नई दिल्ली। राजस्व संग्रह को अधिकतम करने के लिए आयकर विभाग को अपनी कमर कस लेना चाहिए और साथ ही उसे देश में करदाताओं (टैक्स पेयर्स) की संख्या बढ़ाने के लिए भी काम करना चाहिए। यह बात केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) के नए प्रमुख ने अधिकारियों के साथ पहली औपचारिक बातचीत में कही है।सीबीडीटी के नए प्रमुख पीसी मोदी, ने कर अधिकारियों से कहा है कि वो "छोटे करदाताओं" की शिकायतों एवं समस्याओं के निवारण के लिए विशेष प्रयास करें और साथ ही वो अधिक पारदर्शिता और जवाबदेही के साथ काम करें। केंद्र सरकार ने इस महीने की शुरुआत में ही मोदी को सीबीडीटी के प्रमुख के रुप में नियुक्त किया है। उन्होंने आयकर विभाग की नीति निर्णायक इकाई का कार्यभार 15 फरवरी को संभाल लिया था। उन्होंने सुशील चंद्रा की जगह ली है जिन्हें चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है।मोदी ने अपने आधिकारिक पत्र में कर विभाग के क्षेत्रीय प्रमुखों से कहा, "हमारी पहली प्राथमिकता राजस्व संग्रह बढ़ाने की होनी चाहिए। हमें कर आधार को व्यापक और गहरा करने की जरूरत है, ताकि भौतिक एवं मानवीय संसाधनों के अधिकतम उपयोग को सुनिश्चित किया जा सके।"26 फरवरी के पत्र में कहा गया कि देश में कर आधार को बड़ा करने के प्रयास कर अधिकारियों की ओर से बिना किसी को परेशान करते हुए किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि कर विभाग को वित्त वर्ष 2018-19 में प्रत्यक्ष कर श्रेणी के अंतर्गत 11.5 लाख करोड़ रुपये का राजस्व जुटाने का बजटीय लक्ष्य दिया गया है।

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें