नई दिल्ली। हेल्थ इंश्योरेंस लेने के कई फायदे हैं, इससे आपके हॉस्पिटल ने भर्ती होने, इलाज से लेकर सब कुछ कवर हो जाता है। लेकिन आपको ध्यान रखना होगा कि आप जो पॉलिसी ले रहे हैं वह आपके लिए पूरा उपयुक्त है। इसके लिए आपको पॉलिसी के टर्म एंड कंडीशन का पूरा ख्याल रखना होगा। हम इस खबर में कुछ ऐसे ही नियम और शर्तों का जिक्र कर रहे हैं।
वेटिंग पीरियड:-यह पहली बात है जिसका ध्यान रखना जरूरी है। हर इंश्योरेंस पॉलिसी का एक वेटिंग पीरियड होता है। जो कि एक निश्चित समय के बार में बताता है। यदि आपके इंश्योरेंस पॉलिसी का वेटिंग पीरियड 60 दिन है और आप 30 नवंबर 2018 को पॉलिसी खरीद रहे हैं तो आप इस पर 29 जनवरी 2018 के बाद क्लेम कर सकते है।
कमरे के किराए के प्रावधान:-यदि आपको अस्पताल में भर्ती होना है, तो आपकी बीमा कंपनी आपके अस्पताल के कमरे की लागतों को कवर करेगी। लेकिन, यह कुछ हद तक ही कवर किया जाता है। इसलिए इस बारे में पता लगाना बहुत जरूरी है कि प्रति दिन कवरेज की सीमा क्या है क्योंकि आपको किसी भी अतिरिक्त लागत को कवर करना होगा। यदि आपके कमरे का किराया कवरेज बहुत कम है, तो आपका जेब खर्च कमरे के साथ-साथ अन्य चिकित्सा शुल्क से ज्यादा हो जाएगा।
बड़ा नेटवर्क:-उन अस्पतालों और क्लीनिकों की लिस्ट देखें जहां आपकी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी कैशलेस उपचार देती है। कैशलेस अस्पतालों का नेटवर्क जितना बड़ा होगा, आपकी स्वास्थ्य नीति उतनी ही उपयोगी होगी। इसके अलावा, कैशलेस सुविधा का मतलब है कि आपको दावों की प्रक्रियाओं पर बातचीत नहीं करनी होगी।
इलाज के पहले और बाद में होने वाले खर्चों को याद रखें:-यदि आपकी कोई सर्जरी होनी है तो आपको पहले से डॉक्टर से इस बारे में राय लेनी होगी, टेस्ट से गुजरना होगा और शायद एक दिन पहले अस्पताल में भर्ती भी होना पड़े। इसी तरह, सर्जरी के बाद, आपको पोस्ट ऑपरेटिव देखभाल के लिए कुछ दिनों के लिए अस्पताल में भर्ती रहना होगा, जिसमें डॉक्टर, जांच और दवाएं भी शामिल होंगे। इसलिए, यह जरूरी है कि आपकी स्वास्थ्य नीति इलाज के प्रक्रियाओं के अतिरिक्त इन खर्चों को कवर करे।

 

 

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें