नई दिल्ली। भारतीय बैंकों से करोड़ों का कर्ज लेकर लंदन भागे शराब कारोबारी विजय माल्‍या ने सोमवार को स्पेशल कोर्ट में कहा कि वह बैंकों का कर्ज लौटाना चाहते थे, लेकिन प्रवर्तन निदेशालय (ED) की वजह से वह ऐसा नहीं कर पाए। माल्या PMLA कोर्ट में जज एमएस आजमी के सामने ईडी के एक ऐप्लिकेशन का जवाब दे रहे थे।माल्या ने कहा कि हम चाहते थे कि बैंक का कर्ज वापस किया जाए, 2-3 वर्षों से हम कर्ज लौटने की कोशिश भी कर रहे थे लेकिन, ईडी ने इसमें रुकावट खड़ी की। बता दें कि विजय माल्या अभी यूके में हैं और उनपर बैंकों के साथ 9,000 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है।मिली जानकारी के मुताबिक माल्या पीएमएचए कोर्ट में जज एमएस आजमी के सामने ईडी के एक आवेदन का जवाब दे रहे थे। ईडी ने मांग की थी कि माल्या को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया जाए।इस पर आपत्ति जताते हुए माल्या ने कहा कि ईडी की यह याचिका और संपत्तियों को जब्त करने का प्रयास जनता और राष्ट्र के हितों के लिए सही नहीं है। उन्होंने कहा कि मैं प्रत्यर्पण प्रक्रिया में कोर्ट के साथ यूके प्रशासन का भी लगातार साथ दे रहा हूं। शराब कारोबारी ने कहा कि मैं जहां रहता हूं, वहां के कानून का साथ दे रहा हूं। ऐसे में मुझे भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करना सही नहीं है।बता दें कि यूके में माल्या के प्रत्यर्पण की सुनवाई पूरी हो गई है और 10 दिसंबर को इस पर फैसला आना है। माल्या की मांग की है कि यूके में प्रत्यर्पण पर फैसला आने तक यह सुनवाई आगे बढ़ाई जाए।

Share this article

AUTHOR

Editor

हमारे बारे में

नार्थ अमेरिका में भारत की राष्ट्रीय भाषा 'हिन्दी' का पहला समाचार पत्र 'हम हिन्दुस्तानी' का शुभारंभ 31 अगस्त 2011 को न्यूयॉर्क में भारत के कौंसल जनरल अम्बैसडर प्रभु दियाल ने अपने शुभ हाथों से किया था। 'हम हिन्दुस्तानी' साप्ताहिक समाचार पत्र के शुभारंभ का यह पहला ऐसा अवसर था जब नार्थ अमेरिका में पहला हिन्दी भाषा का समाचार पत्र भारतीय-अमेरिकन्स के सुपुर्द किया जा रहा था। यह समाचार पत्र मुख्य सम्पादकजसबीर 'जे' सिंह व भावना शर्मा के आनुगत्य में पारिवारिक जिम्मेदारियों को निर्वाह करते हुए निरंतर प्रकाशित किया जा रहा है Read more....

ताज़ा ख़बरें