नई दिल्ली। चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में नियुक्ति एवं उत्पादन परिदृश्य के बेहतर होने का अनुमान है, जबकि अक्टूबर दिसंबर तिमाही के दौरान मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में वैश्विक मांग कारकों के चलते निर्यात पर असर देखने को मिल सकता है। यह अनुमान फिक्की के एक सर्वेक्षण में लगाया गया है।इंडस्ट्रियल बॉडी की ओर से जारी किए गए बयान में कहा गया कि विनिर्माण क्षेत्र के बारे में फिक्की का ताजा तिमाही सर्वेक्षण नियुक्ति एवं उत्पादन परिदृश्य के बेहतर होने का संकेत देता है। इस सर्वे के अंतर्गत विनिर्माण क्षेत्र के लिए चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर 2018-19) में 54 फीसद लोगों ने बेहतर परिदृश्य की बात की है। पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही के सर्वेक्षण में अच्छे परिदृश्य की बात 47 फीसद लोगों ने की थी। वहीं इसी तरह उत्पादन कम रहने का पक्ष लेने वाले लोगों का फीसद पिछले साल के 15 फीसद (2017-18) से कम होकर 13.5 फीसद (2018-19) पर आ गया है।ठीक इसी तरह अगर नियुक्ति के मोर्चे पर देखा जाए तो निकट भविष्य में सेक्टर के दृष्टिकोण में थोड़ा सुधार हुआ है। वित्त वर्ष 2017-18 की तीसरी तिमाही में सर्वेक्षण में 70 फीसद लोगों ने अतिरिक्त नियुक्ति नहीं करने की बात की थी जबकि वित्त वर्ष 2018-19 की तीसरी तिमाही के सर्वेक्षण में 65 फीसद ने ही माना है कि नियुक्तियां कम होंगी। इस सर्वे में आगे कहा गया कि नियुक्ति परिदृश्य में आगे भी सुधार होगा।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें