नई दिल्ली - रेल यात्रियों को अब ताजा और गर्म भोजन परोसा जाएगा। इसके लिए सभी मेल-एक्सप्रेस ट्रेनों की पेंट्रीकार को नया स्वरूप देने की तैयारी है। सरकार ने पेंट्रीकार की मरम्मत और रखरखाव का काम आईआरसीटीसी को सौंपने का निर्णय लिया है।
रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्वनी लोहानी की मंजूरी के बाद 6 नवंबर को सभी जोन रेलवे के महाप्रबंधकों को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। इसमें उल्लेख है कि आईआरसीटीसी के लिए चलती ट्रेन में यात्रियों को गर्म, ताजा और स्वच्छ भोजना परोसना बड़ी चुनौती है।
इस समस्या को देखते हुए पेंट्रीकार को नया स्वरूप देने के साथ मरम्मत-रखरखाव का काम आईआरसीटीसी को सौंपा जाएगा।
पेंट्रीकार में तकनीकी, यांत्रिक, विद्युत आदि खराबी होने पर उसकी मरम्मत और ठीक करने का काम रेलवे करता है। रेलवे में भी पृथक नौ विभाग हैं। इस जटिलता से पेंट्रीकार को ठीक होने में काफी वक्त लगता है। परिणाम स्वरूप यात्रियों को बासी, अस्वच्छ खाना और ठंडा खाना परोसा जाता है। मरम्मत कार्य आईआरसीटीसी के पास आने से समस्या समाप्त हो जाएगी।
200-250 करोड़ रुपये की लागत से 350 पेंट्रीकार को नया स्वरूप दिया जाएगा। इससे पेंट्रीकार में खाना पकाने नए उपकरण, आटा गूंदने की मशीन, भंडारण के लिए फ्रिज, डीप फ्रीजर, कॉफी मशीन, हॉटकेस आदि अहम बदलाव किए जांएगे।
आईआरसीटीसी प्रवक्ता सिद्धार्थ सिंह ने कहा- पेंट्रीकार की मेंटेनेंस विभाग के लिए बड़ी समस्या थी। विभाग अपनी सुविधा के अनुसार पेंट्रीकार को माडर्न बना सकेगा। वहीं, जरूरत के मुताबिक समय पर पेंट्रीकार की मरम्मत संभव होगी। इसका फायदा रेल यात्रियों को मिलेगा।
पेंट्रीकार की भीतरी साजसज्जा भी बदलेगी
पेंट्रीकार की भीतरी साजसज्जा और प्रकाश व्यवस्था आदि में बदलाव किए जाएंगे। इस बदालव से आईआरसीटीसी पेवेशर तरीके से खानपान सेवा के उच्च मानदंड स्थापित कर पाएगी। आईआरसीटीसी को सहायोग के लिए रेलवे ने अगले पांच सालों तक खानपान लाइसेंस से होने वाले राजस्व को 15: 85 फीसदी लेने का फैसला किया है। .

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें