नई दिल्ली। अधिग्रहण की कोशिशों से आईटी कंपनी माइंडट्री को बचाने के लिए कंपनी के पूर्व सह संस्थापकों में से एक सुब्रतो बागची ने सरकारी सेवा से इस्तीफा दे दिया है।बागची ओडिशा स्किल डिवेलपमेंट अथॉरिटी के प्रमुख के पद पर काम कर रहे थे। उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा, 'माइंडट्री का जबरन अधिग्रहण किए जाने की कोशिश की वजह से मैंने (ओडिशा) सरकार से इस्तीफा दिया है। ताकि मैं वहां जाकर कंपनी को बचा सकूं।'बागची अब बेंगलुरू जाएंगे, जहां कंपनी का मुख्यालय है। उन्होंने कहा, 'मुझे उस पेड़ को उन लोगों से बचाना है, जो बुलडोजर और आरी लेकर उसे खत्म करना चाहते हैं, ताकि उस जगह पर शॉपिंग मॉल का निर्माण किया जा सके।'माइंडट्री को राष्ट्रीय संपत्ति बताते हुए बागची ने कहा कि यह ऐसी ''संपत्ति'' नहीं है, जिसे बेचा और खरीदा जा सके।बागची ने कहा, 'मुझे मुश्किल के समय में वहां होना चाहिए। इसलिए मैंने लौटने का मुश्किल निर्णय लिया है।'गौरतलब है कि माइंडट्री के सबसे बड़े शेयरधारक अपनी हिस्सेदारी को बेचने के लिए कथित रूप से प्रतिस्पर्धी कंपनी से बातचीत कर रहे हैं।बागची ने 1999 में माइंडट्री की स्थापना की थी । 2016 में वह कंपनी के एग्जिक्यूटिव चेयरमैन के पद से इस्तीफा अपने गृह राज्य ओडिशा लौट आए थे।एक अंग्रेजी अखबार में छपी खबर के मतुबाकि लार्सन एंड टुब्रो, माइंडट्री के सबसे बड़े शेयरधारक वी जी सिद्धार्थ की हिस्सेदारी खरीदने की तैयारी में है।डॉलर की कमजोरी और निवेशकों के भरोसे से रुपया 7 महीनों की ऊंचाई पर, आगे और होगा मजबूत!टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक माइंडट्री में नियंत्रण हिस्सेदारी लेने के लिए लार्सन एंड टुब्रो 70,000 करोड़ रुपये की मदद से ओपन ऑफर लाने की योजना पर काम कर रही है। अधिग्रहण की कोशिश को रोकने के लिए माइंडट्री शेयर बॉयबैक की योजना बना रही है। कंपनी ने इस हफ्ते बोर्ड की बैठक बुलाई है।स्टॉक एक्सचेंज को दी गई जानकारी में माइंडट्री ने बताया है कि कंपनी की बोर्ड मीटिंग 20 मार्च को होगी, जिसमें शेयर बॉयबैक पर विचार किया जाएगा। माइंडट्री ने इससे पहले 2017 में बॉयबैक किया था। सोमवार को बीएसई में कंपनी का शेयर करीब एक फीसद से अधिक की तेजी के साथ ट्रेड कर रहा है।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें