नई दिल्ली। रिलायंस कम्युनिकेशन्स एंटरप्राइजेज ने आरकॉम में अपनी 4.52 फीसद हिस्सेदारी को इंडसइंड बैंक के पास गिरवी रखा है। इसमें कुल 12.50 करोड़ शेयर्स को गिरवा रखा गया है। यह जानकारी नियामकीय फाइलिंग के जरिए सामने आई है।जानकारी के लिए आपको बता दें कि रिलायंस कम्युनिकेशन्स एंटरप्राइजेज (आरसीई) के आर कॉम में करीब 49.06 करोड़ शेयर्स हैं, जो कि कुल हिस्सेदारी का 17.74 फीसद हिस्सा हैं। इनमें से 4.85 फीसद शेयर्स को पहले ही गिरवी रखा जा चुका है।अब 22 मार्च को गिरवी रखे गए शेयरों के बाद आरसीई की ओर से कुल 9.37 फीसद शेयरों को गिरवी रख दिया गया है। यानी कुल 25.90 करोड़ शेयर्स को गिरवी रखा जा चुका है।सोमवार दोपहर आरकॉम के शेयर्स का हाल: सोमवार को दोपहर के 12 बजकर 54 मिनट पर आरकॉम का शेयर बीएसई पर 4.89 फीसद की गिरावट के साथ 5.06 रुपये प्रति शेयर के स्तर पर कारोबार करता देखा गया।एरिक्सन विवाद में बड़े भाई ने की अनिल अंबानी की मदद: हाल ही में मुकेश अंबानी ने एरिक्सन बकाया मामले में अनिल अंबानी का मुश्किल वक्त में साथ दिया था। बड़े भाई की मदद से ही अनिल अंबानी की आरकॉम सुप्रीम कोर्ट की ओर से तय की गई डेडलाइन से ठीक एक दिन पहले एरिक्सन का 550 करोड़ रुपये का बकाया भुगतान करने में सफल रही थी। आरकॉम ने एरिक्सन को कुल करीब 580 करोड़ रुपये का भुगतान किया है, जिसमें ब्याज की रकम भी शामिल रही।गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने रिलायंस कम्युनिकेशंस के चेयरमैन अनिल अंबानी को अवमानना का दोषी करार देते हुए चार हफ्तों के चार हफ्तों के भीतर एरिक्सन की 453 करोड़ रुपये की बकाया राशि का भुगतान करने का आदेश दिया था। कोर्ट ने कहा था कि अगर वह ऐसा करने में नाकाम रहते हैं, तो उन्हें तीन महीने के लिए जेल जाना पड़ सकता है।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें