नई दिल्ली। संकट में फंसी विमानन कंपनी जेट एयरवेज ने गुरुवार को कहा कि लीज किराये का भुगतान नहीं होने की वजह से उसे चार विमानों को खड़ा करना पड़ा है। गंभीर वित्तीय संकट से जूझ रही कंपनी कर्ज पुनर्गठन और धन जुटाने का प्रयास कर रही है। शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कंपनी ने कहा कि लीज करार के तहत जिन कंपनियों ने विमान किराये पर दिया है उनके भुगतान नहीं होने की वजह से उसे चार विमानों को खड़ा करना पड़ा है।जेट ने कहा, 'जिन कंपनियों से हमने विमान किराये पर लिए हैं उन कंपनियों को अपने वित्तीय स्थिति के बारे में लगातार जानकारी दे रहे हैं।' कंपनी ने कहा कि वह विमान खड़े होने की वजह से यात्रियों को हो रही परेशानियों को कम करने के लिए हर संभव कोशिश कर रही है साथ ही उनके लिए दूसरे विमानों की व्यवस्था कर रही है। जेट ने कहा कि वह इस संबंध में नागरिक उड्डयन महानिदेशालय को लगातार अपडेट दे रही है।गौरतलब है कि पिछले दिनों लीजिंग कंपनियों के किराए का भुगतान नहीं होने पर जेट को अपने तीन विमान खडे़ करने पड़े थे, इस पर कंपनी ने गुरुवार को जानकारी देते हुए बताया कि इंजन के सामान्यीकरण के लिए जिन तीन विमानों को खड़ा किया गया था, वे वापस परिचालन में हैं।विमानन कंपनी की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक जेट एयरवेज समूह फिलहाल 124 विमानों के बेड़े का संचालन करता है।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें