देगा, जिसमें उन्होंने कहा है कि यूरोपीय संघ 30 जून तक ब्रेग्जिट में देरी के लिए सहमत है। यह खबर रॉयटर्स के हवाले से सामने आई है।यह कानून, जिसे सरकार के विरोध के बावजूद पारित किया जा रहा है, उसे आगे के विचार के लिए इस दृष्टि से निर्वाचित हाउस ऑफ कॉमन्स में भेजा जाएगा कि सोमवार को उसे कानून में बदला जा रहा है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें