नई दिल्ली। अगर आप किसी ऐसे मौके की तलाश में हैं जहां आप लाखों की कमाई कर सकें तो सरकारी तेल कंपनियां आपको ऐसा मौका दे रही हैं। दरअसल सरकारी तेल कंपनियां देश में 25,000 नए पेट्रोल पंप के लाइसेंस देने जा रही हैं। यह पहला मौका है जब इतनी बड़ी संख्या में पेट्रोल पंप खोले जा रहे हैं, ऐसे में आपके पास भी लाखों की कमाई करने का मौका है। गौरतलब है कि वर्तमान में देश में 57,000 पेट्रोल पंप संचालन में हैं।ऐसे में जब इतनी बड़ी संख्या पेट्रोल पंप खोले जाने हैं, उन लोगों के लिए बड़ा मौका है जो कम निवेश कर बड़ा रिटर्न पाने की तमन्ना रखते हैं। इसके अलावा खुलने वाले नए पेट्रोल पंप पर लाखों लोगों को रोजगार के भी मौके मिलेंगे। बेहतर बात यह है कि इस बार पेट्रोल पंप खोले जाने के नियम भी आसान किए गए हैं। तेल मंत्रालय ने पेट्रोल पंप डीलर्स की नियुक्ति से जुड़ी सरकारी नीति को खत्म करते हुए इसके अधिकार तेल विपणन कंपनियों को दे दिए हैं। अब ये कंपनियां हीं इससे जुड़े नियम व शर्तों का निर्धारण कर सकेंगी। नियमों के मुताबिक आवेदक के पास जमीन होना अब जरूरी नहीं है। साथ ही बैंक डिपॉजिट की शर्तों में भी कुछ ढील दी गई है।
आवेदकों को क्या करना होगा?;-ऐसे लोग जो भी पेट्रोल पंप का लाइसेंस पाना चाहते हैं उन्हें सरकारी कंपनियों जैसे कि इंडियन ऑयल, हिंदुस्तायन पेट्रोलियम और भारत पेट्रोलियम से संपर्क करना होगा। इसके लिए जल्द ही विज्ञापन जारी किया जा सकता है। एचपीसीएल/बीपीसीएल/आईओसी ने लाइसेंस जारी करने से जुड़े नियमों को लगभग पूरा कर लिया है।
कहां खुलेंगे पेट्रोल पंप और कितनों का मिलेगा रोजगार?:-जानकारी के लिए आपको बता दें कि सरकारी तेल विपणन कंपनियां लगभग 4 साल के अंतराल के बाद नए डीलर्स की नियुक्तियां करने जा रही हैं। दिलचस्प बात यह है कि जो भी नए पेट्रोल पंप खुलेंगे उनमें से अधिकांश ग्रामीण क्षेत्रों में होंगे। यहां पर करीब 2.50 लाख लोगों को रोजगार मिलने की उम्मीद है।
नियमों में मिली ढील?;-पूर्व के नियमों की बात करें तो रेगुलर आउटलेट्स को पहले बैंक डिपॉजिट के रुप में शहरों में 25 लाख रुपये और ग्रामीण क्षेत्रों में 12 लाख रुपये जमा कराने की जरूरत होती थी, लेकिन नए नियमों में इस शर्त को खत्म कर दिया गया है। इसके अलावा पेट्रोल पंप के लिए खुद की जमीन होने की शर्त को भी खत्म कर दिया गया है।पेट्रोल पंप किसे मिलेगा इसका निर्धारण ऑनलाइन और ड्रॉ के जरिए किया जाएगा। सिक्योरिटी डिपॉजिट की 10 फीसद राशि जमा करने के बाद विजेताओं की योग्यता जांची जाएगी। यह पूरी चयन प्रक्रिया ऑनलाइन माध्यम से की जाएगी।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें