नई दिल्ली। बैंक से हर किसी का वास्ता होता है, हमारे बीच में ऐसे बहुत कम लोग होंगे जिनका बैंक में खाता न हो। बैंक के कामकाज को लेकर हमें कई बार शिकायत भी रहती है। हालांकि बैंक में शिकायत के निपटारे के लिए खास व्यवस्था है, लेकिन कई बार सही जवाब न मिलने से ग्राहक असंतुष्ट रहते हैं। अगर आपके साथ भी ऐसी कोई समस्या रही है जिसे आप बैंक लेकर गए हों और बैंक के जवाब से आप संतुष्ट न हों ऐसे में आपको क्या करना चाहिए। हम इस खबर में आपको इससे जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।
क्या करें:-अगर बैंक की ओर से शिकायत निपटारे की प्रक्रिया से आप असंतुष्ट हैं तो आप बैंकिंग ओम्बड्समैन (बीओ) के पास जा सकते हैं। लेकिन बैंक ओम्बड्समैन (बीओ) ऑफिस जाने से पहले अपने बैंक के पास शिकायत दर्ज कराएं। अगर बैंक से आपको 30 दिनों के भीतर कोई जवाब नहीं आता है या आप बैंक के जवाब से संतुष्ट नहीं हैं तो ओम्बड्समैन के पास जा सकते हैं। याद रखें बैंक से जवाब मिलने के एक साल के भीतर इस तरह की शिकायत करनी होगी।हालांकि आपको उसी बैंकिंग ओम्बड्समैन के पास शिकायत दर्ज कराना होगा जिसके अधिकारक्षेत्रा में ब्रांच या बैंक का ऑफिस आता हो। कार्ड या केंद्रीय ऑपरेशनों से जुड़ी शिकायतों के लिए बिलिंग एड्रेस से बैंकिंग ओम्बड्समैन का अधिकार क्षेत्र तय होगा।
कैसे करें:-लिखित शिकायत के लिए आपको www.bankingombudsman.rbi.org.in पर उपलब्ध फॉर्म को डाउनलोड कर उसे पूरा भरना होगा। इसमें नाम, पता, शिकायत से जुड़ी जानकारी भरनी होगी। इसके अलावा शिकायत फॉर्म के साथ अपने पक्ष में दस्तावेज जमा करना होगा। आप चाहें तो नीचे दिए लिंक की मदद से ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते हैं।आपकी ओर से शिकायत जाने पर बैंकिंग ओम्बड्समैन आपके मामले की जांच करेंगे। यदि आप ओम्बड्समैन के आदेश से भी संतुष्ट नहीं हैं तो कंज्यूमर कोर्ट जा सकते हैं।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें